Uncategorized

24 साल बाद पुतिन उत्तर कोरिया यात्रा पर, किम जोंग से मांगेंगे हथियार

19-20 जून को वियतनाम भी जाएंगे पुतिन, अमेरिका चिंतित
मास्को,। रुस और यूक्रेन के बीच जारी जंग को दो साल से ज्यादा हो चुके हैं इस जंग को खत्म कराने भरपूर प्रयास भी किए जा रहे हैं। इसी बीच रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन 24 साल में पहली बार उत्तर कोरिया का दौरा कर रहे हैं। दोनों देशों ने कहा कि यह यूक्रेन पर हमले के बाद से परमाणु-सशस्त्र राज्य के साथ रुस की बढ़ती साझेदारी को रेखांकित करता है। उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन ने पिछले सितंबर में रूस के सुदूर पूर्व की यात्रा की थी उस दौरान किन ने पुतिन को उत्तर कोरिया आने का निमंत्रण दिया था। पुतिन ने पिछली बार जुलाई 2000 में प्योंगयांग का दौरा किया था।
अमेरिका के व्हाइट हाउस ने कहा कि वह रूस और उत्तर कोरिया के संबंधों से परेशान है और अमेरिकी विदेश विभाग ने कहा कि यह काफी निश्चित है कि पुतिन यूक्रेन में अपने युद्ध का समर्थन करने के लिए हथियार मांगेंगे। पुतिन के विदेश नीति सलाहकार यूरी उशाकोव ने कहा कि रूस और उत्तर कोरिया एक साझेदारी समझौते पर हस्ताक्षर कर सकते हैं जिसमें सुरक्षा मुद्दे शामिल हैं। उन्होंने कहा कि यह समझौता किसी अन्य देश के विरुद्ध नहीं होगा, बल्कि आगे सहयोग की संभावनाओं को रेखांकित करेगा। हाल के वर्षों में हमारे देशों के बीच जो कुछ हुआ है, उसे ध्यान में रखते हुए इस पर हस्ताक्षर किए जाएंगे। अंतर्राष्ट्रीय राजनीति के क्षेत्र में अर्थशास्त्र के क्षेत्र में जिसमें, निश्चित रूप से, सुरक्षा मुद्दों को भी ध्यान में रखा जाएगा।
क्रेमलिन ने कहा कि उत्तर कोरिया के बाद पुतिन 19-20 जून को वियतनाम का दौरा करेंगे। दोनों यात्राओं की उम्मीद थी, हालांकि तारीखों की घोषणा पहले नहीं की गई थी। यूक्रेन में युद्ध की शुरुआत के बाद से रूस ने उत्तर कोरिया के साथ अपने संबंधों के पुनर्जागरण को प्रचारित करने के लिए अपने रास्ते से हटकर काम किया है, जिससे यूरोप और एशिया में अमेरिका और उसके सहयोगियों को चिंता सताने लगी है।
अमेरिका का कहना है कि उत्तर कोरिया ने यूक्रेन से लड़ने के लिए रूस को हथियार सप्लाई किए हैं, हालांकि प्योंगयांग और मॉस्को ने बार-बार इसका खंडन किया है। अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता मैथ्यू मिलर ने आरोप लगाया कि उत्तर कोरिया ने यूक्रेन में इस्तेमाल के लिए रूस को दर्जनों बैलिस्टिक मिसाइलें और 11,000 से ज्यादा कंटेनर गोला-बारूद की आपूर्ति की है। उन्होंने कहा कि अमेरिका ने पुतिन को पिछले कुछ महीनों में अविश्वसनीय रूप से हताश होते देखा है। मिलर ने कहा कि उनको पूरा यकीन है कि वह यही करने जा रहा है। अमेरिकी उप विदेश मंत्री कर्ट कैंपबेल ने पिछले सप्ताह कहा था कि वाशिंगटन इस बात से चिंतित है कि रूस उत्तर कोरिया को बदले में क्या देगा।

Related Articles