Featured

हीरानंदानी ने एक शपथपत्र में कबूल किया

नई दिल्ली । व्यवसायी दर्शन हीरानंदानी ने खुद एक शपथपत्र में कबूल किया है कि तृणमूल सांसद महुआ मोइत्रा पर रिश्वत लेकर संसद में सवाल पूछने के आरोप बिल्कुल सच हैं, और महुआ मोइत्रा ने ही अपने संसद अकाउंट के लॉग-इन और पासवर्ड शेयर किए थे।

एक शपथपत्र में दर्शन हीरानंदानी ने कहा कि संसद में पूछे जाने वाले सवाल उन्होंने (दर्शन हीरानंदानी ने) ही संसद की वेबसाइट में महुआ के अकाउंट पर अपलोड किए थे। हीरानंदानी के शपथपत्र के मुताबिक, मैंने अदाणी ग्रुप को टारगेट करने के लिए सवाल भेजे थे।।। और अपुष्ट जानकारियों के आधार पर मैं महुआ के संसद अकाउंट पर सवाल पोस्ट करता रहा।।।

हीरानंदानी ने यह भी कबूल किया कि महुआ मोइत्रा राजनीति में तेज़ी से तरक्की करने के इरादे से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाना बनाना चाहती थीं, और इसी वजह से उन्होंने अदाणी को टारगेट किया। हीरानंदानी के अनुसार, मोदी -अदाणी को टारगेट करने के लिए महुआ लगातार कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के भी संपर्क में थीं।

हीरानंदानी समूह के सीईओ दर्शन हीरानंदानी ने दावा किया कि इस काम में महुआ मोइत्रा की मदद सुचेता दलाल, शार्दूल श्रॉफ और पल्लवी श्रॉफ कर रहे थे। इनके अलावा, महुआ की मदद कांग्रेस नेता शशि थरूर और पिनाकी मिश्रा ने भी की। दर्शन हीरानंदानी के मुतबिक, महुआ ने इस काम में विदेशी पत्रकारों से भी सहायता ली। लेकिन इनके साथ-साथ कई भारतीय मीडिया हाउसों से भी महुआ मोइत्रा संपर्क में थीं।

दर्शन हीरानंदानी ने हलफनामे में कहा – मैं उम्मीद कर रहा था कि महुआ मोइत्रा का साथ देने से मुझे विपक्षी (विपक्षी पार्टियों की सरकारों वाले) राज्यों में मदद मिलेगी, इसलिए मैं महुआ मोइत्रा को महंगे तोहफे भी दिया करता था, मैंने महुआ के सरकारी आवास की मरम्मत भी करवाई, और मैं महुआ की यात्राओं और छुट्टियां का खर्च उठाता था।

गौरतलब है कि तृणमूल कांग्रेस की लोकसभा सांसद महुआ मोइत्रा पर हीरानंदानी समूह के सीईओ दर्शन हीरानंदानी से रिश्वत लेकर संसद में ऐसे सवाल पूछने का आरोप है, जिनसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और हीरानंदानी समूह के व्यापारिक प्रतिद्वंद्वी अदाणी समूह की छवि खराब होती हो। महुआ मोइत्रा को संसद सदस्यता से निलंबित कर उनके ख़िलाफ़ जांच की मांग करती हुई चिट्ठी भारतीय जनता पार्टी के सांसद निशिकांत दुबे ने लोकसभा स्पीकर ओम बिरला को लिखी थी, जिसमें दावा किया गया था कि महुआ मोइत्रा पर ये आरोप सुप्रीम कोर्ट के वकील जय अनंत देहाद्राई की शिकायत के आधार पर लगाए गए हैं। निशिकांत दुबे के खत को स्पीकर ने एथिक्स कमेटी के पास भेजा था, जिन्होंने निशिकांत दुबे और जय अनंत देहाद्राई को सबूत पेश करने के लिए 26 अक्टूबर को बुलाया है।

Related Articles

Back to top button