Featured

जिले का ई-रूपी पायलट प्रोजेक्ट के तहत चयन

भोपाल । खाद्य एवं पोषण सुरक्षा दलहन योजनान्तर्गत किसानों को अनुदान की राशि सामग्री कय करने से पूर्व ई-रूपी वाउचर के रूप में प्राप्त हो सके, इसके लिए प्रदेश शासन द्वारा ई रूपी पायलट प्रोजेक्ट अन्तर्गत एवं भोपाल जिले के साथ ही आगर-मालवा का चयन किया गया है।

इस प्रोजेक्ट के अंतर्गत फसल प्रदर्शन के बीज घटक को छोड़कर शेष अन्य आदान सामग्री हेतु केश डीबीटी है। इसमें कृषकों को स्वयं सामग्री कय कर अनुदान हेतु बिल उप संचालक कार्यालय में जमा कर अनुदान प्राप्त करना होता है परन्तु इसमें समय अधिक लगने एवं अनुदान की राशि कम होने से अधिकांश किसानों द्वारा इसका उपयोग नहीं किया जाता है इस हेतु किसान को अनुदान की राशि सामग्री कय करने से पूर्व ई-रूपी वाउचर के रूप में प्राप्त हो सके अतः ई-रूपी पायलट प्रोजेक्ट लागु किया गया है।

मूल रूप से यह एक डिजिटल प्रीपेड वाउचर है किसान द्वारा आदान सामग्री कय करने के उददेश्य से इसका उपयोग किया जा सकता है। कृषक किसी भी पंजीकृत विकेता से सामग्री कय करके ई-रूपी का उपयोग अनुदान राशि के भुगतान के लिए कर सकता है। यह एक कैशलेश आधारित पेमेंट करने का तरीका है, पायलट पाजेक्ट के लिए भुगतान हेतु दो घटक शामिल किए गए है जिसमें सूक्ष्म पोषक तत्व एवं तथा पौध संरक्षण औषधि शामिल है इसमें कृषकों के मोबाईल नंबर पर एस.एम. एस. के माध्यम से क्यु आर कोड कृषकों को प्राप्त होगा जो विकेता के समक्ष प्रस्तुत किया जाना होगा संबंधित कोड विकेता को देने पर ओ.टी.पी. कृषक को प्राप्त होगा जो विकेता को बताकर ई-वाउचर रिडिम हो सकेगा।

Related Articles

Back to top button