Featured

फिर भड़के ट्रम्प- जज की तरफ उठा दिया हाथ

वाशिंगटन । अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प तमाम विवादों से घिरे न्यायालय के चक्कर लगा रहे हैं,लेकिन उनका गुस्सा कम नहीं हो रहा है। एक विवाद सुलझता नहीं और दूसरा खड़ा हो जाता है। अब एक नया बखेड़ा हो गया है। ट्रम्प इस बार तो वह जज की टिप्पणियों पर ऐसे आग बबूला हुए कि उनकी तरफ हाथ ही उठा दिया। दरअसल,नागरिक धोखाधड़ी मामले में मैनहटन कोर्ट में सुनवाई हो रही थी। जब उनके वकील मामले की पैरवी कर रहे थे, तब ट्रम्प बार-बार पीछे से बोलते जा रहे थे। इससे मामले की सुनवाई कर रहे जज लुईस ए कपलान ने पूर्व राष्ट्रपति को टोका और चुप रहने को कहा।

क्रॉली ने फिर शिकायत की, जिसमें ट्रम्प द्वारा कहा जा रहा था कि यह एक जादू टोना है और यह वास्तव में एक धोखाधड़ी है। इस पर जज ने कड़ी चेतावनी जारी करते हुए कहा कि आपको अदालत से बाहर कर दिया जाएगा। जज की तरफ हाथ उठाने के थोड़ी देर बाद ट्रम्प ने कहा, मुझे अच्छा लगेगा। इस पर जज कपलान ने ट्रंप से कहा कि आप जाहिर तौर पर इन परिस्थितियों में खुद को नियंत्रित नहीं कर सकते।हालांकि, ट्रम्प को अंततः अदालत से बाहर नहीं निकाला गया, लेकिन बुधवार शाम को एक राजनीतिक रैली के लिए न्यू हैम्पशायर वापस जाने से पहले, उन्होंने मामले में जज पर हमला करने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया। ट्रम्प ने जज पर हमला बोलते हुए कहा कि मुझे पता है कि बिल क्लिंटन द्वारा बहाल लोग ऐसा ही करेंगे। ट्रम्प ने जज कपलान को बुरा और नफरती जज करार दिया।

रिपोर्ट के मुताबिक, जब ट्रम्प फिर भी चुप नहीं हुए और बार-बार बीच में बोलते रहे तो जज ने उन्हें अदालत से बाहर करने की धमकी दे डाली। जज ने कहा कि अगर वह बार-बार अदालती सुनवाई में बाधा डालेंगे तो उनके अधिकार जब्त कर लिए जाएंगे। इस पर डोनाल्ड ट्रम्प जज पर भड़क गए और विरोध में जज की तरफ गुस्से में अपने हाथ उठा दिए। जज ने ट्रम्प के वकील को भी लताड़ लगाई। ट्रम्प के खिलाफ यौन उत्पीड़न केस में गवाह रहीं ई.जीन कैरोल द्वारा दायर एक मानहानि केस में पूर्व राष्ट्रपति लंबे समय से अदालत में पेश नहीं हो रहे थे। बुधवार को आखिरकार वह इस मामले में ट्रायल कोर्ट के सामने पेश हुए थे। कोर्ट में जब गवाह के रूप में, ई. जीन कैरोल ने जूरी को बताया कि कैसे ट्रम्प के कथित यौन उत्पीड़न के बारे में सार्वजनिक होने के बाद उनके बयानों ने उनकी प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाया और उन पर धमकी भरे संदेशों से हमला हुआ। पिछले साल एक सिविल जूरी ने कैरोल के आरोपों को विश्वसनीय पाया था। ट्रम्प पिछले साल कैरोल के मानहानि मुकदमे में पेश नहीं हुए थे, लेकिन इस सप्ताह अदालत कक्ष में उनकी उपस्थिति हुई। जूरी द्वारा माफ़ी दिए जाने के बाद, कैरोल के वकील शॉन क्रॉली ने ब्रेक से पहले ट्रम्प की टिप्पणी के बारे में शिकायत की। जब जज कपलान ब्रेक से लौटे तो उन्होंने ट्रम्प से कहा कि वह अपने वकीलों से बात करते समय अपनी आवाज़ कम रखें ताकि जूरी उनकी बात सुन सके।

Related Articles

Back to top button