Featured

10वीं, 12वीं के छात्रों को पेपर उपलब्ध कराने का झांसा देकर ठगी करने वाले दो शातिर गिरफ्तार

मा.शि.म. को लोगो और नाम का उपयोग कर टेलीग्राम पर बनाया था ग्रुप

भोपाल । साइबर क्राइम ब्रांच ने उज्जैन और भोपाल से दो ऐसे शातिर आरोपियो को पकड़ा है, जो माध्यमिक शिक्षा मंडल का लोगो (मोनो) और नाम का उपयोग कर टेलीग्राम पर ग्रुप बनाकर बच्चो को 10वी, 12वी का पेपर देने का झांसा देकर उनसे रूपये ऐंठते थे। दोनो जालसाज माध्यमिक शिक्षा मंडल के नाम से टेलीग्राम पर ग्रुप बनाते और फिर स्टूडेंटस को 10वी और 12वी कक्षाओ का पेपर देने का झांसा देकर उनसे रकम डलवा लेते थे। पैसा लेने के बाद आरोपी बच्चो गुमराह करते हुए सैंपंल पेपर दे देते थे। आरोपियो में शामिल एक आरोपी नाबालिग है, जो भोपाल में रहता है। अति. पुलिस उपायुक्त क्राईम ब्रांच शैलेंद्र सिंह चौहान ने जानकारी देते हुए बताया कि सायबर क्राईम ब्रान्च जिला भोपाल की टीम को शिकायत मिली थी की अज्ञात आरोपियो द्वारा मा.शि.मं भोपाल के लोगो (मोनो) और नाम का उपयोग कर टेलीग्राम पर एमपी बोर्ड ऑफिशियल, एमपी बोर्ड पेपर लीक्स नाम से ग्रुप बनाकर बच्चो को 10वी, 12वी का पेपर देने का झांसा देकर पैसे ऐंठकर ठगी की जा रही है। मामले को गंभीरता से लेते हुये अज्ञात आरोपियो के खिलाफ धारा 419,420 एवं 66सी आईटीएक्ट धाराओ के तहत मामला दर्ज कर क्राइम ब्रांच टीम ने आरोपियो का सुराग जुटाने के प्रयास शुरु किये। जल्द ही सायबर टीम ने तकनीकी एनालिसिस में हाथ लगी जानकारी के आधार पर टेलीग्राम ग्रुप बनाकर धोखाधडी करने वाले एक आरोपी को उज्जैन और दूसरे आरोपी को भोपाल से गिरफ्तार कर लिया। उज्जैन से पकड़े गये आरोपी की पहचान धीरज खत्री पिता राजेश खत्री (18) निवासी 45 केशव नगर थाना नीलगंगा उज्जैन के रुप में हुई। आरोपी धीरज ने ग्रेजुएशन किया है, और उसका काम टेलीग्राम ग्रुप बनाकर बच्चो को पेपर उपलब्ध कराने का झांसा देकर पैसे अपने पेटीएम वॉलेट मे डलवाने का था। वही पकड़े गये आरोपी किशोर 11वी तक पढ़ा है, वह भी टेलीग्राम ग्रुप बनाकर बच्चो को पेपर देना का झांसा देकर पैसे अपने फेम पे वॉलेट मे डलवाता था। पुलिस ने दोनो के पास से 2 मोबाईव फोन और सिमकार्ड जप्त किये है। पूछताछ में सामने आया कि आरोपी टेलीग्राम एप पर मा.शि.म के नाम और लोगो (मोनो) का प्रयोग कर टेलीग्राम ग्रुप बनानकर बच्चो को अलग-अलग ग्रुप मे 499, 699 रुपये देने पर वार्षिक परीक्षा के प्रश्न पत्र प्रायवेट ग्रुप मे उपलब्ध कराने का झांसा देकर पैसे ऐंठ रहे थे। ठगी की रकम पेटीएम,फेम पे आदि क्यू आर कोड मे लिए जा रहे थे। पुलिस आरोपियो से आगे की पूछताछ कर रही है।

Related Articles

Back to top button