अंतर्राष्ट्रीय वन मेले रेडक्रास द्वारा निःशुल्क आयुर्वेदिक परामर्श

भोपाल। लाल परेड मैदान भोपाल में 7 दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय वन मेले में रेडक्रास द्वार निःशुल्क आयुर्वेदिक उपचार एवं परामर्श के लिये स्टाल लगाया गया है यह बात रेडक्रास राज्य शाखा के जनरल सेक्रेटरी प्रदीप त्रिपाठी ने कही। 
 रेडक्रास राज्य शाखा के चेयरमैन डॉ.गगन कोल्हे ने बताया गया कि राज्यपाल महोदय एवं अध्यक्ष म.प्र. रेडक्रास की मंशानुसार अन्तर्राष्ट्रीय वन मेले में रेडक्रास चिकित्सालय के आयुष विभाग के आयुर्वेदिक डॉक्टर आशा खरे एवं डॉ. धीरज चौधरी द्वारा निःशुल्क चिकित्सीय परामर्श दिया जायेगा। उन्होंने बताया कि रेडक्रास चिकित्सालय में भी प्रतिदिन प्रातः 8 बजे से दोपहर 1 बजे तक आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्वति से नये एवं जटिल रोगों के उपचार की सुविधा उपलब्ध है। श्री त्रिपाठी ने बताया कि आयुर्वेद दुनिया की सबसे पुरानी चिकित्सा पद्धति में से एक है। हालांकि, इस चिकित्सा पद्धति को अब तक व्यापक विस्तार नहीं मिल पाया है। दूसरी तरफ, आयुर्वेद के करीब दो हजार वर्ष बाद प्रचलन में आई एलोपैथी प्रयोग और अनुसंधान के दम पर काफी आगे निकल गई। हालांकि, विगत कुछ वर्षों में पारंपरिक और असरदार चिकित्सा पद्धति आयुर्वेद को आधार और विस्तार देने के लिए सरकार ने बड़े पैमाने पर पहल की है। आयुर्वेदीय चिकित्सा पद्धति की यह विशेषता है कि इनमें रोगों का उपचार इस प्रकार किया जाता है कि रोग जड से नष्ट किया जाए एवं पुनः उत्पति न हो। आयुर्वेद में रोगों की पहचान एवं परीक्षण विभिन्न प्रश्नों और आठ परीक्षणों, जैसे नाडी, मूत्र, मल, जिहवा, शब्द (आवाज) स्पर्श, नेत्र, आकृति द्वारा की जाती है। 
 श्री त्रिपाठी ने बताया कि अंतरराष्ट्रीय स्तर के वन मेला में राष्ट्र में होने वाले जंगलों से उत्पादन को किस प्रकार जीवन शैली में उतारकर जटिल से जटिल बीमारियों को उपचार के लिए सार्थक किया जा सके जिसके लिए कई आयुर्वेदिक शोधकर्ता यहां पर उपस्थित रहेंगे।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post