Sports

टेस्ट क्रिकेट को बचाने बीसीसीसीआई आगे आये : ग्रेव

ब्रिजटाउन । क्रिकेट वेस्टइंडीज (सीडब्ल्यूआई) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जॉनी ग्रेव ने कहा कि आज के दौर में टेस्ट क्रिकेट का भविष्य खतरे में नजर आ रहा है। ऐसे में भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) को उसे बचाने के लिए आगे आना चाहिये। ग्रेव के अनुसार दुनिया भर में क्रिकेट खेलने वाले सदस्य देशों में टेस्ट प्रारूप को बचान और इसके विकास में बीसीसीआई अहम भूमिका निभा सकता है। सीडब्ल्यूआई से 2017 में जुड़ने वाले ग्रेव ने व्यस्त कार्यक्रम के बाद भी टेस्ट क्रिकेट के प्रति बीसीसीआई की अटूट प्रतिबद्धता की सराहना करते हुए ये बातें कहीं। साथ ही कहा कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) को भारत, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बाहर भी टेस्ट प्रारूप को बचाने के लिए अधिक प्रयास करने होंगे।
आईसीसी के नौ प्रतिस्पर्धी पूर्ण सदस्यों में से केवल तीन बड़े सदस्य ही 2023-2025 विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप चक्र में पांच मैचों की सीरीज खेलेंगे। वहीं तीन अन्य पूर्ण सदस्य आयरलैंड, अफगानिस्तान और जिम्बाब्वे 2019 में शुरू की गई इस चैंपियनशिप में भी तक शामिल नहीं किये गये हैं। उन्होंने खेल के भविष्य और बीसीसीआई द्वारा निभाई जाने वाली भूमिका को लेकर कहा, ‘उसे नेतृत्वकर्ता की भूमिका निभानी है क्योंकि ताकत, प्रभाव और संसाधनों के मामले में वे अब नंबर एक बोर्ड हैं। उन्होंने जिस तरह से खेल के तीनों प्रारूपों को खेलना जारी रखा है, वह शानदार रहा है। टेस्ट क्रिकेट के प्रति उनकी प्रतिबद्धता मुझे नहीं लगता कि यह कभी इतनी मजबूत रही होगी जितनी अब है। ग्रेव ने कहा कि आईसीसी में भारत के रुख का काफी प्रभावशाली रहता है। उन्होंने कहा, ‘आईसीसी द्वारा लिए जाने वाले प्रमुख निर्णयों में उनकी भूमिका काफी अहम रही है। पिछले 12 महीनों में क्रिकेट को ओलंपिक में प्रवेश दिलाने में भी बीसीसीआई ने आईसीसी को पूरा सहयोग दिया है।

Related Articles