Featured

प्रदेश में 4 लाख 38 हजार हेक्टेयर में सिंचाई क्षमता विकसित होंगी

जल संसाधन विभाग के संकल्प पत्र 2023 की समीक्षा की

मंत्री श्री सिलावट ने विभाग के संकल्प पत्र की समीक्षा की

भोपाल । जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट ने, विभाग से संबंधित संकल्प 2023 की परियोजनाओं की मंत्रालय में समीक्षा बैठक ली। 

जल संसाधन मंत्री ने अधिकारियों को संकल्प 2023 में वर्णित परियोजनाओं को समय सीमा में पूर्ण करने के निर्देश दिये। इससे प्रदेश की जनता और विशेषकर किसानों को सिंचाई के लिए भरपूर पानी उपलब्ध होंगा।

बैठक में विभाग के अपर मुख्य सचिव डॉ. राजेश राजौरा, प्रमुख अभियंता श्री शिशिर कुशवाह, मुख्य अभियंता बोधी, श्री जी. पी. सोनी, मुख्य अभियंता रीवा, श्री जे.एस. कुसरे, मुख्य अभियंता इंदौर, श्री पी.के. वर्मा, उपस्थित रहे।

बैठक में मंत्री श्री सिलावट ने कहा की प्रदेशवासियों को इन परियोजनाओं से लाभ दिलाया जाए। 

 संकल्प पत्र 2023 के अंतर्गत विभाग की पन्ना जिले में रूंज एवं मझगांव मध्यम सिंचाई परियोजना, ग्वालियर एवं चंबल में माधव राव सिंचाई परियोजना, छिन्दवाड़ा जिले की पेंच डायवर्सन परियोजना, श्योपुर जिले की चेंटीखेड़ा सिंचाई परियोजना तथा सतना एवं रीवा जिले की बहोती नहर परियोजना सम्मिलित की गई है।

 बैठक में बताया गया की इन परियोजनाओं के पूर्ण होने से 4,38,777 हेक्टेयर क्षेत्र में अतिरिक्त सिंचाई सुविधा विकसित होंगी। जिससे प्रदेश में उधोग धंधे लगाने के लिए भी आधार भूत आवश्यकताएं निर्मित भी होंगी।

  बैठक में मंत्री सिलावट ने विभागातंर्गत निर्मित तालाबों को चिन्हित कर इनके सुदृढ़ीकरण एवं सौन्दर्गीकरण करने हेतु विस्तृत प्रतिवेदन तैयार कर उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गये। जिसके उपरांत परियोजना प्रतिवेदन स्वीकृति हेतु केन्द्रीय जल शक्ति मंत्रालय को प्रेषित किया जावेगा। 

   इसके साथ ही मंत्री श्री सिलावट ने विभाग के सभी निर्मित तालाबों में हो रहे अतिक्रमण हटाने के सख्त निर्देश दिए गये।

Related Articles

Back to top button