Featured

महिला ने दिया दो बेटियों को जन्म, लेकिन पिता का नाम मालूम नहीं

लंदन । हमारे देश में कोई महिला अगर बिना शादी के मां बन जाए तब बवाल हो जाता है। लेकिन विदेशों में सिंगल मदर बनना कोई गलत बात नहीं है। हम आपको एक ऐसी ही महिला के बारे में बता रहे हैं, इस महिला ने बिना शादी के 2 बेटियों को जन्म दिया। यहां तक की उनके पिता को भी महिला नहीं जानती। महिला का कहना है कि अगर कभी मुलाकात हुई तब निश्चित रुप से वहां उस शख्स को शुक्रिया कहेगी, जिसकी वजह से उसकी जिंदगी में 2 अनमोल तोहफे आए। महिला का नाम लुसिंडा हार्ट है, जो ब्रिटेन की रहने वाली है।

लुसिंडा ने बताया कि यह जानकर बहुत खुशी हुई कि वह गर्भवती है, लेकिन अधिकांश महिलाओं के विपरीत, उन बच्चों के पिता के बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है। दरअसल, लुसिंडा ने आईवीएफ तकनीक के जरिए दोनों बच्चों को जन्म दिया। उन्होंने बताया कि मैं काफी कम उम्र से जानती थी कि मुझे कोई मिस्टर राइट नहीं चाहिए, लेकिन मैं बच्चा जरूर चाहती थी। मुझे नहीं लगता है कि सिंगल मदर बनने के लिए किसी महिला को वन नाइट स्टैंड या पब क्लॉक रूम में जाने की आवश्यकता है। इसका एक और तरीका आईवीएफ है। हालांकि, कुछ लोगों को ऐसा लगता है कि महिलाएं इस तरह के कदम तब उठाती हैं, जब उन्हें कोई पुरुष नहीं मिलता, लेकिन ये गलत है।

लुसिंडा ने बताया कि जब मैं 2012 में 36 साल की थी, तब मैंने आईवीएफ का इस्तेमाल किया। उस दौरान मैं उस व्यक्ति के साथ थी, जो बच्चे नहीं चाहता था। इसके बाद हम दोनों अलग हो गए, क्योंकि मुझे बच्चा चाहिए था। लुसिंडा ने कहा कि शुक्राणु दान के मामले में डेनमार्क अग्रणी देश है। इसमें संभावित दाताओं के चिकित्सा और मनोवैज्ञानिक इतिहास की सबसे कठोर जांच की जाती है। मेरे आईवीएफ क्लिनिक ने कोपेनहेगन में यूरोपीय स्पर्म बैंक की सिफारिश की थी, इसलिए मैंने वहीं अपने डोनर की तलाश की। कई महिलाओं को लगता है कि प्रेमी और पिता एक होते हैं, जबकि मेरा मानना है कि ये दोनों अलग-अलग हो सकते हैं।

आईवीएफ से मां बनी लुसिंडा के मुताबिक, मैंने डोनर के स्पर्म के साथ अपने चार अंडे फ्रीज करवाए, जो मेरे लिए बिल्कुल परफेक्ट थे। हालांकि, मुझे यह पता था कि चारों अंडे शायद काम न आएं। इसके 5 दिन बाद मैंने पहली बार आईवीएफ तकनीक का इस्तेमाल किया। लेकिन वहां असफल रहा। इसके बाद 2013 में मेरी बेटी रफेल उर्फ रफी (Rafi) का जन्म हुआ, जिसने मेरी जिंदगी बदल दी। इसके 3 साल बाद फिर से मैंने तीसरे अंडे के साथ प्रेग्नेंट होने की कोशिश की, लेकिन वहां भी असफल रहा। हालांकि, 2017 में लुसिंडा फिर प्रेग्नेंट हुईं और उन्होंने अलफ्रीडा को जन्म दिया। लुसिंडा ने कहा कि जब मैंने सिंगल मदर बनने का फैसला किया तब मेरे परिवार के लोगों ने काफी सपोर्ट किया। लुसिंडा ने कहा कि मेरे 2 एग्स खराब हो गए, मुझे उन अजन्में बच्चों के लिए दुख है, लेकिन इस बात की खुशी है कि मेरी 2 बेटियां हैं, जो मेरी जिंदगी संवार रही हैं।

Related Articles

Back to top button