वागेश्वरी जिसकी माँ वो ही मुक्त करावेगा। जिन्होने अपना DNA बदला वह सरस्वती पुत्र नही : अखिल भारत हिंदू सभा

भोपाल । धार जिले में स्थित भोजनाला मो वांजेश्वरी सरस्वती के अति प्राचीन मंदिर के पवित्र धर्म के भीतर मुसलमान नमाज पढ़ने की जिद करता है और आजपा सरकार उनकी जिद पूर्ती हेतु हिन्दुओं पर लाठिया बताती है। अब इस अपमानित परम्परा पर पूरी तरह रोक लगनी ही चाहिये।

ज्ञात हो की 16 अक्टूबर से 22 अक्टूबर तक अखिल भारत हिन्दू महासभा द्वारा मध्य प्रदेश के सभी जिलो से मुख्यमंत्री मा. शिवराज सिंह चौहान को ओलसाला की मुक्ति हेतु ज्ञापन सोपे नयें परिणाम स्वरूप 29 अक्टूबर 2022 को मुख्यमंत्री जी ने भोजशाला की मूर्ती जो लंदन में है उसे वापस लाने का अश्वासन दिया जो की राजनैतिक अम मात्र विदित हो की जान की परंपरा के अनुसार खण्डित मूर्ती की पूजा संभव नहीं है इस डिवें शिवराज सिंह के बयान

भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव देवेन्द्र पाण्डेव ने पत्रकारो से चर्चा करते हुवें कि भोजशाला के गर्भगृह की सुरक्षा और पवित्रा ज्यादा जरूरी है पहले ओवसाला को आतंक और राजनैतिक षडयंत्रों से मुक्त करने की जरूरत है । जब तक भोजसाला को भय मुक्त नहीं हो जाती तब तक मूर्ती स्थापना संभव नहीं है। मुख्यमंत्री पहले सोलसाला के भूत मे नमाज पढ़ने पर अंकुश लाने का साहस करे। देवेन्द्र पाण्डेय ने बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा को पत्र लिख कर दिनांक 14जनवरी 2023 को धार भोजसाक्ष की मुक्ति हेतु होने वाले आन्दोलन में शामिल होने का आमंत्रण भेजा गया है। 

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post