हमें किसी सिंधिया की आवश्यकता नहीं : कमलनाथ

18 सालों में लगभग 20000 घोषणाएं बीजेपी की अधूरी : कमलनाथ
भोपाल । टीकमगढ़ में शुक्रवार को कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मीडिया से चर्चा में बताया कि आज मध्य प्रदेश में हर वर्ग परेशान है भटकता नौजवान पीड़ित किसान , किसानों को फसलों का उचित मूल्य नहीं मिल रहा खाद बीज मिलने मेंसमस्या है, महिलाओं पर अत्याचार में बेतहाशा वृद्धि हुई है, यह आज मध्य प्रदेश की तस्वीर हम सबके सामने है मैं हमेशा कहता हूं ना लौटे जनता पार्टी की कलाकारी की नौटंकी की ध्यान मोड़ने की राजनीति को अब प्रदेश की जनता भलीभांति पहचान चुकी है जनता को यह लोग ज्ञान दिया करते थे जनता अब इन्हें ज्ञान देने के लिए तैयार है।
विकसित जिलों में मेडिकल कॉलेज देने से कोई फायदा नहीं होगा क्योंकि विकसित जिलों में स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर होती हैं प्राइवेट अस्पताल भी मौजूद होते हैं मेडिकल कॉलेज की सबसे ज्यादा जरूरत पिछड़े हुए जिलों में होती है।
कमलनाथ ने आगे कहा कि बड़े दुख की बात है कि जिन कन्याओं के मुख्यमंत्री जी ने पैर पूजे उन्हीं के मकान तोड़े गए यही शिवराज सिंह जी का चित्र है, यह केवल टीकमगढ़ की बात नहीं, पिछले 18 सालों में लगभग 20000 घोषणाएं उनकी अधूरी हैं प्रदेश भर में और अब सोचते हैं कि फिर से अगले सात महीनों में इसी प्रकार गुमराह करेंगे।

टिकट वितरण में स्थानीय व्यक्ति को देंगे प्राथमिकता, आज राजनीति में बहुत परिवर्तन हो चुका है , राजनीति काफी हद तक स्थानीय हो चुकी है अब 10-15 साल पहले जैसी बात नहीं रही मैं पिछले 40 वर्षों से चुनाव लड़ रहा हूं और जीत रहा हूं, राजनीति में होने वाले परिवर्तनों को यदि हम पहचानेंगे नहीं तो हम सफल नहीं हो सकते।  

 हमारी सरकार सौदे की राजनीति के चलते गिरा दी गई, मैं भी सौदा कर सकता था मैं मुख्यमंत्री था परंतु में मध्यप्रदेश की पहचान सौदे की राजनीति से नहीं बनने देना चाहता था, सरकार गिराने की साजिश है 3 महीनों से चल रही थी, हमारे विधायक स्वयं जाकर बताया करते थे कि हमें इतने पैसे दिए जा रहे हैं।
 जातिगत जनगणना करना बेहद आवश्यक हो चुका है, क्यों नहीं होनी चाहिए? आखिर यह लोग किस चीज से डर रहे हैं और क्या छुपाने का प्रयास कर रहे हैं ये तो फौरन फैसला करना चाहिए की जातिगत जनगणना की जा सके आज हमारे प्रदेश में कितनी विभिन्नता बुंदेलखंड को लीजिए महाकौशल को ले लीजिए ग्वालियर चंबल को ले लीजिए हमारे संभागों में कितनी जातीय विभिन्नता है यह बात जनगणना में खुलकर सामने आ जाएगी।

हमने अपनी सरकार में गौशाला में बनाने का निर्णय लिया था गौशाला में जो हम ₹20 प्रति गाय की राशि दिया करते थे जो इन लोगों ने घटाकर ₹2 के आसपास कर दी, हमारी सरकार में गौशाला निर्माण का ऐतिहासिक कार्य किया गया जो कि मध्य प्रदेश के इतिहास में नहीं हुआ था। गौशाला से मेरी व्यक्तिगत भावनाएं जुड़ी हुई थी।

बुलडोजर की बात करने वाले मंत्री याद रखें कि 8 महीने बाद क्या होगा और बुलडोजर का मुंह किस तरफ होगा।

कांग्रेस की सरकार बनते ही ओल्ड पेंशन स्कीम लागू करेंगे यह हमारा प्रण है , भारतीय जनता पार्टी कुछ चुनिंदा इकोनॉमिस्ट से सांठगांठ करके लेख प्रकाशित करवा रही है कि ओल्ड पेंशन स्कीम की आवश्यकता नहीं है परंतु ओल्ड पेंशन स्कीम बहुत आवश्यक है और हम इसे लागू अवश्य करेंगे।
बुंदेलखंड को सबसे ज्यादा प्राथमिकता देनी पड़ेगी क्योंकि बुंदेलखंड विकास की दौड़ में सबसे पीछे रह गया है, बुंदेलखंड में कई क्षेत्र ऐसे हैं जो हमारे पिछड़े हुए आदिवासी क्षेत्रों से भी ज्यादा पिछड़ चुके हैं, सिंचाई की बात करें या पेयजल की बात करें आज टीकमगढ़ में पेयजल की और सच्चाई की सबसे ज्यादा समस्या है चार– चार दिन में यदि पीने का पानी पहुंच पा रहा है, इसी से समझा जा सकता है भाजपा बड़े-बड़े दावों की हकीकत को।
 हमारी लड़ाई भारतीय जनता पार्टी के संगठन से है और मेरा प्रयास रहा है पिछले सालों में कि मैं कांग्रेस के संगठन पर सबसे ज्यादा ध्यान दूं । 

चुनाव के प्रमुख मुद्दों की यदि बात करें तो भारतीय जनता पार्टी से उनके 18 वर्षों का हिसाब मांगेंगे और साथ ही अपने 15 वर्ष माह की सरकार का हिसाब भी अवश्य देंगे।

हमें किसी सिंधिया की आवश्यकता नहीं है अगर अब सिंधिया भारतीय जनता पार्टी के साथ हैं , और इतनी बड़ी तोप हैं तो ग्वालियर का महापौर क्यों हारे? मुरैना का महापौर क्यों हारे ?

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post