नौसेना को मिला नया 'प्रेसिडेंट कलर' और 'इंडियन नेवी क्रेस्ट', गुलामी के चिन्हों को किया जा रहा दूर


भारतीय समुद्री सीमा की रक्षक भारतीय नौसेना के लिए ‘प्रेसिडेंट्स स्टैण्डर्ड एंड कलर’ और ‘भारतीय नौसेना क्रेस्ट’ की नए डिजाइन को मंजूरी मिल गई है। सशस्त्र बलों की सर्वोच्च कमांडर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू की मंजूरी मिलने के साथ ही भारतीय नौसेना को यह नया डिजाइन मिल गया है। नौसेना दिवस पर विशाखापत्तनम में आयोजित कार्यक्रम में नए ‘प्रेसिडेंट स्टैंडर्ड’ को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के दौरे के समय नौसेना गार्ड ऑफ ऑनर के दौरान प्रदर्शित किया गया था। राष्ट्रपति के मानक और रंग का नया डिजाइन भारत की गौरवशाली समुद्री विरासत पर प्रकाश डालता है। साथ ही शक्तिशाली, साहसी, आत्मविश्वासी और गौरवशाली भारतीय नौसेना का भी प्रतीक है।

गुलामी के प्रतीक चिन्हों को किया जा रहा दूर

अंग्रेजों की गुलामी के प्रतीक चिन्हों को भारत से दूर करने के लिए चल रहे प्रयासों के तहत नौसेना पताका की डिजाइन में संशोधित किया गया है। पीएम मोदी ने 02 सितंबर आईएसी विक्रांत को नौसेना के बेड़े में शामिल करने के साथ नौसेना की नई पताका का अनावरण करके औपनिवेशिक काल की गुलाम मानसिकता के प्रतीक से छुटकारा भी दिलाया था। भारतीय नौसेना के नए ध्वज में सेंट जॉर्ज क्रॉस को हटा दिया गया है। नई पताका में सफेद पृष्ठभूमि पर लाल क्षैतिज और लंबवत रेखाओं को जुड़वां सुनहरे सीमाओं के साथ एक नीले अष्टकोण के साथ बदल दिया गया है। इसके अलावा ऊपरी बाईं ओर राष्ट्रीय ध्वज को बरकरार रखा गया है। छत्रपति शिवाजी महाराज की शाही मुहर का प्रतिनिधित्व करने वाले अष्टकोण में संलग्न एक गहरे नीले रंग के बैकग्राउंड पर भारतीय नौसेना शिखा का परिचय देता है।

2017 में स्थापित हुआ राष्ट्रपति के मानक और रंग

भारतीय नौसेना के लिए राष्ट्रपति के मानक और रंग का पूर्ववर्ती डिजाइन 06 सितंबर, 2017 को स्थापित किया गया था। डिजाइन के केंद्र में एक-एक क्षैतिज और ऊर्ध्वाधर लाल बैंड शामिल थे और उनके चौराहे पर राष्ट्रीय प्रतीक डाला गया था। राष्ट्रीय ध्वज बाईं ओर ऊपर और एक सुनहरा हाथी फ्लाई साइड पर निचली तरफ दाईं ओर था। अब राष्ट्रपति के मानक और रंग के नए डिजाइन में तीन मुख्य घटक शामिल किये गए हैं। राष्ट्रपति के मानक और रंग का नया डिजाइन भारत की गौरवशाली समुद्री विरासत पर प्रकाश डालता है।

नौसेना दिवस को हुआ लागू

इसी तरह नया ‘इंडियन नेवी क्रेस्ट’ नौसेना दिवस पर 04 दिसंबर से लागू किया गया है। न्यू नेवल क्रेस्ट में अशोक स्तंभ के नीचे एक पारंपरिक नौसैनिक स्पष्ट लंगर है, जिसके नीचे ‘शं नो वरुणा:’ खुदा हुआ है। यह वेदों का एक आह्वान है, जिसका अर्थ है ‘महासागर देवता हमारे लिए शुभ हों’। स्वतंत्र भारत के पहले भारतीय गवर्नर जनरल चक्रवर्ती राजगोपालाचारी के सुझाव पर इस वाक्यांश को भारतीय नौसेना के आदर्श वाक्य के रूप में अपनाया गया था। राष्ट्रीय आदर्श वाक्य ‘सत्यमेव जयते’ का अर्थ है ‘सत्य की हमेशा विजय होती है’ जो क्लियर एंकर के स्टॉक पर अंकित है। भारतीय नौसेना क्रेस्ट में संशोधन को भी राष्ट्रपति ने मान्य किया है।

सराहनीय सेवा के लिए किया जाता है सम्मानित

देश के लिए विशिष्ट और सराहनीय सेवा के लिए भारतीय नौसेना की संपत्तियों को क्रमशः राष्ट्रपति के मानक और राष्ट्रपति के रंग से सम्मानित किया जाता है। 27 मई, 1951 को तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने प्रेसिडेंट्स कलर से सम्मानित किये जाने की शुरुआत की थी। भारतीय नौसेना की पश्चिमी, दक्षिणी और पूर्वी नौसेना कमान, पश्चिमी और पूर्वी बेड़े, पनडुब्बी शाखा, नौसेना वायु सेना, आईएनएस शिवाजी, आईएनएस वलसुरा और भारतीय नौसेना अकादमी को ‘प्रेसिडेंट कलर’ प्रदान किया गया है। 22वां मिसाइल वेसल स्क्वाड्रन पहला नेवल कॉम्बैटेंट स्क्वाड्रन था, जिसे राष्ट्रपति के मानक से सम्मानित किया गया था।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post