National

इंदौर-उज्जैन के बीच मेट्रो ट्रेन संचालन जल्द: मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव

मुख्यमंत्री की केन्द्रीय रेल मंत्री से चर्चा

भोपाल: मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने घोषणा की है कि राज्य सरकार इंदौर-उज्जैन के बीच मेट्रो ट्रेन सेवा शुरू करने की तैयारी में है। यह महत्वपूर्ण कदम सिंहस्थ 2028 के दौरान श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए उठाया जा रहा है। फिजिबिलिटी सर्वे की रिपोर्ट प्राप्त हो चुकी है और आने वाले समय में इंदौर एयरपोर्ट से महाकाल मंदिर तक वंदे मेट्रो की सुविधा प्रदेशवासियों और देश-विदेश से आने वाले पर्यटकों एवं श्रद्धालुओं के लिए एक अहम सौगात होगी।

भोपाल और इंदौर मेट्रो प्रोजेक्ट की प्रगति

भोपाल में एम्स से करोंद चौराहे तक 16.74 किलोमीटर लंबी मेट्रो लाइन तीन चरणों में तैयार की जाएगी। पहले चरण में सात किलोमीटर के दायरे में आठ एलिवेटेड स्टेशन बनेंगे। इंदौर में कुल 31.32 किलोमीटर में 28 स्टेशन बनाए जा रहे हैं।

यातायात के लिए आधुनिक साधनों का उपयोग

मुख्यमंत्री ने बताया कि भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर और उज्जैन में मेट्रो के साथ वंदे मेट्रो, रोप-वे, इलेक्ट्रिक बस और केबल-कार जैसे यातायात साधनों का भी उपयोग किया जाएगा। उज्जैन से ओंकारेश्वर रूट, भोपाल से इंदौर, और जबलपुर से ग्वालियर तक वंदे मेट्रो सर्किल ट्रेन चलाने पर भी विचार किया जा रहा है।

वंदे मेट्रो सर्किल ट्रेन: एक नई सौगात

मुख्यमंत्री ने कहा कि केन्द्रीय रेल मंत्री श्री अश्विनी वैष्णव से हुई चर्चा के अनुसार, मध्यप्रदेश में वंदे मेट्रो सर्किल ट्रेन चलाने पर सहमति बनी है। यह योजना यातायात के दबाव वाले क्षेत्रों में लागू की जाएगी। औद्योगिक क्षेत्रों को लाभान्वित करने के लिए पीथमपुर-देवास मार्ग पर भी इस ट्रेन को चलाने की योजना है।
भोपाल मेट्रो रेल परियोजना

भोपाल में मेट्रो ट्रेन का परीक्षण अक्टूबर में किया गया था। ऑरेंज लाइन में कुल 16 स्टेशन होंगे, जिनमें 14 एलिवेटेड और 2 भूमिगत होंगे। द्वितीय चरण में भदभदा चौराहे से रत्नागिरी तिराहा तक 14.21 किलोमीटर लंबाई में 14 एलिवेटेड स्टेशन होंगे। तृतीय चरण में सुभाष नगर से करोंद चौराहा 9.74 किलोमीटर का कार्य शामिल है। प्रथम चरण का कॉमर्शियल परिचालन आगामी महीनों में प्रारंभ होगा, जबकि द्वितीय और तृतीय चरण का कार्य वर्ष 2027 तक पूरा होगा।

मेट्रो ट्रेन में यात्रियों के लिए सुविधाएं

मेट्रो स्टेशन और ट्रेनों में यात्रियों को अनेक सुविधाएं मिलेंगी, जैसे सुरक्षा जांच, पेयजल, वॉशरूम, प्राथमिक चिकित्सा, व्हीलचेयर, स्ट्रेचर, लिफ्ट, स्वचालित सीढ़ियां, और एयर कन्डिशनिंग। विशेष रूप से महिलाओं और दिव्यांग जनों के लिए विशेष सुविधाएं उपलब्ध होंगी।

भोपाल और इंदौर मेट्रो प्रोजेक्ट की प्रगति की समीक्षा बैठक में नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री कैलाश विजयवर्गीय, राज्य मंत्री श्रीमती प्रतिमा बागरी, मुख्य सचिव श्रीमती वीरा राणा, और अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Related Articles