Featured

दोस्त की हत्या के मामले में फांसी की सजा काट रहा कैदी हमीदिया अस्पताल से हथकड़ी खोलकर हुआ फरार

सजा से बचने के लिये रची थी खुद की मौत की साजिश, पैरोल पर छूटकर दोस्त की हत्या कर जला दी थी लाश

भोपाल । राजधानी भोपाल में पुलिस सुरक्षा में चूक का एक बड़ा मामला समाने आया है। यहॉ हमीदिया अस्पताल में इलाज के दौरान सेंट्रल जेल का कैदी हथकड़ी खोलकर सुरक्षा में लगे जवानो को चकमा देकर फरार हो गया। फरार कैदी का नाम रजत सैनी है, जो अपने दोस्त की हत्या के मामले में फांसी और आजीवन कारावास की सजा काट रहा था। कैदी की तबीयत खराब होने पर उसे इलाज के लिये सेंट्रल जेल तबियत से हमीदिया अस्पताल लाया गया था। जेल प्रबंधन द्वारा इसकी एफआईआर कोहेफिजा थाने में दर्ज कराई गई है। पुलिसकर्मियों की लापरवाही को लेकर जेल अधिकारियो ने दो जेल प्रहरियों को निलंबित कर दिया है।

* खुद की मौत के लिये रची थी खौफनाक साजिश, दोस्त की हत्या कर जला दी थी लाश

मिली जानकारी के मुताबिक मुल रुप से गुना जिले के राधौगढ़ के रहने वाला रजत सेनी पुत्र सुरेश कुमार सैनी (29) वर्तमान निवासी 586 अमलतास गोल्डन माईल कालोनी थाना खजूरी सडक भोपाल आदतन अपराधी है। राजधानी भोपाल में साल 2017 में जाली नोट बेचने का दोषी पाये जाने पर उसे इस मामले में 7 साल की सजा सुनाई गई थी। इसके बाद साल 2018 में गुना जिले के राधौगढ़ में एक नाबालिग किशोर को अगवा करने के प्रकरण में उसे दोषी करार देते हुए कोर्ट ने साल 2019 में आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी। उस समय वह ग्वालियर जेल मे बंद था। वहॉ से 23 मई 2022 को केंद्रीय जेल ग्वालियर से पेरोल पर बाहर आया था। इसके बाद उसे 6 जुलाई 2022 को वापस जेल में आमद दर्ज कराना थी। लेकिन रजत वापस जेल नहीं जाना चाहता था, इसके लिये वो फरार हो गया और सजा से बचने के लिये उसने एक खौफनाक योजना बना डाली। फरारी के दौरान उसने सजा से बचने के लिये अपनी ही मौत की साजिश रची। अपने आप को मरा साबित करने के लिये उसने बीएससी के छात्र अमन दांगी की बैट और हथौड़े से पीटकर हत्या कर दी और इसके बाद पहचान मिटाने के लिये अमन की लाश को पेट्रोल डालकर जला दिया। लेकिन मेडिकल जांच में इस भयानक साजिश का खुलासा हो गया। पुलिस ने उसे कड़ी मशक्कत के बाद दबोच लिया और सुनवाई पूरी होने पर इस जघन्य अपराध में रजत को मई 2023 मे सप्तम जिला एवं अपर सत्र न्यायाधीश डॉ. धर्मेंद्र टाडा की कोर्ट ने फांसी के साथ 2 अन्य मामले में उम्र कैद की सजा सुनाई थी। इसके बाद से वह जेल में अपने दिन गिन रहा था।

* खून की उल्टी होने पर लाया गया था अस्पताल

रजत सैनी को 12 अक्टूबर को खून की उल्टी हुई थी, मेडिकल चेकअप में उसमें खून की कमी सहित, पल्स एवं बीपी सामान्य से कम होने पर जेल सुरक्षाकर्मियो की निगरानी में इलाज के लिये हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया गया था। रजत की सुरक्षा में तैनात जेल प्रहरी अल्पवचन जाट और राज आमले ने पुलिस को बताया कि रजत सैनी शनिवार की अलसुबह करीब छह बजे हथकड़ी खोलकर अस्पताल से फरार हो गया। फरार रजत सैनी के दाहिने हाथ के पंजे पर अग्रेंजी में आरके गुदा हुआ है। वहीं बायीं हसली के पास तिल का निशान और दायें हाथ की कलाई पर रजत सैनी गुदा है। कोहेफिजा पुलिस मामला कायम कर फरार कैदी की गिरफ्तारी के प्रयास में जुट गई है।

Related Articles

Back to top button