ग्वालियर विकास प्राधिकरण का मामला : तीन दिन में करना था रिलीव, अभी तक नहीं हुआ


 स्थानांतरण के बाद भी जमे
मंत्रालय के आदेश की कर रहे हैं अवहेलना
भोपाल। यूं तो ग्वालियर विकास प्राधिकरण अपनी कार्यशैली को लेकर अक्सर सुर्खियों में रहता है, ताजा मामला एक और सामने आया है जिससे ग्वालियर विकास प्राधिकरण के सीईओ व नगरीय प्रशासन व आवास विभाग के अधिकारियों पर सवाल उठ रहे हैं। एक सहायक ग्रेड 2 अधिकारी का तबादला होने के बाद भी उसे कार्यमुक्त नहीं किया गया है। बताया जा रहा है कि इस संबंध में आयुक्त नगरीय प्रशासन, प्रमुख सचिव, विभागीय मंत्री को शिकायत के अलावा सीएम हेल्पलाइन पर भी शिकायत दर्ज कराई गई है।
जानकारी के मुताबिक सहायक ग्रेड 2 अतुल उपाध्याय ग्वालियर विकास प्राधिकरण में लंबे समय से पदस्थ हैं। दिसंबर माह में नगरी प्रशासन एवं आवास विभाग मंत्रालय द्वारा अधिकारियों के तबादले किए गए थे, जिसमें अतुल उपाध्याय का स्थानांतरण कटनी विकास प्राधिकरण को किया गया था। जारी आदेश में इस बात का साफ उल्लेख था कि उक्त अधिकारी को तीन दिवस के अंदर कार्यमुक्त किया जाए, कार्यमुक्त न करने की दिशा में स्वतः कार्यमुक्त माना जाए। उपसचिव नगरीय विकास एवं आवास विभाग मंत्रालय हर्षल पंचोली के हस्ताक्षर से यह आदेश 28 दिसंबर को जारी हुआ था। 

आला अधिकारियों,राजनेताओं का संरक्षण प्राप्त
 सूत्रों की माने तो अतुल उपाध्याय लंबे समय से ग्वालियर विकास प्राधिकरण में पदस्थ है। यहां पर जितने भी सीईओ रहे उनसे अच्छे संबंध बनाकर महत्वपूर्ण कार्य इनके द्वारा ही संपादित किए जा रहे हैं। सूत्रों की माने तो स्थानीय निवासी होने के साथ-साथ आला अधिकारियों से अच्छे संबंधों का हवाला होने की बात कहकर जो भी सीईओ आता है उसको नजदीकियां बना लेते हैं।

आखिर कब होगी कार्रवाई मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा बेहतर प्रदर्शन नहीं करने वाले अधिकारियों को तुरंत कार्रवाई कर हटाए जाने के साथ कईयों को निलंबित भी किया जा चुका है। सीएम शिवराज सिंह चौहान इस बात को लेकर कई बार कह चुके हैं कि गड़बड़ी, अन्याय, अत्याचार,भ्रष्टाचार करने वाले अधिकारियों को छोड़ा नहीं किया जाएगा। गड़बड़ी करने वाले अधिकारियों -कर्मचारियों को नहीं बख्शने के साथ उत्कृष्ट कार्य करने वालों को पुरस्कृत किया जाएगा। फिर आखिर ऐसी क्या मजबूरी है कि एक ग्रेड2 अधिकारी को हटाने में विभाग नाकाम दिखाई दे रहा है। अब यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या उक्त अधिकारी वहां से हट पाएगा या फिर वहीं पर अंगद की तरह जमा रहेगा।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post