सेवानिवृत्त कर्मचारी के अंधे कत्ल का खुलासा, ह्त्यारोपी मां बेटी गिरफ्तार

पूर्व में घर में काम करने आई महिला एवं उसकी नाबालिक बेटी ने दिया घटना को अंजाम ।


घटना में घर में रखे कांच के फूलदान, संसी, डंडा, मिर्ची का पाउडर का किया उपयोग ।

एमपीईबी के सेवानिवृत्त कर्मचारी की  10 जनवरी की रात्रि में की गई थी नृशंस हत्या 

तकनीकी साक्ष्यों, अन्य साक्षीगण एवं करीबन सौ से अधिक सीसीटीव्ही फुटेज खंगालने के उपरांत आरोपियों तक पहुंची पुलिस 

आरोपी महिला एवं मृतक के मध्य पैसों की वात को लेकर घटना स्थल पर हुआ था विवाद ।
                 
भोपाल । राजधानी के पिपलानी थानांतर्गत  10 जनवरी 2023 को रात्रि करीब 10 बजे मृतक दिलीप मोहाडकर की बेटी दीप्ती ने अपने पिता को फोन लगाया लेकिन पिता द्वारा फोन न उठाने पर पड़ौसी को फोन किया जिन्होने घर जाकर देखा तो दिलीप मोहाडकर के घर के मुख्य द्वार खुला हुआ था एवं तीव्र ध्वनि में टीव्ही चल रही थी । और दिलीप मोहाडकर का शव घर के अंदर हाल में खून से लथपथ पड़ा हुआ था । आस-पड़ौस वालों ने पुलिस को सूचना दी तत्काल पुलिस मौके पर पहुंची । मौके पर मृतक दिलीप मोहाडकर के भाई सतीष चन्द मोहाडकर ने बताया कि भाई साहब सुबह फ्लाइट से अपने बेटे भूषण के पास बेंगलोर जाने वाले थे । अंदर जाकर देखा तो पाया कि बड़े भाई दिलीप की लाश घर के हाल में फर्श में चित अवस्था में पड़ी है। उनके सिर में काफी गहरा घाव है जहां से काफी खून निकलकर फर्श पर वह गया था । एवं शरीर के अन्य हिस्सो में चोट के निशान थे । कुछ कांच के टुकडे व एक हाथ घड़ी के टूटे हुए दो टुकड़े व एक बैलन जिसमे खून लगा हुआ है. मौके पर पड़ा हुआ है। अंदर कमरे में आलमारी भी खुली पड़ी है. उनके सामान भी बाहर निकले पड़े हैं। ऊपर की दोनो बेड रूम की आलमारी भी खुली हुई थीं तथा उनके लाकर व दराज भी खुले होकर आलमारी का सामान बिस्तर पर पड़ा हुआ है। जिस पर अज्ञात आरोपीगणों के विरूद्ध थाना पिपलानी में अपराध धारा 302 भादवि का पंजीवद्ध कर विवेचना में लिया गया । 
अपराध पंजीबद्ध करने के उपरांत गठित की गई पुलिस की विशेष टीम द्वारा घटना स्थल से क्रमवद्ध तरीके से तकनीकी साक्ष्यों के माध्यम से एवं लगभग दो दर्जन लोगों से पूछताछ उपरांत एवं घर में आने-जाने वाले लोगों से पूछताछ की गई जिससे अनुसंधान में पाया कि मृतक के घर अक्सर महिलाओं का आना-जाना रहता था । परिजनों से पूछताछ के बाद घर में आने वाली महिलाओं से पूछताछ की गई । इस दौरान आरोपीगणों के संबंध में महत्वपूर्ण साक्ष्य मिले । तथा घटना के पूर्व दो नकाबपोश महिलाएं घटना स्थल के आस-पास देखी गई और पुलिस को पता चला कि घर में काम करने वाली एक बाई घटना दिनांक के दूसरे दिन से भोपाल शहर से अचानक वाहर गई है । जिसके संबंध में जानकारी एकत्रित की गई । पूर्व में घर में काम करने वाली महिला एवं उसकी बेटी का हुलिया घटना स्थल के आस-पास देखी गई महिलाओं से मिलता-जुलता होने से दोनों से पृथक-पृथक पूछताछ की गई । जिसमें आरोपियों द्वारा घटना दिनांक को पैसों को लेकर हुए विवाद के उपरांत मृतक दिलीप मोहाडकर की हत्या एवं इसके उपरांत लूटपाट करना स्वीकारा तथा घटना के दौरान अपहृत कर ले गई सामग्री, एवं हत्या के दौरान पहने हुए कपड़ो को आरोपियों से जप्त किया गया । इस प्रकार आरोपियों को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त हुई । 
 निरीक्षक अजय कुमार नायर, थाना प्रभारी थाना पिपलानी, निरीक्षक नीलेश अवस्थी, उनि संतोष रघुवंशी, चौकी प्रभारी आनंद नगर, उनि कृष्ण प्रताप सिंह, उनि सुरेखा आर्मा, उनि रास विहारी शर्मा, थाना प्रभारी मिसरौद, उनि गोविंद यादव थाना गोविंदपुरा, थाना सउनि अजय सिंह, सउनि सुषमा सिंह(थाना वागसेवनिया), प्रआर सुरेश शर्मा, प्रआर धर्मेन्द्र मिश्रा, आर ब्रजेश सिंह, आर जितेन्द्र दांगी, म.आर शेरूनिशा, म.आर प्रिया सिंह, आर दीपक और आर आदित्य साइबर जोंन-2 एवं निरीक्षक रीतेश शर्मा, उनि घनश्याम दांगी एवं उनि सुनील भदौरिया के नेतृत्व में गठित क्राईम ब्रांच भोपाल की टीम की महत्वपूर्ण भूमिका रही। 

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post