Featured

विंज़ो ने लॉन्च की “भारत टेक ट्रायम्फ” पहल

वर्ल्ड टेक्‍नोलॉजी के लिए मेड इन इंडिया के निर्यात को मिलेगा बढ़ावा* 

इस पहल से पूरे विश्व के लिए भारत में बने सांस्कृतिक रूप से प्रासंगिक गेम्स से लेकर महत्‍वपूर्ण टेक्‍नोलॉजीज तक भारतीय प्रतिभा का आकर्षक नजारा प्रदर्शित करने में भी मदद करेगी

नई दिल्ली, । भारत के 175 मिलियन से अधिक यूजर्स के साथ देश के सबसे बड़े देशी भाषाओं का संवादात्मक मनोरंजन प्लैटफॉर्म, विंज़ो ने ‘भारत टेक ट्रायम्फ’ पहल आरम्भ करने की घोषणा की है। इस पहल का उद्देश्य भारत से निकले सांस्कृतिक रूप से प्रासंगिक गेम्स और सम्बंधित टेक्नोलॉजी का विश्वव्यापी निर्यात बढ़ाना है। यह प्रोग्राम देश में विकसित स्टार्टअप्स के विकास पर फोकस करता है और उन्हें वृद्धि के लिए वैश्विक प्लैटफॉर्म पेश करने के अलावा एफडीआई तक पहुंच बढ़ाने जैसे महत्वपूर्ण संसाधन प्रदान किये जाएंगे। यह भारत में देश में विकसित कंज्‍यूमर टेक और गेमिंग कंपनियों को निर्यात के द्वारा संवादात्मक मनोरंजन के तेजी से बढ़ते क्षेत्र में ‘मेड इन इंडिया’ कार्यक्रम की सफलता पर आधारित है। यह प्रोग्राम प्रधान मंत्री मोदी के मन्त्र, ‘फर्स्ट बी वोकल फॉर लोकल, देन गो ग्लोबल” यानी पहले स्थानीय के लिए आवाज उठाएं, फिर दुनिया के ओर कदम बढ़ायें का अनुसरण करता है। विंज़ो का उद्देश्य भारत की आर्थिक वृद्धि को मजबूत करना है। इस दिशा में विंज़ो मनोरंजन क्षेत्र में बौद्धिक संपदा के निर्माण, रियल-टाइम संचार, रियल-टाइम सुपर हाई-स्पीड गणना, और एक साथ करोड़ों उपभोक्ताओं को सँभालने के लिए तकनीकी नवाचार में मदद करेगा। ये बुनियादी तकनीकें हैं जिन पर सोशल गेमिंग का निर्माण किया जा रहा है। इस प्रकार की पहल भारत को तकनीकी नवाचार में वैश्विक शक्ति के रूप में स्थापित करने के लिए महत्वपूर्ण होंगी। इस पहल से रोगजार के अवसर भी पैदा होंगे, निवेश आयेगा और देश की जीडीपी तथा स्टार्टअप इकोसिस्टम में महत्वपूर्ण योगदान होगा।

इस पहल के तहत विंज़ो सोशल गेमिंग और साइबर सुरक्षा के लिए डीप टेक में अनुसंधान को सपोर्ट करेगा और इन्फ्रास्ट्रक्चर, अनुसंधान के विभिन्न क्षेत्रों में सहयोगात्मक अवसर, फंडिंग के अवसर, और वास्तविक जगत के डेटा तथा परिदृश्यों तक पहुंच जैसे आवश्यक घटक प्रदान करेगा। यह बड़े पैमाने के परिचालन के लिए हाई-स्पीड कंप्यूटिंग सेवाओं और अल्ट्रा-लो-लेटेंसी रियल-टाइम गेम इंजनों के लिए सहयोगी तक पहुंच प्रदान करेगा। साथ ही यह स्थानीय स्टार्टअप्स, वैश्विक गेमिंग समुदाय, और शैक्षणिक संस्थानों के बीच साझेदारी तथा ज्ञान के आदान-प्रदान को भी आसान बनाएगा।

विंज़ो ने उच्च संभावना वाली तकनीकों की पहचान करने के लिए उद्योग के अनुभवी दिग्गजों और संगठनों के साथ साझेदारी की है। इनमें कलारी के मैनेजिंग पार्टनर राजेश राजू, लुमिकई के फाउंडिंग जनरल पार्टनर जस्टिन श्रीराम कीलिंग, क्लेवर टैप के को-फाउंडर और सीपीओ आनंद जैन, गेमटेक सेगमेंट (भारत और एडब्लूएस) की हेड नेहा यादव, और तेलंगाना सरकार द्वारा समर्थित तेलंगाना वीएफएक्स, एनीमेशन और गेमिंग एसोसिएशन (टीवीएजीए) शामिल हैं।

विंज़ो के को-फाउंडर, पावन नंदा ने कहा कि, “आज प्रगति को प्रेरित करने, नवाचार को बढ़ावा देने और सामाजिक-आर्थिक वृद्धि को मजबूत करने के लिए टेक्‍नोलॉजी लगातार अधिक से अधिक क्षमता प्रदान कर रही है। विंज़ो में हमलोग विश्व के लिए ‘मेक इन भारत’ के प्रति नई पीढ़ी के उद्यमियों को प्रेरित करते हुए नए-नए आविष्‍कारों को बढ़ावा देकर और टेक्‍नोलॉजी सेक्टर की सामान्य वृद्धि में योगदान करना चाहते हैं।”

कलारी कैपिटल के प्रबंध निदेशक, राजेश राजू ने कहा कि, “भारत की आर्थिक समृद्धि के लिए निर्यातों का विविधीकरण अत्यंत आवश्यक है। गेम टेक उत्पादों, विशेषकर हाई-स्पीड कम्प्यूटेशन टेक्नोलॉजी का निर्यात हमारे देश की विशाल आर्थिक संभावना और टेक्‍नोलॉजी स्टार्टअप्स की सफलता की कुंजी है। भारत के स्टार्टअप इकोसिस्टम में जबरदस्त संभावना को देखते हुए हमारा मानना है कि ग्लोबल एक्सपोज़र मिलने और अत्‍याधुनिक टेक्नोलॉजी के निर्यात को बढ़ावा देने से न केवल आर्थिक वृद्धि बढ़ेगी, बल्कि भारत उपभोक्ता तकनीक उद्योग में एक वैश्विक लीडर के रूप में स्थापित भी होगा। स्टार्टअप्स को सपोर्ट करने के प्रति हमारी वचनबद्धता से वैश्विक मंच पर आर्थिक सफलता और तकनीकी प्रगति में उनके महत्व में हमारा विश्वास दिखाई देता है। कलारी में हम वैश्विक उपभोक्ताओं के लिए नवाचार कर रहे स्टार्टअप्स के भारी समर्थक हैं।” 

इसके अलावा, भारत टेक ट्रायम्फ पहल के तहत वैश्विक छाप छोड़ने के लिए उच्च संभावना वाली चुनिन्दा कंपनियों को विंज़ो द्वारा इंटरऐक्टिव एंटरटेनमेंट ऐंड इनोवेशन कौंसिल (“आईईआईसी”) तथा तेलंगाना वीएफएक्स एनीमेशन ऐंड गेमिंग एसोसिएशन “टीवीएजीए” के सहयोग से मदद की जायेगी। इस मदद के द्वारा इन कंपनियों को मार्च 2024 में सैन फ्रांसिस्को, यूएसए में होने जा रहे गेम डेवलपर्स कॉन्‍फ्रेंस में पहली बार स्थापित इंडिया पविलियन (भारतीय मंडप) का हिस्सा बनने के योग्य बनाया जाएगा। इंडिया पविलियन को टीवीएजीए द्वारा आईईआईसी और विंज़ो के सहयोग से आरम्भ और संचालित किया जाएगा। पिछले साल, विंज़ो ने साओ पाउलो में आयोजित लैटिन अमेरिका के सबसे बड़े गेमिंग शो, ब्राज़ील गेम शो (बीजीएस) में इंडिया पविलियन की शुरुआत और मेजबानी की थी। इस प्लैटफॉर्म पर अनगिनत गेम टेक कंपनियाँ एकत्र हुई थीं। विंज़ो का भारत टेक ट्रायम्फ पहल का वर्तमान लक्ष्य गेमिंग डेवलपर्स को दूसरे प्रमुख बाज़ारों में प्रतिनिधत्व करने के अवसर प्रदान करना है। यह पहल भारतीय गेमिंग के लिए एक ऐतिहासिक पल है जो सांस्कृतिक रूप से प्रासंगिक गेम्स से लेकर दुनिया के लिए मेड इन भारत के महत्‍वपूर्ण तकनीकी समाधानों तक भारतीय प्रतिभा के समूह को दर्शाती है।

विंज़ो भारत के विश्व मंच पर गेम विकास के लिए प्रमुख केंद्र में बदलने के लिए प्रतिबद्ध है। पिछले साल विंज़ो ने कैरम, चेस, कार रेस आदि जैसे गेम्स को एक्सपोर्ट करने और 90 मिलियन से अधिक यूजर वाले दुनिया के चौथे सबसे बड़े विशाल मोबाइल गेमिंग मार्केट ब्राज़ील तक बिना शुल्क और बिना रुकावट प्रवेश प्राप्त करने में 100 से अधिक गेम डेवलपर्स की मदद की थी। ये पहल भारतीय गेमिंग सेक्टर की यात्रा में एक निर्णायक पल में की गई है जहाँ अधिकतर कंटेंट/आईपी क्रिएटर अभी भी अपनी शैशवावस्था में हैं। इस प्रकार की पहलों से वैश्विक गेमिंग क्षेत्र में भारत नेतृत्वकारी स्थिति में पहुंचेगा और भारतीय लीडरशिप को बढ़ावा मिलेगा।

विंज़ो भारत टेक ट्रायम्फ के लिए ऐप्लिकेशंस अब उपलब्ध हैं। भारतीय गेम डेवलपर्स अपने आवेदन ऑनलाइन https://bharattech.winzogames.com पर जमा कर सकते हैं। आवेदन जमा करने की अंतिम तारीख 24 जनवरी, 2024 है।

Related Articles

Back to top button