National

यूपी में अधिकारी बनाम बीजेपी की लड़ाई में हदें पार!! सोशल मीडिया पर हो रहे हैं टोल

लखनऊ । अयोध्या में बीजेपी की समीक्षा बैठक के दौरान देर रात  हंगामा और “हाईप्रोफाइल” झड़प हुई । योगी सरकार के दो कैबिनेट मंत्रियों के सामने DM अयोध्या नीतीश कुमार और हनुमान गढ़ी के महंत राजू दास के बीच तीखी नोंकझोंक हो गई। यह झड़प योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री सूर्य प्रताप शाही और जयवीर सिंह की मौजूदगी में हुई ।

राजू दास, अयोध्या के प्रभारी मंत्री सूर्य प्रताप शाही से समय लेकर हार पर अपना फीडबैक देने पहुँचे थे। उस दौरान DM अयोध्या नीतीश कुमार भी मौक़े पर मौजूद थे। वे राजू दास के प्रशासन के ख़िलाफ़ दिये बयानों से बेहद नाराज़ थे और राजू दास के साथ बैठने से इनकार कर दिया।
फिर शुरू हुई तीखी झड़प
मंत्रियों की मौजूदगी में हुई झड़प के बाद राजू दास के साथ आए ग़नर को वापिस जाने को कहा गया। ग़नर वापिस लिए जाने के बाद, राजू दास ने अपनी हत्या की साज़िश का आरोप लगाया है। राजू दास, अतीत में कई विवादों और विवादास्पद बयानों के लिए चर्चित रहे हैं। दिलचस्प बात यह है कि समीक्षा बैठक के दौरान प्रशासन के असहयोग और अधिकारियों की मनमानी की शिकायत हो रही थी। मंत्रियों की मौजूदगी के चलते सरजू गेस्ट हाउस में DM उनसे मिलने पहुँचे थे,

सोशल मीडिया पर इस नोक झोंक पर काफी चर्चा हो रहीं है।

अंशुमान तिवारी एक्स हैंडल पर लिखते हैं

पूरे प्रदेश में ही अधिकारियों ने भाजपा को हराने का इंतजाम किया है , अयोध्या भी अछूता नहीं। महंत राजू दास बड़े महंत है , ताकतवर व्यक्ति है तो डीएम के मुंह पर कह देते होंगे कटु वचन , आम कार्यकर्ता की तो इतनी भी औकात नही।

विवेक मिश्र ने तो समाजवादी पार्टी की तारीफ करते हुए लिखा है कि राजपूत साबित सिंह ने कहा है कि सब जिले में यही हुआ है जमकर  फिलिंडिंग किया है जिले के टॉप लेबल के अधिकारियों ने। अगर नेतृत्व ने उत्तर प्रदेश में अफरशाही शासन पर अंकुश नहीं लगाया तो भाजपा कार्यकर्ता 27 के चुनाव में इन्हे कभी नहीं चुनेंगे नही..!
कार्यकर्ताओ की स्थिति देखकर सपा का शासन काल याद आता है। कम से कम उनके कार्यकर्ता अपने मुख्यमंत्री से संतुष्ट तो थे।

Related Articles