एफएमडी टीकाकरण का लक्ष्य पूर्ण करने के निर्देश : डॉ. रामटेके

भोपाल । उप संचालक, पुश चिकित्सा सेवाएं ने जिले में एनएडीसीपी के अंतर्गत पशुओं में एफएमडी रोग का टीकाकरण में सीरोमोनिटरिंग का लक्ष्य पूर्ण किया जाना है। इस संबंध में डॉ. अजय रामटेके ने संस्था प्रभारी पशु चिकित्सालय बैरसिया, नजीराबाद और तूमड़ा को निर्देश दिए है कि पशुओं के टीकाकरण के पूर्व एवं पश्चात के सीरम नमूने एकत्र कर समय-सीमा में राज्य पशु रोग अन्वेषण प्रयोगशाला भोपाल को भेजा जमा करने और कार्यालय को अवगत कराने के निर्देश दिए है।

 डॉ. रामटेके ने बताया कि एनएडीसीपी के अंतर्गत एफएमडी रोग का द्वितीय चरण प्रारंभ हो गया है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार से प्राप्त निर्देशानुसार जिले के टीकाकरण का आकलन कर सीरोमोनिटरिंग प्रक्रिया अपनाई जाए। उन्होंने कहा कि सीरोमोनिटरिंग के लिए ग्रामों का चयन भारत सरकार द्वारा किया गया है। सीरम नमूने के साथ पशुओं का टैग नंबर एवं वैक्सीन की जानकारी आवश्यक है। चयनित ग्रामों की सूची एवं सीरम नमूने की कोडिंग भी की जाना है। 

 डॉ. रामटेके ने बताया कि गाय एवं भैंस प्रजाति के पशुओं का एफएमडी टीकाकरण किया जाना है इसके लिए चयनित ग्रामों में सीरम नमूने के लिए पशुओं को 3 आयु वर्ग में बांटा गया है इनमें 6 से 12 माह के पशुओं के 50 प्रतिशत नमूने, 13 से 24 माह के पशुओं के 40 प्रतिशत नमूने, 24 माह से बढ़े पशुओं के 10 प्रतिशत नमूने लिया जाना अनिवार्य है। उन्होंने कहा कि चयनित गांव में टीकाकरण के पूर्व के सीरम नमूने एकत्र कर उसी दिन टीकाकरण किए जाए और टीकाकरण के बाद नमूने टीकाकरण के 21 से 28 दिन बाद उन्हीं जानवर से एकत्र किया जाए। उन्होंने कहा कि एक पशु मालिक के अधिकतम दो पशुओं से ही सीरम नमूना लिया जाए। 

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post