Featured

खालिस्तानी आतं‎कियों पर एनआईए ने की तगड़ी छापामार कार्रवाई

दिल्ली-यूपी सहित 6 राज्यों में 50 ठिकानों पर चल रही है छानबीन

नई दिल्ली । भारतीय जांच एजेंसी एनआईए द्वारा खालिस्तानी संगठनों और उनसे जुड़े आतंकियों पर नकेल कसने के ‎लिए तगड़ी कार्रवाई शुरु कर दी है। इसी क्रम में ‎दिल्ली-यूपी सहित 6 राज्यों में 50 ठिकानों पर छापामार कार्रवाई की जा रही है। जांच एजेंसियां विदेश के साथ-साथ देश में भी लगातार सर्च ऑपरेशन चला रहीं हैं। एनआईए के सूत्रों के मुताबिक राजस्थान, उत्तर प्रदेश, पंजाब, दिल्ली के करीब 50 जगहों पर ये छापेमारी चल रही है। ‎जिसमें खालिस्तानी चरमपंथियों से जुड़े गैंगस्टर्स के हवाला ऑपरेटर्स और लॉजिस्टिक कॉर्डिनेटर की धरपकड़ के लिए पंजाब में 30, राजस्थान में 13, हरियाणा में 4, उत्तराखंड में 2 और दिल्ली तथा उत्तर प्रदेश में एक-एक ठिकाने पर छापेमारी की गई है। एनआईए ने खालिस्तान- आईएसआई और गैंगस्टर नेक्सस पर कई इनपुट्स इक्कठा किए हैं। अब तक जितने भी गैंगस्टर और खालिस्तानी आतंकियों को यूएपीए के तहत गिरफ्तार किया गया है, उनसे पूछताछ में पता चला कि इस गैंगस्टर-खालिस्तानी नेक्सस का इस्तेमाल टेरर फंडिग, हथियार सप्लाई के साथ-साथ विदेशी धरती से देश विरोधी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए किया जा रहा है।

बताया जा रहा है ‎कि एनआईए ने अब विदेशी धरती से चल रहे खालिस्तानी और गैंगस्टर के समर्थकों पर बड़ा प्रहार करना शुरू कर दिया है। हाल ही में कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो द्वारा अपनी संसद में खालिस्तान टाइगर फोर्स के प्रमुख हरदीप सिंह निज्जर की हत्या में भारत पर आरोप लगाने के बाद से खालिस्तान का मुद्दा गरमाया हुआ है। बता दें कि कनाडा में सक्रिय खालिस्तान समर्थकों को बेनकाब करने के साथ-साथ उनके नेटवर्क को खंगालने में एजेंसियां जुटी हुई हैं। साथ ही उनके फंडिंग सोर्स पर भी लगाम लगाने की तैयारी चल रही है। इसके लिए फाइनेंसियल इंटेलिजेंस यूनिट, आईबी सहित कई एजेंसियां एक्टिव हो गई हैं।

अंदेशा जताया जा रहा है कि खालिस्तान गैंगस्टर गठजोड़ भारत के लिए खतरनाक होता जा रहा है। इसमें ड्रग्स और हथियार की तस्करी, वसूली, हत्या जैसे अपराध से आ रहे पैसों का इस्तेमाल भारत विरोधी हरकतों में किया जा रहा है। खालिस्तानियों को फंडिंग दिलाने के मामले में पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई की सबसे बड़ी भूमिका मानी जा रही है। कई मीडिया रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि एनआईए की चार्जशीट में इस बात का भी खुलासा हो चुका है कि खालिस्तान समर्थक आतंकवादियों को हथियारों और ड्रग्स की तस्करी से मिले पैसों से फंडिंग की जा रही है। खालिस्तानी कट्टरपंथी कनाडा की जमीं पर अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर आंदोलन चला रहे हैं।

Related Articles

Back to top button