Uncategorized

भाजपा सरकार के घोटाले की वजह से 3 सालों से लाखों नर्सिंग छात्र छात्राओं का भविष्य अंधकारमय : रवि परमार

भोपाल । मध्यप्रदेश नर्सिंग रजिस्ट्रेशन काउंसिल ने जीएनएम पाठ्यक्रम की प्रथम और द्वितीय वर्ष परीक्षा जो 18 मई 2023 से 24 मई 2023 तक हुई थी उसके परिणाम पर आगामी आदेश तक रोक लगा दी गई है। इसके आगामी आदेश तक परीक्षा परिणाम स्थगित किए गए हैं 19 मई को नर्सिंग रजिस्ट्रेशन काउंसिल ने आदेश में कहा था जिन कॉलेज की मान्यता समाप्त होगी उनके रिजल्ट कोर्ट के अधीन माना जाएगा अब अपने ही आदेश को नर्सिंग रजिस्ट्रेशन काउंसिल ने बदलकर जीएनएम की फर्स्ट और सेकेंड ईयर के रिजल्ट पर अगले आदेश तक रोक लगा दी है।

नर्सिंग की परीक्षा के परिणाम रोकने पर एनएसयूआई मेडिकल विंग के संयोजक रवि परमार ने कहा है कि लाखों बच्चों का भविष्य अंधकार में है क्योंकि पिछले 3 सालों से मेडिकल विश्वविद्यालय के बीएससी नर्सिंग , एमएससी नर्सिंग और पोस्ट बीएससी नर्सिंग के छात्र छात्राओं की परीक्षाएं नहीं होने के कारण स्टूडेंट्स परेशान हैं और मप्र नर्सेस रजिस्ट्रेशन काउंसिल ने जीएनएम प्रथम और द्वितीय वर्ष की परीक्षा करवाई थी उसके परीक्षा परिणाम पर भी रोक लगा दी हम इसका विरोध करते हैं क्योंकि मध्यप्रदेश ही नहीं अन्य राज्यों से नर्सिंग की पढ़ाई करने आए छात्र छात्राओं का भविष्य अंधकारमय में हैं

दोषियों पर अभी तक नहीं हुई कार्रवाई

रवि परमार ने कहा कि प्रदेश में जहां तीन साल से नर्सिंग की परीक्षा नहीं हुई है, तो दूसरी तरफ यह मामला हाई कोर्ट में चल रहा है। इस मामले में सीबीआई जांच चल रही है। इसमें अभी तक कोई भी बड़े अधिकारी जिन्होंने फर्जी नर्सिंग कॉलेजों को मान्यता दी थी और जिन्होंने निरीक्षण किया था उन पर कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

हमारी मांग है कि दोषी अधिकारी और कर्मचारियों तुरंत कार्रवाई की जाए वह छात्र जो परेशान हैं उनके भविष्य को लेकर कोई निर्णय जल्द ही लिया जाए साथ ही उनकी परीक्षा करवाई जाए और जिन परीक्षा परिणाम पर रोक लगाई गई हैं उसको तत्काल हटाया जाए अन्यथा एनएसयूआई उग्र प्रदर्शन करेंगी ।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button