Uncategorized

चीन में मनाते हैं डॉग मीट फे‎स्टिवल, कुत्तों को मारकर बेचते हैं मार्केट में

यूलिन । इंसान द्वारा जानवरों पर अत्याचार का एक बेहद क्रूर और खतरनाक तरीका चीन में हो रहा है। जहां इन ‎दिनों डॉग मीट फे‎स्टिवल चल रहा है। यहां कुत्तों पर इतने अत्याचार करते हैं, कि इनकी आबादी भी खत्म होने लगी है। इसी अत्याचार का एक नमूना चीन में देखने को मिलता है जहां कुत्तों से जुड़ा एक मीट फेस्टिवल मनाया जा रहा है।

इस त्योहार में कुत्तों को बुरी तरह से प्रताड़ित किया जाता है और फिर उन्हें जिंदा जलाकर मार्केट में बेच दिया जाता है। इन दिनों ये फेस्टिवल चल रहा है। जानकारी के अनुसार इस साल चीन के यूलिन में होने वाला डॉग मीट फेस्टिवल 21 जून से 1 जुलाई तक चलेगा। ऐसे में कुत्तों पर होने वाले अत्याचार का नमूना लोगों को देखने को मिल रहा है।

एक मी‎डिया रिपोर्ट के अनुसार, एनिमल राइट्स एक्टिविस्ट हाल ही में एक अवैध मीट मार्केट में घुसे, जहां कुत्तों को जलाकर, फ्राई कर मार्केट में बेचा जाता है। यहां का नजारा भयानक था और एक्टिविस्ट ने करीब 19 कुत्तों की जान भी बचाई है। मार्केट की तस्वीरें इतनी भयानक हैं कि देखना मु‎श्किल है।

रिपोर्ट के मुताबिक इस मार्केट में डॉग मीट खाने वाले लोगों की भीड़ नजर आ रही है, और बड़ी संख्या में कुत्ते वहां मरे पड़े हैं। यहां पर सड़क पर घूमने वाले आवारा कुत्तों से लेकर दूसरों के पालतू कुत्तों को जबरदस्ती अगवा किया जाता है और यहां मार्केट में लाकर मौत के घाट उतार दिया जाता है। इसके बाद इन्हें यहां बेच दिया जाता है।

इन मार्केट में कुत्तों के रोएं उतारने के लिए बाकायदा मशीन लगी हुई है। कुत्तों को मुख्य शहर से पकड़कर गाड़ियों के रास्ते, शहरों के बाहर बने स्लॉटरहाउस में लाया जाता है। जिस स्लॉटरहाउस में एनिमल राइट्स एक्टिविस्ट्स ने हाल ही में प्रवेश किया, उनका दावा है कि ये सबसे बुरा बूचड़खाना है।

एनिमल ग्रुप वीशाइन के कार्यकर्ता टेंग ने ह्यूमन इंटरनेशनल सोसाइटी को बताया कि बूचड़खाने में जानवर बेहद डरे हुए नजर आ रहे थे और खून-मांस की बदबू से पूरा इलाका महक रहा था। कुत्तों ने जब बचाव कर्मियों को देखा, तो तुरंत अपने पिंजड़े पर हाथ-पैर मारने लगे। गौरतलब है कि यूलिन में होने वाला डॉग मीट फे‎‎स्टिवल कोई पारंपरिक उत्सव नहीं है, बल्कि इसकी शुरुआत साल 2010 में हुई थी।

इसे डॉग मीट बेचने वाले लोगों ने शुरू किया था जिससे वो कुत्तों के मीट का व्यापार और खरीद को बढ़ा सकें। इससे पहले, यहां कोई रिकॉर्ड नहीं मिलता, जब कुत्तों को इतनी बड़ी संख्या में मारा जाता हो और फिर बाजार में बेचा जाता हो।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button