संसद में खामोश कर दिए जाते हैं विपक्ष के माइक : लंदन में राहुल गांधी

लंदन । हाउस ऑफ कॉमन्स के ग्रैंड कमेटी रूम में भारतीय मूल के विपक्षी लेबर पार्टी के सांसद वीरेंद्र शर्मा द्वारा आयोजित कार्यक्रम के दौरान राहुल गांधी ने अपनी 'भारत जोड़ो यात्रा' के अनुभवों को भी साझा किया और इसे लोगों को जोड़ने का बड़ा राजनीतिक कार्यक्रम करार दिया।
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने सोमवार को लंदन में हाउस ऑफ पार्लियामेंट कॉम्प्लेक्स में ब्रिटिश सांसदों को संबोधित किया। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ब्रिटिश सांसदों से कहा कि हमारे यहां लोकसभा में अक्सर विपक्षी सदस्यों के माइक को बंद कर दिया जाता है।
भारतीय मूल के विपक्षी लेबर पार्टी के वरिष्ठ सांसद विरेंद्र शर्मा की ओर से आयोजित कार्यक्रम में राहुल गांधी ने भारत जोड़ो यात्रा के अनुभवों को भी साझा किया है और इसे भारी भीड़ के बीच गहन राजनीतिक अभ्यास बताया। यह कार्यक्रम हाउस ऑफ कॉमंस परिसर के भीतर ग्रैंड कमेटी कक्ष में आयोजित किया गया था। राहुल ने एक खराब माइक्रोफोन का इस्तेमाल कर यह बताने की कोशिश की कि किस तरह से लोकसभा में बहस के दौरान विपक्ष की आवाज को बंद कर दिया जाता है।
केरल के वायनाड से सांसद राहुल ने कहा, हमारे माइक खराब नहीं होते, वे काम करते हैं, लेकिन आप उन्हें ऑन नहीं कर सकते हैं। मैं जब बोलता हूं तो मेरे साथ ऐसा कई बार हुआ है। उन्होंने कहा, नोटबंदी जो एक विनाशकारी वित्तीय निर्णय था, उस पर हमें चर्चा करने की अनुमति नहीं दी गई। जीएसटी पर हमें चर्चा नहीं करने दिया गया। चीनी सैनिक हमारे क्षेत्र में घुस आए, लेकिन इस पर हमें चर्चा करने की अनुमति नहीं दी गई। उन्होंने कहा, मुझे एक ऐसी संसद याद है जहां जीवंत चर्चाएं, गरमागरम बहसें, तर्क-वितर्क और असहमतियां थीं, लेकिन हमने बहस की। अब हम संसद में ऐसा नहीं देखते। 

राहुल ने आरएसएस पर भी साधा निशाना
राहुल गांधी ने कहा कि भारत में लोकतांत्रिक प्रक्रिया की प्रकृति पूरी तरह से बदल गई है और इसका कारण यह है कि आरएसएस नामक एक संगठन, जो कि एक कट्टरपंथी, फासीवादी संगठन है, ने मूल रूप से भारत के सभी संस्थानों पर कब्जा कर लिया है। उन्होंने कहा कि इस बात ने मुझे चौंका दिया कि वे हमारे देश के विभिन्न संस्थानों पर पकड़ बनाने में कितने सफल रहे हैं। प्रेस, न्यायपालिका, संसद और चुनाव आयोग सभी खतरे में हैं और किसी न किसी तरह से नियंत्रित हैं।
उन्होंने कहा कि भारत में, आप देख सकते हैं कि दलितों, आदिवासियों और अल्पसंख्यकों के लिए क्या किया जा रहा है। ऐसा नहीं है कि यह कांग्रेस यह कह रही है। विदेशी मीडिया में हर समय ऐसे लेख आते रहते हैं कि भारतीय लोकतंत्र में गंभीर समस्या है। आप किसी भी विपक्षी नेता से पूछ सकते हैं कि एजेंसियों का उपयोग कैसे किया जाता है। मेरे फोन पर पेगासस लगा हुआ था, जो तब नहीं हो रहा था जब हम सत्ता में थे।

राहुल ने कहा कि वे (चीन) हमारे क्षेत्र के 2,000 वर्ग किमी पर कब्जा करके बैठे हैं। हमारे प्रधानमंत्री ने विपक्षी नेताओं के साथ एक बैठक में कहा कि भारत की जमीन का एक इंच भी नहीं लिया गया है। सेना इसे जानती है लेकिन हमारे पीएम कहते हैं कि वे वहां नहीं हैं। यह उन्हें प्रोत्साहित करता है।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post