Skip to main content

Posts

Featured Post

पेयजल के लिए जलापूर्ति का

  भोपाल। संभागायुक्त कवीन्द्र कियावत ने भोपाल शहर में कोलार डेम से पेयजल आपूर्ति 61.32 एमसीएम से बढ़ाकर 72 एमसीएम करने के लिए राज्य शासन को प्रस्ताव भेजने के निर्देश दिए है। श्री कियावत ने शुद्ध एवं स्वच्छ पेयजल आपूर्ति के संबंध में बुधवार को जल आपूर्ति की समीक्षा कर रहे थे।श्री कियावत ने नगर निगम, जल संसाधन और पीएचई के अधिकारियों को निर्देश दिये है कि इस संबंध में सभी आवश्यक समीक्षा कर लें और प्रस्ताव बनाकर प्रस्तुत करें। उन्होंने कहा कि शहर में पेयजल के लिए सुगम जलापूर्ति बनाये रखने के लिए पानी की आपूर्ति को बढ़ाना आवश्यक है और इसके लिए कोलार डेम से जल आपूर्ति बढ़ाने का प्रस्ताव बनाकर राज्य शासन को भेजना आवश्यक है। उन्होंने इस कार्य को पहली प्राथमिकता से करने के निर्देश दिए हैं।  बैठक में नगर निगम, आयुक्त केवीएस चौधरी, अधीक्षण यंत्री जल संसाधन विभाग (कोलार उप संभाग) एन.एन. गांधी, कोलार परियोजना कार्यपालन यंत्री स हर्षा जैनवाल, नगर निगम के जल आपूर्ति शाखा के अधिकारी उपस्थित रहे
Recent posts

महिलाओं को कोरोना से बचाव के लिए जागरूकता अभियान चलाया

 भोपाल । जिला प्रशासन के नेतृत्व में जिले में लगातार कोरोना जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। शहर में हो रहे प्रत्येक आयोजन में मास्क लगाने और सोशल डिस्टेंस का पालन कराने के बारे में समझाईश दी जा रही है। कलेक्टर अविनाश लवानिया ने सभी विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिये है कि विभाग के प्रत्येक आयोजन में कोरोना जागरूकता के बारे में बताया जाए। महिला हिंसा के खिलाफ जागरूकता कार्यशाला अन्ना नगर में हुई। उपस्थित महिलाओं को रोको- टोको अभियान के अंतर्गत कोरोना संक्रमण से बचने के लिए जानकारी दी गई और सार्वजनिक जगहों पर मास्क अनिवार्य रूप से लगाने, सोशल डिस्टेंस बनाये रखने और दो गज की दूरी बनाये रखने के बारे में बताया गया। संस्था संगिनी द्वारा महिला हिंसा के खिलाफ पखवाड़ा के आयोजन मं किशोरियों के साथ छेड़-छाड़ के खिलाफ कानून पर चर्चा की गई और रोको टोको के तहत कोरोना से बचाव के बारे में जागरूकता की गई। पिपलानी 40 क्वार्टर में किशोरियों के साथ महिला हिंसा के खिलाफ जागरूकता और रोको टोको के तहत जागरूकता की गई। कोरोना वायरस के प्रति जागरूकता लाने के उद्देश्य से शुरू किए गए रोको टोको अभियान में सभ

फसल बीमा 31 दिसम्बर

 भोपाल । प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत जिले में भी रबी मौसम 2020-21 की फसलों के लिये किसान 31 दिसम्बर तक अपनी फसल का बीमा करा सकते हैं। जिले में एग्रीकल्चर इंश्योरेंस कंपनी ऑफ इंडिया लिमिटेड के माध्यम से प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत रबी फसल का बीमा किया जा रहा है। ऋणी कृषकों का संबंधित वित्तीय संस्था के माध्यम से फसल बीमा किया जाएगा। अऋणी कृषक बैंक अथवा सीएससी के माध्यम से फसल का बीमा करवा सकते हैं। उप संचालक किसान कल्याण तथा कृषि विकास ने बताया कि मुताबिक फसल बीमा कराने के लिये भू-अधिकार पुस्तिका, ग्राम पंचायत सचिव अथवा पटवारी द्वारा जारी बोवाई प्रमाण-पत्र, पहचान पत्र के रूप में आधारकार्ड, राशनकार्ड अथवा पेन कार्ड, बैंक पासबुक, मोबाइल फोन नम्बर के साथ पूर्णत: भरा हुआ फॉर्म प्रस्तुत करना होगा।      फसल बीमा कराए जाने पर प्राकृतिक आग (आकाशीय बिजली गिरना), बादल फटना, तूफान, ओलावृष्टि, चक्रवात, अंधड़, टेम्पेस्ट, हरीकेन, टोरनेण्डो, बाढ़, जल भराव, भू-स्खलन, सूखा, कीट व्याधियाँ इत्यादि से फसल को नुकसान होने पर किसान भाई फसल का बीमा प्राप्त कर सकते हैं।     फसल बीमा के संबंध में क

समग्र आईडी से पात्रता जान सकते हैं उपभोक्ता

 भोपाल। खाद्य सुरक्षा योजना से लाभान्वित परिवारों का सत्यापन किया जा रहा है। कर्मचारियों द्वारा घर-घर जाकर एम-राशन मित्र एप के माध्यम से सत्यापन किया जा रहा है। प्रत्येक उपभोक्ता गूगल प्ले स्टोर से इस एप को स्टाल कर सकते हैं। इसके माध्यम से उपभोक्ता अपनी पात्रता की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।   एप में परिवार की समग्र आईडी से लॉगिन करने पर खाद्यान्न की पात्रता, पात्रता पर्ची के अनुसार परिवार के सदस्यों की जानकारी तथा परिवार प्रोफाइल की जानकारी प्राप्त की जा सकती है। इसके माध्यम से आसपास की उचित मूल्य दुकान पीओएस मशीन की स्थिति, दुकान को खाद्यान्न आवंटन एवं वितरण की भी जानकारी प्राप्त की जा सकती है। शासन द्वारा खाद्यान्न वितरण के संबंध में दी जाने वाली सूचनाओं और सुविधाओं के लिए भी एम-राशन मित्र एप बहुत उपयोगी है।    

पंचायतों को मिलेंगे राष्ट्रीय पुरूस्कार

 भोपाल। राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस 24 अप्रैल 2021 के अवसर पर ग्राम पंचायत, जनपद पंचायत व जिला पंचायतों को भारत सरकार पंचायती राज मंत्रालय द्वारा पुरस्कृत किया जाना है। भारत सरकार पंचायती राज मंत्रालय द्वारा उक्त पुरस्कारों के लिए तीन स्तरों की पंचायतों से विभिन्न श्रेणियों के लिए नामांकन आमंत्रित किए गए है। इस वर्ष दीनदयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरस्कार सामान्य और विषयात्मक श्रेणी के लिए तीनों स्तर की पंचायतों को नानाजी देशमुख राष्ट्रीय गौरव ग्राम सभा पुरस्कार- ग्राम पंचायतों को ग्रामसभा के उत्कृष्ट कार्य निष्पादन के लिए ग्राम पंचायत विकास योजना पुरस्कार-ग्राम पंचायतों को बाल हितेषी ग्राम पंचायत पुरस्कार- ग्राम पंचायतों को। जिला पंचायत को प्रमाण पत्र के साथ 50 लाख रूपये की राशि, जनपद पंचायत को प्रमाण पत्र के साथ 25 लाख रूपये की राशि, ग्राम पंचायतों को उनकी जनसंख्या के अनुसार प्रमाण पत्र के साथ 5 लाख रूपये से 15 लाख रूपये तक की राशि पुरस्कार स्वरूप प्रदान की जाती है। प्रतिवर्ष आयोजित होने वाले राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस समारोह में 24 अप्रैल को भारत सरकार पंचायती राज मंत्रालय नई दिल

लोक निर्माण विभाग का नवीन एसओआर विमोचित

भोपाल ।  लोक निर्माण विभाग में नवीन एसओआर (दर अनुसूची) लागू हो जाने के बाद निर्माण कार्यों की गुणवत्ता और समय की बचत होगी। इस एसओआर में आधुनिक नवीन तकनीकी आयटमों को समाहित किये जाने से शासकीय निर्माण कार्यों की गुणवत्ता में सुधार होगा। उन्होंने यह बात लोक निर्माण विभाग द्वारा सड़क/पुल तथा भवन कार्यों के लिये बनाये गये नवीन एसओआर के विमोचन अवसर पर मंत्री गोपाल भार्गव ने कही। श्री भार्गव ने कहा कि निर्माण गतिविधियों में आईं अनेक आधुनिक तकनीकों के बाद उनका समावेश आसानी से शासकीय निर्माण कार्यों में हो सके, इसके लिये एसओआर दरों में संशोधन की माँग लम्बे समय से की जा रही थी। इससे पूर्व अगस्त-2014 में एसओआर का निर्धारण किया गया था। उन्होंने आशा व्यक्त की कि भविष्य में लोक निर्माण सहित अन्य विभागों के निर्माण कार्य गुणवत्तापूर्ण और समय की माँग अनुसार किये जा सकेंगे। प्रमुख सचिव लोक निर्माण विभाग नीरज मण्डलोई ने बताया कि वर्ष 2014 के बाद विभाग द्वारा एसओआर में परिवर्तन किये गये हैं, जिन्हें आधुनिक तकनीक और समय की माँग के अनुसार बनाया गया है। उन्होंने कहा कि सिविल एवं इलेक्ट्रिकल कार्यों के समस्त

65 करोड़ रूपये की लागत से बनाए जाएंगे 6 ब्रिज

 भोपाल । आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के क्रम में सुगम यातायात के लिए प्रदेश में साढ़े 65 करोड़ रूपये की लागत से 6 ब्रिज बनाए जाएंगे। मुख्य अभियंता लोक निर्माण विभाग, सेतु निर्माण परिक्षेत्र भोपाल द्वारा पुल निर्माण हेतु निविदाऐं भी आमंत्रित की गई हैं।    मुख्य अभियंता लोक निर्माण विभाग, सेतु निर्माण परिक्षेत्र भोपाल से प्राप्त जानकारी के अनुसार जबलपुर जिले में 17 करोड़ 60 लाख रूपये की लागत से गोरखपुर कटंगा क्रॉसिंग पर सदर से ग्वारीघाट मार्ग में फ्लाय ओवर ब्रिज का निर्माण कराया जाएगा। इसी प्रकार कटनी जिले में 11 करोड़ 97 लाख रूपये की लागत से महगंवा बीजापुरी मार्ग में छोटी महानदी पर पहुँचमार्ग सहित उच्चस्तरीय पुल निर्माण कार्य तथा उज्जैन जिले में 11 करोड़ 8 लाख रूपये की लागत से सुरेल संडावता-मदगनी पिपलौदा-बागला मार्ग किलोमीटर 16/6 में चंबल नदी पर पहुँच मार्ग सहित उच्चस्तरीय पुल निर्माण कार्य तथा 6 करोड़ 7 लाख रूपये की लागत से उन्हेल करनावद आलोट महिदपुर मार्ग पर गंभीर नदी पर पहुँचमार्ग सहित जलमग्नीय पुल का निर्माण कार्य कराया जाएगा। इसी प्रकार भिण्ड जिले में 9 करोड़ 51 लाख रूपये की लागत से लहार अजनार