शिवराजसिंह अपने गिरेहबां में झांके, बताएं किसानों की कर्ज माफी क्यों रोकी: विभा पटेल

प्रदेश मंे रजिस्टर्ड बेरोजगारों की संख्या बढ़कर 30.23 लाख कैसे हुई ?
प्रदेश में गेहूं के क्षेत्रफल में 3.80 और उत्पादन में 4.11 प्रतिशत की कमी कैसे आई ? 
देश में दर्ज रेप के मामलों में हर दसवां मामला मध्यप्रदेश का कैसे ?ः विभा पटेल

भोपाल ।  मध्य प्रदेश महिला कांग्रेस अध्यक्ष एवं भोपाल की पूर्व महापौर विभा पटेल ने कहा कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के ट्वीट पर टिप्पणी करने के बजाए मध्य प्रदेश के घोषणावीर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ये बताएं कि प्रदेश में जब कांग्रेस सरकार ने 27 लाख किसानों की कर्ज माफी कर दी थी तो शिवराज सरकार ने किसानों की कर्ज माफी क्यों रोकी? किसानों की आमदनी दोगुनी करने के वायदे का क्या हुआ? अभी भी प्रदेश में स्थिति ये है कि अन्नदाता किसान खाद-बीज के लिए परेशान हैं। बोहनी शुरू हो जाने के बाद भी उसे खाद-बीज नहीं मिल रहा। सरप्लस बिजली होने के बाद भी सिंचाई के लिए किसान को पर्याप्त बिजली क्यों नहीं मिल रही?
श्रीमती विभा पटेल ने आरोप लगाते हुए कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को तो कांग्रेस नेताओं के खिलाफ विषवमन करने का सपना आता है, आम जनता के हित में तो कोई काम नहीं करते। ऐसा प्रतीत होता है कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की आलोचना करना उनका राजधर्म बन गया है। अच्छा हो कि शिवराजसिंह अपने गिरेहबां में झांके और बताए कि प्रदेश में बेरोजगारी दूर करने के उनके वायदे का क्या हुआ? 
 विभा पटेल ने कहा कि 9 महीने पूर्व वर्ष 2021-22 के आर्थिक सर्वेक्षण में सामने आया था कि मध्यप्रदेश में ग्रेजुएट्स में बेरोजगारी की दर सबसे ज्यादा है। ग्रेजुएट्स अभी भी नौकरी की तलाश में हैं। रिपोर्ट के अनुसार पिछले वर्ष की तुलना में मप्र में 5.51 लाख बेरोजगारों की संख्या बढ़ी है। रजिस्टर्ड बेरोजगारों की संख्या वर्ष 2021 के अंत तक बढ़कर 30.23 लाख हो गई है। ये आंकड़ा सरकार के रोजगार देने के वायदे की कलई खोलता है। शिवराज सरकार सिर्फ झूठ बोलकर आम नागरिकों को गुमराह करती है। इसकी एक मिसाल ये भी है कि कृषि कर्मण पुरस्कार के नाम पर झूठा प्रचार करने वाले शिवराज सरकार के कार्यकाल में प्रदेश में गेहूं के क्षेत्रफल 3.80 और उत्पादन में 4.11 प्रतिशत की कमी आई है ?  विभा पटेल ने आरोप लगाते हुए कहा कि वे खुद को मामा बताते हैं, लेकिन मामा के राज में महिलाएं, बहनें, बच्चियां असुरक्षित हैं। प्रदेश में बलात्कार, यौन शोषण, महिला उत्पीड़न, घरेलू हिंसा आदि के मामलों में बढ़ोत्तरी क्यों हुई? अपराधियों में कानून का खौफ नहीं हैं? अगर मुख्यमंत्री आंकड़ों को खंगालेगे तो उन्हें पता चलेगा कि देश में दर्ज हुए रेप के मामलों में हर दसवां मामला मध्यप्रदेश का है, जो अत्यंत चिंता एवं लज्जाजनक हैं? सभ्य समाज के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि इससे जाहिर होता है कि आसन्न विधानसभा चुनाव को देखते हुए अपनी कुर्सी बचाने की खातिर बड़बोले मुख्यमंत्री नागरिकों को गुमराह कर रहे हैं। लेकिन प्रदेश की जनता शिवराज सरकार के सच को जान गई हैं। आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा का ऐतिहासिक सफाया होगा।


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post