Uncategorized

किसानों के सामने झुकी यूपी सरकार

नोएडा । उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा के 39 से अधिक गांव के किसान अपनी कई मांगों को लेकर 61 दिन से प्राधिकरण के खिलाफ धरना प्रदर्शन कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कई चुनौतियों का भी सामना किया। गांव में महापंचायत के साथ प्रचंड गर्मी धूप और बारिश में भी किसानों का प्रदर्शन लगातार जारी रहा, लेकिन अब किसानों का संघर्ष रंग आने लगा है। किसानों की मांग को देखते हुए अब एक कमेटी बनाने का फैसला लिया गया है। इस कमेटी में यूपी औद्योगिक विकास मंत्री, प्राधिकरण के सदस्य और गौतमबुद्ध नगर के किसान जनप्रतिनिधि शामिल होंगे।

इस फैसले को देखते हुए किसानों द्वारा 15 जुलाई तक अपने इस प्रदर्शन को स्थगित कर दिया गया है। ग्रेटर नोएडा के 39 से अधिक गावों के किसानों द्वारा सर्किल रेट मुआवजा 10 प्रतिशत आबादी प्लॉट और किसान हित से जुड़ी अन्य समस्याओं का तत्काल निदान और परिवार के सदस्यों के लिए रोजगार की मांग को लेकर 61 दिनों से ग्रेटर नोएडा औद्योगिक विकास प्राधिकरण के खिलाफ धरना प्रदर्शन किया जा रहा था।

इस दौरान किसानों ने महापंचायत भी की और गांव-गांव संपर्क करके ग्रामीण क्षेत्रों का समर्थन भी प्राप्त किया। अखिल भारतीय किसान सभा के नेतृत्व में चल रहे धरना प्रदर्शन को अन्य किसान संगठन के साथ साथ पार्टी कम्युनिस्ट पार्टी और कांग्रेस पार्टी के स्थानीय नेताओं का भी समर्थन मिला। इस दौरान किसानों को युवाओं महिलाओं का भी साथ मिला।

प्रचंड गर्मी बारिश अनेक चुनौतियों के बावजूद किसान दिन-रात सैकड़ों की संख्या में प्राधिकरण के खिलाफ डटे रहे और अंत में यह फैसला लिया गया है कि किसानों की मांग पर विचार के लिए एक कमेटी गठित की जाएगी, जिसमें औद्योगिक विकास मंत्री, प्राधिकरण के सदस्य और किसान प्रतिनिधि सर्वसम्मति से फैसला लेंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button