Uncategorized

ओला ने पूरा पैसा लेने के बाद भी नहीं ‎दिया स्कूटर, देना होगा 2.05 लाख का मुआवजा

ग्राहक ने चेन्नई जिला उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग में दायर किया था मामला
चेन्नई । ओला मोबिलिटी ने ग्राहक से पूरा पैसा लेने के बाद भी उसे इलेक्ट्रिक स्कूटर नहीं दिया गया। अब ओला को मुआवजे के रूप में ग्राहक को 2.05 लाख रुपए देने पड़ेंगे। यह मामला चेन्नई का है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक चेन्नई के पुरसावलकम की निशा ने दो साल पहले ओला के आधिकारिक ऐप के जरिए एक कोरम-ग्लैम रंग का स्कूटर बुक किया था। इस ई-स्कूटर की कीमत 1,10,296 रुपए थी।

ऐप में इस स्कूटर की उपलबधता की पुष्टि की गई थी। इसके बाद निशा ने जुलाई 2021 में बुकिंग के लिए 20,499 रुपए का भुगतान किया था। निशा को जानकारी दी गई की अंतिम भुगतान करने के बाद वाहन की डिलीवरी की तारीख बाद में घोषित की जाएगी।

इस बीच निशा को तब झटका लगा जब ओला ने घोषणा की कि उसने एस1 स्कूटरों का उत्पादन बंद कर दिया है। निशा ने यही स्कूटर बुक कराया था। ओला ने कहा कि अब वह केवल एस1 प्रो मॉडल ही भेजेगी। इसके लिए निशा को 40,000 रुपए का अ‎तिरिक्त भुगतान करना पड़ गया।

जब निशा ने ग्राहक सेवा से संपर्क किया, तो उसे वाहन पंजीकरण के लिए जरूरी डॉक्यूमेंट्स अपलोड करने के लिए कहा गया, लेकिन इसके बाद से आज तक कछि नहीं हुआ। इस बीच ओला ने अपने ऐप से बुकिंग कैंसिल करने का ऑप्शन भी हटा दिया था। इसके बाद निशा ने चेन्नई (उत्तर) जिला उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग में मामला दायर किया।

ओला ने अपने दावे के समर्थन में कोई दस्तावेजी साक्ष्य प्रस्तुत नहीं किया। इसलिए, आयोग ने ओला को सेवा में कमी और अनुचित व्यापार व्यवहार के लिए मुआवजे के रूप में 2,00,000 रुपए और शिकायतकर्ता द्वारा किए गए कानूनी खर्च के लिए 5,000 रुपए का भुगतान करने का आदेश दिया है। इसी के साथ आयोग ने ओला को यह भी निर्देश दिया गया है कि या तो वह दो महीने के भीतर एस1 प्रो मॉडल की डिलीवरी करे या 9 प्र‎तिशत ब्याज के साथ पूरी राशि वापस कर दे।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button