Uncategorized

हार्टफुलनेस ने ग्रामीण समुदायों को सशक्त बनाने ओरिएंट पेपर मिल के सहयोग से कार्यक्रम शुरू किया

जबलपुर । हार्टफुलनेस इंस्टीट्यूट ने ग्रामीण समुदायों के जीवन को बदलने के उद्देश्य से अमलाई में ओरिएंट पेपर मिल (ओपीएम) के साथ एक अभूतपूर्व पहुँच कार्यक्रम के लिए हाथ मिलाया। हार्टफुलनेस एवं ओरिएंट पेपर मिल का पहुँच कार्यक्रम आज अमलाई में ओरिएंट पेपर मिल और एक्शन फॉर सोशल एडवांसमेंट (एएसए) के बीच एक समझौते पर हस्ताक्षर करके शुरू किया गया, जो समुदाय आधारित प्राकृतिक संसाधन विकास के लिए एक राष्ट्रीय स्तर का गैर सरकारी संगठन है।

इस अवसर पर श्री राम चंद्र मिशन के अध्यक्ष और पद्म भूषण से सम्मानित श्रद्धेय दाजी, ओरिएंट पेपर मिल्स अमलाई के संचालन प्रमुख श्री सी. एस. काशीकर, अमलाई ओपीएम फैक्ट्री के प्रबंध निदेशक श्री अश्विन लड्ढा, एएसए के निदेशक आशीष मंडल और परियोजना क्षेत्र के दूर दराज के गाँवों से आए एक हजार से अधिक ग्रामीणों, विशेषकर महिलाओं ने भाग लिया।

हार्टफुलनेस इंस्टीट्यूट की भूमिका व्यक्तियों को सशक्त बनाने के अलावा आंतरिक सद्भाव, शांति और मन की संतुलित स्थिति विकसित करने के लिए प्राणाहुति के माध्यम से अपने अद्वितीय ध्यान अभ्यास में प्रशिक्षित करना है।
इस कार्यक्रम का उद्देश्य 1089 गाँवों को शामिल करते हुए 450,000 से अधिक व्यक्तियों के जीवन को सकारात्मक रूप से प्रभावित करना है।

यह कार्यक्रम एक अभिनव और सहयोगी दृष्टिकोण का प्रतिनिधित्व करता है, जिसमें गैर सरकारी संगठनों, सरकार, राष्ट्रीय और विश्व स्तर पर प्रसिद्ध ज्ञान संस्थानों, एसएचजी (स्वयं सहायता समूह) और एफपीओ (किसान उत्पादक संगठनों) जैसे सामुदायिक संस्थानों, वित्तीय संस्थानों और विभिन्न अन्य हितधारकों के साथ साझेदारी की जाती है जो हरित विकास के लिए प्रतिबद्ध हैं और पर्यावरण अनुरूप जीवन शैली से जुड़े अभियान (LIFE- Lifestyle for Environment) के साथ सम्बद्ध हैं।

यह रणनीतिक गठबंधन इस पहल कार्यक्रम को प्रमुख वैश्विक चुनौतियों का सामना करने और संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्यों के लिए, विशेष रूप से मृदा एवं जल संरक्षण, टिकाऊ कृषि और एसएचजी के माध्यम से समुदायों, विशेषकर ग्रामीण महिलाओं को सशक्त बनाने के क्षेत्रों में मानदंड स्थापित करने में सक्षम करेगा।

श्री राम चंद्र मिशन के अध्यक्ष और पद्म भूषण से सम्मानित हार्टफुलनेस के आध्यात्मिक मार्गदर्शक श्रद्धेय दाजी ने कहा, “जब आप इतने सारे जीवनों को बदलते हुए देखते हैं तो यह इससे अत्यंत संतुष्टि की भावना उत्पन्न होती है। हमारा उद्देश्य हर घर में हार्टफुलनेस ध्यान पद्धति को ध्यान के सरल और सुलभ तरीके के रूप में प्रस्तुत करना है, जिससे यह एक दैनिक दिनचर्या बन जाए और हर व्यक्ति एवं हर जीवन में अंतर दिखाई पड़े|

मुझे बहुत खुशी है कि ओरिएंट पेपर मिल और एक्शन फॉर सोशल एडवांसमेंट ने एक साथ हाथ मिलाया है और ग्रामीण समुदायों के सशक्तीकरण के लिए एक उपकरण के रूप में हार्टफुलनेस मेडिटेशन को स्वेच्छा से अंगीकृत किया है जिससे उम्मीद है कि यह देश में सकारात्मक बदलाव का केंद्र बन जाएगा।“

एएसए के निदेशक श्री आशीष मंडल ने कहा, “हम ग्रामीण समुदाय के उत्थान के साधन के रूप में इस परियोजना को लेकर बहुत उत्साहित हैं। लोगों के जीवन में आध्यात्मिकता को शामिल करके रूपांतरण लाने की दिशा में श्रद्धेय दाजी के दिव्य मार्गदर्शन में हम आगे कदम बढ़ा रहे हैं।

ओरिएंट पेपर मिल के प्रबंध निदेशक अश्विन लड्ढा ने कहा, “450,000 लोगों के जीवन पर असर डालना कोई आसान काम नहीं है, लेकिन हम बदलाव लाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

श्रद्धेय दाजी की दिव्य उपस्थिति की छत्रछाया और एएसए के साथ हुए इस समझौते के बाद हम निश्चिंत हैं कि इन लाखों ग्रामीणों के जीवन में वांछनीय रूपांतरण अवश्य आएगा ।
हार्टफुलनेस के बारे में: हार्टफुलनेस, ध्यान के अभ्यासों और जीवन शैली में बदलाव का एक सरल संग्रह प्रदान करता है।

इसकी उत्पत्ति बीसवीं शताब्दी के आरम्भ में हुई और भारत में 1945 में श्री राम चंद्र मिशन की स्थापना के साथ इसे औपचारिक रूप दिया गया, जिसका उद्देश्य था एक एक करके हर हृदय में शांति, ख़ुशी और बुद्धिमत्ता लाना। ये अभ्यास योग का एक आधुनिक रूप हैं जिनकी रचना एक उद्देश्यपूर्ण जीवन की दिशा में पहले कदम के रूप में संतोष, आंतरिक शांति और स्थिरता, करुणा, साहस और विचारों में स्पष्टता लाने के लिए की गई है।

वे सरल और आसानी से अपनाए जाने योग्य हैं और जीवन के सभी क्षेत्रों, संस्कृतियों, धार्मिक विश्वासों और आर्थिक स्थितियों के ऐसे लोगों के लिए अत्यंत उपयोगी हैं, जिनकी उम्र पंद्रह वर्ष से अधिक है।

हजारों स्कूलों और कॉलेजों में हार्टफुलनेस अभ्यासों का प्रशिक्षण चल रहा है, और दुनिया भर के कॉर्पोरेट निगमों, गैर-सरकारी और सरकारी निकायों में लाखों स्टाफ और प्रोफेशनल यह ध्यान कर रहे हैं। 160 देशों में 5,000 से अधिक हार्टफुलनेस केंद्रों का हजारों प्रमाणित स्वयंसेवी प्रशिक्षकों और लाखों अभ्यास करने वालों द्वारा संचालन किया जाता है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button