Featured

परिणाम आने के पूर्व भाजपा प्रत्याशी हुए आक्रोशित, भाई से करवा रहे प्रतिष्ठित लोगों की पुलिस में शिकायतें

टीकमगढ़ । स्थानीय विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी एवं मतदान के पूर्व तक विधायक रहने वाले राकेश गिरि और उनके परिवार को चुनाव के परिणाम आने से पूर्व जान का खतरा बताकर प्रत्याशी स्वयं अपने भाई के द्वारा शहर के प्रतिष्ठित लोगों की शिकायतें दर्ज करवाने में जुटे हुए हैं। हालांकि पुलिस थाना कोतवाली प्रभारी आनंद राज के बताए अनुसार वह मामले की जांच करने में जुटे हुए हैं। मामला कुछ भी हो मगर प्रत्याशियों के घर भीड़ का जमावड़ा देखकर स्थिति साफ हो चुकी है। केवल प्रशासन के प्रमाण पत्र का इंतजार बाकी है। जिन लोगों के नाम भाजपा प्रत्याशी ने अपने भाई द्वारा शिकायती आवेदन में उछाले हैं वह दोनों लोग इस सारे घटनाक्रम को एक षड़यंत्र बता रहे है क्योंकि इन दोनों ही लोगों को विधानसभा चुनाव से कोई सरोकार नहीं है। जबरन में भाजपा प्रत्याशी के परिजनों द्वारा इन्हें मोहरा बनाया जा रहा है। ऐसा इन दोनों लोगों का मानना है हालांकि दबी जुबान से शहर के संभ्रांत लोगों का कहना है िक ऐसी घटनाएं तो 2018 से अभी तक घटती आई हैं कि निर्दोष लोगों को कई मामलों में दोषी बनाया गया है जिसका खमियाजा आज सामने वाले को भुगतना पड़ रहा है।

गौरतलब है कि भाजपा प्रत्याशी राकेश गिरी के भाई महेश गिरी ने थाना कोतवाली में शिकायती आवेदन दिया है जिसमें उल्लेख किया गया कि मतदान होने के बाद शुक्रवार की रात्रि कुछ लोगों के फोन आए जिसमें उन्होंने अनुचित बातें कहीं है साथ ही लगातार इन नंबरों से फोन आते रहे उन्होंने आवेदन में बताया कि इसके बाद उनके छोटे भाई यशराज गिरी के फोन पर भी उनकी लोकेशन ली गई। महेश गिरी ने बताया कि उक्त लोग मेरे परिवार के साथ किसी घटना को अंजाम दे सकते हैं।

घटनाक्रम की चल रही बारीकी से जांच : नगर निरीक्षक आनंद राज ने बताया कि इस सारे घटनाक्रम का आवेदन पुलिस को प्राप्त हो चुका है मामले की जांच पुलिस अधीक्षक के निर्देशन में बारीकी व गंभीरता से की जा रही है जो भी तथ्य सामने आएंगे या कोई भी दोषी पाया जाएगा उसके विरूद्ध कार्यवाही की जाएगी।

सारा घटनाक्रम दे रहा कई सवालों को हवा : जब प्रेस की टीम ने मंगलवार को शहर के सभ्रांत लोगों एवं मतदान करने के बाद राहत महसूस करते हुए बताया कि यह सारा घटनाक्रम कई सवालों को हवा दे रहा है जिसमें दो सवाल सामने निकल कर आ रहे हैं। जिनमें पहला शहर दूसरा ग्रामीण अंचल । हालांकि लोग नपा चुनाव जैसे परिणाम आने की संभावना जता रहे हैं क्योंकि लोगों का कहा है कि एक समाज विशेष के लोगों को नपा चुनाव में नकारा गया था। उसी समाज से विधानसभा चुनाव की लड़ाई थी। जिसे उसके बारे में यथा स्थिति बताने का काम मतदाताओं ने किया है। परिणाम कुछ भी हों मगर यह सारा चुनाव जनता एवं सभ्रांत नागरिकों ने लड़ा है। विधानसभा का चुनाव भ्रष्टाचार के मुद्दे पर शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न हुआ है।

दोनों लोगों ने कहा ये है षड़यंत्र : भाजपा प्रत्याशी के भाई ने जिन लोगों के नामों का उल्लेख शिकायती आवेदन में किया है। उन दोनों लोगों ने इसे षड़यंत्र बताया है। दोनों का ही कहना है कि भाजपा प्रत्याशी जब पूर्व में 2018 के चुनाव में विधायक चुने गए थे तभी से वह इस तरीके की राजनीति करते आए हैं उसी का शिकार बनाने का प्रयास उन्होंने आज हम दोनों लोगों के साथ किया है। हालांकि दोनों लोगों का मानना है कि पुलिस प्रशासन निष्पक्ष हैं और हमें न्याय मिलेगा। अब बेकसूर लोगों को दोषी नहीं बनाया जाएगा।

Related Articles

Back to top button