Uncategorized

फंदा जनपद अध्यक्ष राजपूत के साथ सैकड़ों सरपंच ग्रामीणों ने कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

भोपाल। जनपद अध्यक्ष फंदा प्रमोद राजपूत के नेतृत्व में 1 दर्जन से अधिक सरपंचों के साथ सैकड़ों ग्रामीणों ने पैदल मार्च करते हुए कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर दुर्गा पटले एसएलआर को कलेक्टर के नाम ज्ञापन सोते हुए आपत्तियां लगाई। जनपद अध्यक्ष प्रमोद राजपूत ने बताया कि भोपाल विकास योजना प्रारूप 2031 पर सुझाव आपत्ती लगाते हुए आज भोपाल कलेक्टर जी के नाम का ज्ञापन सौंपा। हमारी मांग है कि भोपाल के बड़े तालाब के कैचमेंट से प्रभावित गांवों को कैचमेंट के नाम से मुक्त किया जावे, कैचमेंट के नाम पर जो भी प्रावधान नकारात्मक किए गए हैं उन्हें हटाया जावे, भोपाल से फंदा सीहोर एवं भदभदा से भोपाल से रातीबड़, नीलबड़ मार के बीच बसे गांवों से पर्याप्त आवासीय सुविधाएं हैं इन गांवों को आवासीय योजना मैं सम्मिलित किया जावे।

भोपाल से फंदा सीहोर मार्ग पर दाहिने हाथ की पूरी भूमि ग्रीन बेल्ट में दर्शाई गई है यह उचित नहीं है एवं कोलाश नदी के आसपास के केचमेंट एरिया की दूरी तय की जावे और जमीनों को रूप में दर्शाया जा रहा है जो कि कभी डूब में थी ही नहीं। इसे आवासीय किए जाने की अनुमति दी जावे, भोपाल विकास योजना प्रारूप a2031 में 30 किलोमीटर दूर के क्षेत्र के आवासीय उपयोग हेतु उचित माना है जबकि भोपाल से फंदा सीहोर एवं भदभदा से रातीबड़ नीलबड़ रोड के बीच के ग्रामों को आवासीय नहीं किया गया है।

संत हिरदाराम नगर पूरी तरह से कमर्शियल हो चुका है अंदर गलियों तक छोटे बड़े कारखाने बने हुए हैं बैरागढ़ की लगभग डेढ़ से दो लाख तक की जनसंख्या है जिन्हें रहने की जगह की बहुत ही कमी है। सभी लोग बैरागढ़ के आसपास ही रहना पसंद करते हैं, जो भोपाल फंदा सीहोर रोड से दक्षिण दिशा की ओर लगी हुई जमीनों को आवासीय किया जावे।

ग्रामीण क्षेत्र में कोलाश नदी एवं कोलास से जुड़ने वाले नाले, नदी जिन पर अवैध रूप से कॉलोनिया बनाई जा रही हैं अवैध रूप से कालोनिया बनाए जाने के कारण फंदा के आसपास के गांवों में रहने वाले ग्रामीणों को बारिश के समय घरों एवं सड़कों पर पानी भराव की समस्या तथा किसानों की जमीनों में पानी का रुक आप होता है, और उससे उनकी फसल नष्ट हो जाती है तथा ग्रामीणों को भी काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। उन कॉलोनाइजर ऊपर कानूनी कार्रवाई की जावे।
इन मांगों को लेकर हमने कलेक्टर साहब के यहां आपत्ति लगाई है।

आपत्ती लगाने वालों में मुख्य रूप से ग्राम पंचायत खजूरी सड़क के सरपंच दिनेश पटेल, धर्मेंद्र वर्मा सरपंच टीला खेड़ी, गोरव पाटीदार सरपंच तुमड़ा, कालूराम बंशकार सरपंच पाटिनिया, अनीता जितेन नागर सरपंच बकानिया, वर्षा कुवर सोलंकी सरपंच फंदा, उधम राजपूत सरपंच कोढिया, जनपद सदस्य सरस्वती पाटीदार, धन कुमार मेवाड़ा, नर्मदा प्रसाद वर्मा, शिव मेवाड़ा एवं भारी संख्या में ग्रामीण जन उपस्थित थे।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button