पत्रकारिता विश्वविद्यालय का बिशनखेड़ी में शिफ्ट होना ऐतिहासिक पल : प्रो. केजी सुरेश

16 जनवरी से नए परिसर में संचालित होगा एशिया का पहला पत्रकारिता विश्वविद्यालय,
पचास एकड़ भूमि में बना है सर्वसुविधायुक्त विश्वविद्यालय,

भोपाल । सोमवार का दिन माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के इतिहास का सबसे एतिहासिक दिन होने वाला है । ये कहना है एशिया के पहले पत्रकारिता विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.केजी सुरेश का । आईआईएमसी के पूर्व महानिदेशक जैसे बड़े पद पर कार्य कर चुके देश प्रख्यात पत्रकार प्रो.सुरेश ने कहा कि 32 सालों के बाद विश्वविद्यालय पचास एकड़ भूमि में अपने स्वयं के बिशनखेड़ी स्थित सुविधायुक्त कैंपस में प्रवेश करेगा जो कि ऐतिहासिक क्षण होगा । 
विश्वविद्यालय के बिशनखेड़ी स्थित नवीन परिसर के बारे में कुलपति प्रो. सुरेश ने बताया कि यह कैंपस 160 करोड़ की लागत से बनाया गया है। उन्होंने कहा कि इस परिसर के अंदर ही विद्यार्थियों के आवास एवं मैस की सुविधा है । परिसर के अंदर ही बालक छात्रावास है, जबकि दूसरी ओर बालिका छात्रावास है । दोनों ही छात्रावास में 75-75 कक्ष (कमरें) यानी कुल 150 कमरे हैं । इसके साथ ही उन्होंने कहा कि पत्रकारिता के स्कालर्स को पीएचडी के कार्य में असुविधा न हो इसका भी ध्यान परिसर बनाते समय रखा गया है एवं इसके लिए अलग से एक हॉस्टल बनाया गया है, जिसमें कुल 23 कमरें हैं । प्रो. सुरेश ने कहा कि विश्वविद्यालय में ही प्रोफेसर्स, कर्मचारियों एवं अधिकारियों का भी विशेष ध्यान रखा गया है ताकि पढ़ाई एवं शासकीय कार्य सुचारु रुप से चल सके । इसके लिए परिसर में ही ए.बी.सी.डी.ई.एफ. श्रेणी के आवास क्वार्टर बनाए गए हैं । 
कुलपति प्रो. सुरेश ने बताया कि तीन-तीन मंजिला दो अकादमिक भवन हैं, जिनका नाम तक्षशिला एवं विक्रमशिला रखा गया है । पढ़ने के लिए यहां 70 क्लासरुम हैं जो कि चालीस सीटर हैं जबकि 13 कमरे ऐसे हैं जो चालीस सीटर हैं । वर्तमान समय को ध्यान में रखते हुए स्मार्ट क्लासरुम्स भी बनाए गए हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि शहर में आवागमन के लिए विद्यार्थियों को बस की सुविधा भी विश्वविद्यालय द्वारा प्रदान की जा रही है । प्रो. सुरेश ने कहा कि अतिथि देवो भव: का पालन का करते हुए हमने अतिथियों, आगंतुकों के रुकने ठहरने के लिए सर्वसुविधायुक्त एक बड़े अतिथि ग्रह का निर्माण भी परिसर में करवाया है । 
कुलपति प्रो. सुरेश ने विश्वविद्यालय में पत्रकारिता एवं अन्य विषयों की 40 हजार से ज्यादा पुस्तकों के विशाल नालंदा पुस्तकालय के बारे में बताते हुए कहा कि यह देश का एकमात्र ऐसा पत्रकारिता विश्वविद्यालय हैं जहां इतनी अधिक संख्या में पत्रकारिता एवं जनसंचार की पुस्तकें हैं । उन्होंने कहा कि प्रकृति की गोद में हरियाली व हरीतिमा से परिपूर्ण इस परिसर में प्राकृतिक हवा जहां सदैव चलेगी, वहीं जिम की सुविधा के साथ ही योग-प्राणायाम के लिए ध्यान व योग केंद्र (मेडिटेशन सेंटर) भी बनाया गया हैं । उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों को प्रायोगिक ज्ञान प्राप्त हो सके इसके लिए विशाल एवं सर्वसुविधायुक्त स्टुडियो बनाए गए हैं । इसके साथ ही उन्होंने कहा कि इस परिसर में दादा माखनलाल के समाचार पत्र कर्मवीर नाम से एक सामुदायिक रेडियो स्टेशन भी खुलेगा, जिसकी मंजूरी केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण से मिल चुकी है। 15 किलोमीटर की सीमा में इसका प्रसारण होगा। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय में दादा माखनलाल चतुर्वेदी जी के पत्रकारिता के गुरु गणेश शंकर विद्यार्थी के नाम पर सभागार का नाम गणेश शंकर विद्यार्थी सभागार रखा गया है। इस सर्वसुविधायुक्त सभागार में एक साथ 800 से ज्यादा लोग एक साथ बैठ सकते हैं ।जिसका उद्घाटन विगत वर्ष मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा किया गया था । प्रो. सुरेश ने कहा कि भारत में सबसे पहले हिंदी समाचार पत्र का प्रकाशन एवं संपादन करने वाले हिंदी पत्रकारिता के पितामह पंडित जुगल किशोर शुक्ल के नाम पर पंडित जुगल किशोर शुक्ल संग्रहालय भी परिसर में होगा। इसके साथ ही ब्रम्होस्त्र मिशाइल का मॉडल भी यहां रखा जाएगा। कुलपति प्रो. सुरेश ने कहा कि विश्वविद्यालय में खेल के लिए इनडोर एवं आउटडोर स्टेडियम की भी सुविधा है एवं जहां खेल से संबंधित गतिविधियां होंगी । 
प्रो. सुरेश ने कहा विश्वविद्यालय के एमपी नगर स्थित कैंपस में सांध्यकालीन पाठ्यक्रमों का संचालन किया जाएगा। कुलपति कार्यालय सप्ताह में एक बार जरुर खुलेगा। कुलपति प्रो. सुरेश ने कहा पत्रकारिता विश्वविद्यालय के लिए पिछला वर्ष भी उपलब्धियों भरा रहा है । उन्होंने कहा कि देश की सबसे बड़ी एवं ख्यातिलब्ध पत्रिका इंडिया टुडे द वीक की रैंकिंग में हमारा विश्विवद्यालय टॉप-10 में शामिल हुआ है। उन्होंने कहा इसके साथ ही बिशनखेड़ी के नवीन परिसर में राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल का आयोजन भी हुआ, जिसमें देश के फिल्म अभिनेता अक्षय कुमार समेत कई बड़े कलाकार, निर्माता, निर्देशकों ने भाग लिया। जो कि विश्वविद्यालय के लिए बहुत ही गौरव की बात है । कुलपति प्रो. सुरेश ने कहा कि जो पत्रकारिता एवं जनसंचार के क्षेत्र में जो भी युवा अपना भविष्य बनाना चाहता है उसे एक बार विश्वविद्यालय आकर जरुर देखना चाहिए कि उसके लिए हमने इस परिसर में कितना कुछ किया है ।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post