बैंक ऑफ महाराष्ट्र कर्मियों द्वारा भारती सहित अन्य मांगों का ज्ञापन के साथ किया प्रदर्शन


बैंक ऑफ महाराष्ट्र में 27 जनवरी तथा 9 एवं 10 फरवरी 2023 को अखिल भारतीय हड़ताल
भोपाल । यूनाईटेड फोरम ऑफ महाबैंक यूनियंस के आव्हान पर राजधानी भोपाल के सैंकड़ों बैंक अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने सोमवार  9  जनवरी 2023 को शाम 6 बजे बैंक ऑफ महाराष्ट्र के अरेरा हिल्स स्थित आंचलिक कार्यालय के आंचलिक प्रबंधक, भोपाल अंचल को अपनी लंबित एवं जायज मांगों हेतु ज्ञापन सौंपा एवं इसके पश्चात् प्रभावी प्रदर्शन किया। आंदोलित अधिकारियों एवं कर्मचारियों की मांग है कि पर्याप्त संख्या में अधिकारी, कर्मचारी, चपरासी एवं सफाई कर्मचारियों की भर्ती की जावे, कार्य के दबाव में तनावग्रस्त रह रहे बैंक कर्मियों को तनावमुक्त कर उनके कार्य के समय एवं जीवन को संतुलित बनाया जावे, द्विपक्षीय समझौतों का पालन किया जावे एवं प्रताड़नापूर्वक कार्यवाही एवं स्थानान्तरणों पर रोक लगाई जावे ।
पिछले 2 वर्षों से अधिकारी/कर्मचारी आन्दोलन की राह पर है। इस दौरान उच्चतम कार्यपालकों में से कार्यकारी निदेशक के आश्वासन पर अधिकारी / कर्मचारियों ने अपना आन्दोलन स्थगित कर दिया था लेकिन उच्च प्रबंधन ने अपने आश्वासन को कायम नहीं रखा एवं किये गये वादों से मुकर गये। प्रदर्शन के बाद सभा हुई जिसे बैंक कर्मचारी अधिकारी नेताओं साथी वी के शर्मा,अशोक पंचोली, किशन खैराजानी, गजेंद्र पडहार,अम्बर नायक,विकास दीक्षित, विवेक शर्मा, मनीष जैन, रोहित हसनानी, गुणाशेखरण, जे पी दुबे, भगवान स्वरूप कुशवाह, महेन्द्र तिवारी, कृष्णा पाण्डे, अमित गुप्ता आदि ने संबोधित किया। वक्ताओं ने बताया कि आज महाबैंक में पिछले एक दशक में बैंक के कारोबार में 250-300 प्रतिशत की वृद्धि हुई है जबकि कर्मचारियों की संख्या में 10 से 15 प्रतिशत की कमी हुई है हालांकि इस अवधि के दौरान उन्नत प्रौद्योगिक पेश की गई है एवं अन्य वैकल्पिक वितरण चैनलों को मजबूत किया गया है।
सरकार के जन, धन, जीवन सुरक्षा, जीवन ज्योति, अटल पेंशन, मुद्रा, स्वनिधि, फसल ऋण, फसल बीमा आदि जैसे अन्य कई प्रकार की सरकारी योजना / व्यवसाय को जिम्मेदारियाँ दी गई है, जिसके फलस्वरूप काउंटरों पर काम के बोझ में अभूतपूर्व असर हो रहा है। ग्राहक सेवा पर भी विपरीत प्रभाव पड़ रहा है।
आन्दोलन के प्रथम चरण में यूनियनों द्वारा आज देश भर के 42 अंचल कार्यालयों को ज्ञापन सौंपा गया। कर्मचारियों / अधिकारियों की जायज मांगों का निराकरण नहीं किया जाता है तो आन्दोलन के आगामी चरणों में बैंक ऑफ महाराष्ट्र के बोर्ड, केन्द्र सरकार वित्त विभाग के सचिव इत्यादि को डेलीगेशन, बैंक के केन्द्रीय कार्यालय पुणे को सामूहिक डेप्यूटेशन, कैन्डल मार्च पुणे इत्यादि के बाद भी बैंक के उच्च प्रबंधन ने जायज मांगों का निराकरण नहीं किया तो  27 जनवरी 2023 को 01 दिन की हड़ताल एवं 9 एवं 10 फरवरी 2023 को 2 दिन की राष्ट्रव्यापी हड़ताल का आव्हान किया है।
यूनाईटेड फोरम ऑफ महाबैंक यूनियन्स के आन्दोलन के आव्हान को ऑल इंडिया बैंक एम्प्लाईज एसोसिएशन के उपाध्यक्ष मोहम्मद नजीर कुरेशी,म.प्र. बैंक एम्प्लाईज एसोसिएशन के  महासचिव व्ही.के. शर्मा, अध्यक्ष साथी दीपकरत्न शर्मा, गुणाशेखरन, जे पी दुबे, कृष्णा पाण्डे, अमित गुप्ता एवं म.प्र. बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन के साथी डी के पोद्दार, वी एस रावत, एम एस जयशंकर, भगवान स्वरूप कुशवाहा, महेंद्र तिवारी, रमेश सिंह, अतुल नाज आदि ने समर्थन दिया है एवं आन्दोलन को सफल बनाने हेतु हर सम्भव सहयोग करने हेतु आश्वस्त किया है।
प्रदर्शन एवं सभा में विभिन्न बैंकों के कर्मचारी एवं अधिकारी वी के शर्मा, गुणाशेखरण, भगवान स्वरूप कुशवाह, जे पी दुबे, महेन्द्र तिवारी, कृष्णा पाण्डे, अमित गुप्ता, किशन खैराजानी,अशोक पंचोली, गजेंद्र पडहार, रोहित हसनानी, मनीष जैन, अंबर नायक, विकास दीक्षित, प्रदीप कटारिया, सुनील द्विवेदी,राहुल शर्मा, साक्षी जैन,सुचिता चौरसिया , आशीष कोष्टी,मनोज माघी,सोनिका पटवारी,दीपक गुप्ता, दीप्ति नारावणी, अवध वर्मा, महेश छावरिया, अंकिता वर्मा, स्वप्निल, दिव्या ,अनीता , जी एस यादव, राहुल , हेमंत भसनैया आदि उपस्थित थे।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post