संभाग के जिलों में नवाचार परिणाम मूलक बनाएं : संभागायुक्त

 महिला बाल विकास की समीक्षा बैठक सम्पन्न 

भोपाल । संभाग के सभी जिलों में महिला बाल विकास विभाग द्वारा प्रारंभ किए गए नवाचारों को परिणाम मूलक बनाया जाए जिससे नागरिकों को लाभ सुनिश्चित हो । यह निर्देश बुधवार को महिला बाल विकास की समीक्षा के दौरान संभाग आयुक्त मालसिंह भयड़िया ने दिए है।बैठक में सभी जिला अधिकारी और संयुक्त संचालक नकी जहां कुरैशी और सयुक्त आयुक्त विकास सुदर्शन सोनी भी उपस्थित थे।
उल्लेखनीय है कि भोपाल जिले ने पुलिस के साथ मिलकर बालिका सुरक्षा,सीहोर ने लकड़ी के खिलौनों से आंगनबाड़ी के बच्चों का मानसिक और शारीरिक विकास,रायसेन ने आंगनबाड़ी में पौष्टिक पोषण आहार, विदिशा ने कुपोषण से आजादी के लिए पोषण मित्र और राजगढ़ जिले ने ऐनेमिया से मुक्ति के लिए समाज की भागीदारी से नवाचार प्रारंभ किया है। संभाग आयुक्त ने सभी जिला अधिकारियों के प्रयासों की प्रशंसा करते हुए निर्देश दिए हैं कि इन्हें परिणाम मूलक बनाया जाए।
बैठक के दौरान कमिश्नर ने कुपोषण अभियान में मेम और सेम श्रेणी में सुधार पर भी संतोष व्यक्त करते हुए कहा कि अतिकुपोषित बच्चों की श्रेणी सुधार में और प्रयास करें तथा व्यक्तिगत रुचि भी लें। उन्होंने कहा कि बाल आशीर्वाद और समग्र छात्रवृत्ति योजना का लाडली लक्ष्मी को लाभ सुनिश्चित करें।
कमिश्नर ने कुछ योजनाओं की परियोजना वार समीक्षा की और अधिकारियों को निर्देश दिए कि कोई भी जिला रैंकिंग में टॉप 10 में ही हो।
पूरक पोषण अभियान की समीक्षा करते हुए कमिश्नर ने निर्देश दिए कि पोषण आहार प्रदाय करने वाले समूहों का भुगतान पेंडिंग नहीं हो।उन्होंने सभी केंद्रीय योजनाओं की लक्ष्य पूर्ति के लिए जिला और जनपद पंचायत से समन्वय करने के लिए भी कहा है।
उन्होंने रिक्त आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका की भर्तियों तथा अधोसंरचना विकास के कार्यों में भी तेजी लाने के निर्देश दिए हैं।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post