इंदौर : रियल एस्टेट समूहों के ठिकानों पर दूसरे दिन भी जारी रही आयकर विभाग की कार्रवाई

 29 करोड़ के लेन-देन का रिकार्ड जब्त, सोने और हीरे जड़ी घड़ियां भी मिलीं

- पांच करोड़ नकद मिले, जमीन बेचने वाले किसान भी जांच के दायरे में

इंदौर । शहर के दो रियल एस्टेट समूहों पर आयकर विभाग की कार्रवाई दूसरे दिन बुधवार को भी देर रात तक जारी रही। आयकर इंवेस्टिगेशन विंग की टीमों ने मंगलवार सुबह से स्काई अर्थ और हाईलिंक बिल्डकान ग्रुप के 25 ठिकानों पर जांच शुरू की थी। बुधवार शाम तक आयकर विभाग के अधिकारियों के हाथ 29 करोड़ के संदिग्ध लेन-देन का हिसाब हाथ लग चुका है। इसमें पांच करोड़ रुपये की नकदी शामिल है। रियल एस्टेट कारोबारियों के ठिकानों से आठ बेशकीमती घड़ियां भी आयकर के अधिकारियों को मिली हैं। घड़ियों की कीमत आंकने के लिए आयकर को विशेषज्ञ मूल्यांकनकर्ताओं की मदद लेना पड़ रही है।

आयकर विभाग के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार स्काय अर्थ समूह में डायरेक्टर के रूप में जुड़े सागर चावला, निम्मी चावला और गोविंद चावला के साथ नीरज सचदेवा भी जांच के दायरे में हैं, जबकि हाई लिंक ग्रुप से जुड़े कैलाश कुसुमाकर, वीरेंद्र गुप्ता व उनके परिवार के ठिकानों पर विभाग की टीमें जांच कर रही हैं। इन दोनों समूहों से जुड़े संजय कासलीवाल, रमेश खेमानी समेत कुछ ब्रोकर भी जांच के दायरे में आए हैं। चार ब्रोकरों के ठिकानों पर भी आयकर की इंवेस्टिगेशन विंग ने कार्रवाई की है।

स्काय अर्थ समूह के सत्यसाईं चौराहा स्थित मुख्य दफ्तर के साथ हाईलिंक समूह के भागीदारों को एयरपोर्ट क्षेत्र में ठिकानों पर विभाग के 150 अधिकारी बुधवार रात तक को जांच करते रहे। सभी ठिकानों पर आयकर अधिकारियों ने कंप्यूटर, लैपटाप, मोबाइल और दस्तावेज जब्त किए हैं। इस दौरान कुछ पेन ड्राइव, करेंसी नोट चिपके इकरारनामे भी विभाग को मिले। बिल्डर-डेवलपर भूखंड, फ्लैट और व्यवसायिक प्रकोष्ठों की बिक्री करने के लिए लाखों की राशि नकद में ल रहे थे। किसानों से जमीन खरीदी के बदले नकद भुगतान के तथ्य मिले हैं। किसानों को किए गए गए ऐसे करीब 10 करोड़ रुपये की एंट्री विभाग के हाथ लगी है।

सूत्रों से जानकारी मिली है कि 10 करोड़ रुपये के लेन-देन के हिसाब के अलावा 14 करोड़ रुपये की हुंडी की रसीदें भी विभाग ने अलग-अलग ठिकानों से बरामद की हैं। हुंडी और नकद में जमीन के लिए किए गए भुगतान के आधार पर इंवेस्टिगेशन विंग जांच का दायरा बढ़ाने जा रही है। नकद भुगतान स्वीकारने वाले किसानों की पहचान कर विभाग उनके बीते वर्षों के आयकर रिटर्न की जांच में जुट गया है।

दरअसल, किसानों को कृषि की आय पर तो कर छूट है, लेकिन जमीन की बिक्री या अन्य माध्यम से अर्जित आय पर पूरा टैक्स देना होता है। ऐसे में अब नकद में भुगतान लेकर जमीन बेचने वाले किसानों को भी नोटिस दिए जा रहे हैं। हुंडी पर रुपया देने वालों की पहचान में भी विभाग जुटा है। जांच के दायरे में आए कारोबारियों के घरों से आठ घड़ियां आयकर ने कब्जे में ली हैं। सूत्रों के अनुसार ये घड़ियां सोने-चांदी और प्लेटीनम जैसी धातुओं की बनी हैं। कुछ में हीरे और रत्न भी जड़े गए हैं। ज्यादातर घड़ियां विदेश से लाई गई हैं। इन घड़ियों की कीमत आंकने के लिए विभाग ने विशेषज्ञों को बुलाया है। कारोबारियों के ठिकानों से कुल नौ बैंक लाकर संचालित करने की जानकारी मिली है। बैंकों को पत्र लिखकर विभाग के अधिकारियों की मौजूदगी में लाकर खोलने की कार्रवाई शुरू की गई है। लाकर खुलने के बाद गुरुवार को बड़े पैमाने पर सोना-चांदी और जमीन से जुड़े दस्तावेज मिलने की उम्मीद भी आयकर विभाग कर रहा है।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post