मध्य प्रदेश पुलिस की "ई- विवेचना एप" को "राष्ट्रीय डिजिटल इंडिया अवार्ड" में प्रथम पुरस्कार

भोपाल । इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा आयोजित डिजिटल इंडिया अवॉर्ड 2022" के लिए "डिजिटल इनिशिएटिव एट ग्रासरूट लेवल कैटेगरी में मध्यप्रदेश पुलिस को प्रथम पुरस्कार (प्लैटिनम) अवॉर्ड प्राप्त हुआ है जिसकी घोषणा इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा बुधवार को "डिजिटल इंडिया" की वेबसाइट पर की गई है। यह अवॉर्ड डिजिटल सेवा प्रदाय करने के लिए दिया जाता है। उक्त अवॉर्ड प्राप्त करने पर मध्यप्रदेश पुलिस के मुखिया पुलिस महानिदेशक सुधीर कुमार सक्सेना ने हर्ष व्यक्त करते हुए राज्य अपराध अभिलेख ब्यूरो की टीम को बधाई दी है।

      डिजिटल इंडिया अवॉर्ड हेतु नामांकन की प्रक्रिया ऑनलाइन की गई थी जिसमें सम्पूर्ण भारत से नॉमिनेशन प्राप्त हुए थे। नॉमिनेशन की प्रक्रिया में शॉर्टलिस्ट होने के उपरांत एडीजी एससीआरबी चंचल शेखर एवं एआईजी सीसीटीएनएस प्रांजलि शुक्ला द्वारा नई दिल्ली में ज्यूरी के समक्ष ई- विवेचना एप का प्रजेन्टेशन दिया गया।

      भारत के महामहिम राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मू के कर कमलों द्वारा 7 जनवरी 2023 को नई दिल्ली के विज्ञान भवन में यह अवॉर्ड मध्यप्रदेश राज्य अपराध अभिलेख ब्यूरो के एडीजी श्री चंचल शेखर और उनकी टीम में शामिल एआईजी हेमंत चौहान, एआईजी प्रांजलि शुक्ला, निरीक्षक इंद्रा नामदेव और हेड कांस्टेबल सुरेन्द्र रघुवंशी को ई- विवेचना एप के उल्लेखनीय उपयोग और पहल करने के लिए दिया जाएगा।

      डिजिटल इंडिया अवॉर्ड के लिए केन्द्र एवं राज्यों की प्रशासनिक संस्थाओं द्वारा पुरस्कार के लिए नामांकन किया जाता है। पुरस्कार के लिए नामांकन, उसकी स्क्रीनिंग आदि प्रक्रिया ऑनलाइन की जाती है। इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय के तहत राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केन्द्र (एनआईसी) द्वारा प्रत्येक दो साल में डिजिटल इंडिया पुरस्कार का आयोजन किया जाता है। यह पुरस्कार सूचना और संचार प्रौद्योगिकी का उपयोग करके सेवायें प्रदान करने तथा डिजिटल माध्यम से प्रशासनिक कार्यों को उत्कृष्ट तरीके से करने के लिए दिया जाता है।

      एडीजी चंचल शेखर ने बताया कि सीसीटीएनएस के माध्यम से थानों का कार्य डिजिटल हुआ है। स्मार्ट (सेंसिटिव, मोबाइल, अलर्ट, रिलायबल और टेक सेवी) पुलिसिंग की अवधारणा को लागू करने हेतु मध्य प्रदेश पुलिस द्वारा मैदानी स्तर पर पुलिसकर्मियों को डिजिटल टूल के रूप में ई- विवेचना एप विकसित कर उपलब्ध कराया गया है। विवेचक टैबलेट की सहायता से मौके पर ही वास्तविक समय में विवेचना कर सकते हैं, जिससे अपराध की विवेचना में पारदर्शिता एवम गुणवत्ता आई है। इस एप की मदद से विवेचक घटनास्थल का विवरण जैसे फोटो, वीडियो, गवाहों के बयान, घटनास्थल के वास्तविक निर्देशांक और केस डायरी की जानकारी सीधे सीसीटीएनएस में भर सकते हैं। अब तक इस एप के माध्यम से 24,231+ मामलों में 90724+ से अधिक केस डायरी जमा की जा चुकी हैं।


 

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post