कमिश्नर प्रणाली के एक वर्ष हुए पूर्ण, ग्रह मंत्री ने की समीक्षा

भोपाल । राजधानी में कमिश्नर प्रणाली के 1 वर्ष पूर्ण होने पर गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने आयुक्त कार्यालय में समीक्षा बैठक की। इस दौरान उन्होंने पुलिसकर्मियों को पुष्पगुच्छ भेंट कर सम्मानित किया। उन्होंने मिठाई भी खिलाई। समीक्षा के दौरान गृह मंत्री डॉ मिश्रा ने पत्रकारों को बताया कि प्रदेश में अपराधों पर लगाम लगी है । जहां 2021 में 2500 क्राइम हुए,वहीं चालू वर्ष 2022 में 1300 अपराध दर्ज हुए हैं। प्रदेश में बलवा जैसे अपराधों में 31 प्रतिशत की कमी आई है। जहां वर्ष 2021 में 600 नए गुंडे सामने आए, 2022 में 289 ही मिले हैं। प्रदेश में अपराधों की कार्यवाही को लेकर भी जनता को काफ़ी राहत दी जिसके चले मानव अधिकार आयोग में 34 प्रतिशत शिकायत कम हुई हैं। 

आयुक्त प्रणाली में प्रतिबंधात्मक कार्यवाहियों को दुतगति व सर्तकतापूर्वक करते हुये लगभग 9500 व्यक्तियों को बाउडओव्हर किया गया वृहद स्तर पर प्रतिबंधात्मक कार्यवाही किये जाने के परिणामस्वरूप गुंडो द्वारा किये जाने वाले अपराधों में भारी कमी आई है। जहां वर्ष 2021 में गुडो द्वारा लगभग 2500 अपराध किये गये वही इस वर्ष संख्या लगभग 1300 है। जहां पुराने गुंडों के द्वारा की जाने वाली हरकतों में भारी गिरावट आई है वही नये गुडो के पनपने पर भी रोक लगी है। जहां वर्ष 2021 में लगभग 600 नये गुंडे सामने आये थे वही वर्ष 2022 में यह संख्या आधे से कम ( 289 ) रह गई है। 4 वरिष्ठ अधिकारियों के बेहतर पर्यवेक्षण के कारण बरामदगी की दर में संपत्ति संबंधी अपराधो में 10 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

नगरीय पुलिस भोपाल द्वारा गुम बच्चो उनके घर पहुँचाने तथा माता-पिता / अभिभावकों से वापस मिलवाने में बहुत तेजी आयी है जहां वर्ष 2022 में मात्र 12 दिन में लापता बच्चो को ढूंढ निकाला अभिभावकों की मुस्कान' वापस लौटाई गई जबकि पूर्ववर्ती वर्षो में यह अवधि 70 दिवस थी।  नगरीय पुलिस भोपाल के वरिष्ठ अधिकारियों के बेहतर पर्यवेक्षण व तकनीकी कौशल उन्नयन के सुखद परिणाम सामने आये हैं नगरीय पुलिस संरचना के कारण तकनीकी अपराधों में विशेषज्ञता व महारत हासिल हुई है। नये प्रकार के जटिल सायबर अपराधो जैसे आर्थिक अपराध लोन ऐप अपराधों को सुलझाने में सफलता अर्जित की है। इस वर्ष नगरीय पुलिस भोपाल द्वारा अपराधियों से आम आदमी को लगभग तीगुनी राशि वापस कराई गई है। नगरीय पुलिस भोपाल द्वारा रात्रि कॉम्बिंग गश्त में एक साथ लगभग 01 हजार से ज्यादा पुलिसकर्मीयों द्वारा गुंडों तथा वारंटियों की धरपकड़ की गई जिसमें लगभग 2000 से ज्यादा गुंडो तथा वारंटियों को रात्रि में गिरफतार किया गया। पुलिस द्वारा संपत्ति संबंधी अपराधियों पर लगाम कसने के लिये उनकी थाना हाजिरी कराकर नवीन रिकार्ड हिस्ट्रीशीट तैयार की गई जिसमें 01 दिवस में नगरीय पुलिस भोपाल के समस्त थानो द्वारा लगभग 1700 अपराधियों की पेशी का रिकार्ड तैयार कराया गया। इस वर्ष नगरीय पुलिस द्वारा चोरी गई संपत्ति की बरामदगी में 10 प्रतिशत की वृद्धि परिलक्षित हुई है। नगरीय पुलिस भोपाल द्वारा राजधानी में होने वाले प्रर्दशनों को सूक्ष्मता से विनियमित किया गया वलया प्रदर्शनों में लगभग 31 प्रतिशत की कमी आयी है, जिससे नगरीय क्षेत्र भोपाल का जनजीवन सर्वथा सामान्य बना रहा। 10 विक्षिप्त महिलाओं को मानसिक इलाज हेतु गृहों में सुरक्षित पहुँचाया गया ताकि कोई असमाजिक तत्व इनका शोषण न कर सकें।  चिन्हित क्षेत्रों में अवयस्क बालिकाओं को मानव तस्करी से बचाने के लिये पहल की गई हैं।"कैसी है आपकी पुलिस नवाचार योजना के अंतर्गत आम आदमी से आयुक्त कार्यालय में सीधे फीडबैक लिया ।
काफिला रुकवाकर घायल को अस्पताल पहुंचवाया
  जब गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा कमिश्नर कार्यालय में समीक्षा के लिए आ रहे थे उस दौरान सुबह 11:30 बजे ने लिंक रोड नंबर 1 किसी व्यक्ति का एक्सीडेंट हो गया था । गृह मंत्री डॉ.मिश्रा ने अपना काफिला रुकवा कर घायल हुए व्यक्ति को पुलिस टीम के साथ उपचार के लिए अस्पताल पहुंचाया।
                                  

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post