पद्मश्री दुर्गाबाई के मुख्य आतिथ्य में जनजातीय युवा आदान-प्रदान कार्यक्रम का हुआ समापन

अनाज से बनाई G20 पर केंद्रित अब तक की सबसे बड़ी रंगोली, रही आकर्षण का केंद्र

भोपाल की सुनहरी यादें लेकर विदा हुए युवा, विजेता हुए पुरस्कृत 

भोपाल । नेहरू युवा केंद्र संगठन, मध्यप्रदेश द्वारा वाल्मी में 16 दिसंबर से चल रहे 14 वें जनजातीय युवा आदान- प्रदान कार्यक्रम का समापन गुरुवार को पद्मश्री से सम्मानित वरिष्ठ जनजातीय चित्रकार दुर्गाबाई व्याम के मुख्य आतिथ्य एवं केंद्रीय रिजर्व पुलिस फोर्स के डीआईजी संजय कुमार की अध्यक्षता में किया गया। 
इस अवसर पर संचालक वाल्मी श्रीमती उर्मिला शुक्ला (आईएएस) विशेष रूप से उपस्थित रही। स्वागत उद्बोधन देते हुए राज्य निदेशक डॉ सुरेंद्र शुक्ला ने कहा कि इन सात दिनों में युवाओं ने विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से अपने-अपने राज्यों की कला, संस्कृति को प्रस्तुत किया व विचारों का आदान- प्रदान किया । डॉ.शुक्ला ने मध्यप्रदेश शासन एवं भारत सरकार के प्रति भी आभार व्यक्त किया और कहा कि सरकार द्वारा जनजातीय युवाओं के लिए विभिन्न कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं जो उनके व्यक्तित्व व सर्वांगीण विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं ।

मुख्य अतिथि पद्मश्री सम्मान से सम्मानित दुर्गाबाई व्याम ने सभी युवाओं को शुभकामनाएं दी। अध्यक्षीय उद्बोधन देते हुए सीआरपीएफ के डीआईजी संजय कुमार ने बताया कि बचपन से नेहरू युवा केंद्र की गतिविधियों से जुड़ा रहा हूं , नेहरू युवा केंद्र से जुड़कर युवाओं में नेतृत्व क्षमता विकसित होने के साथ ही समाज के प्रति उत्तरदायित्व निभाने की भावना विकसित होती है । श्री कुमार ने वाल्मी के प्राकृतिक सौंदर्य की भी सराहना की। 

 *जी-20 पर केंद्रित अनाज से बनी रंगोली रही आकर्षण का केंद्र , 10 युवाओं ने 12 घंटे में की तैयार*

 कार्यक्रम के दौरान हरदा से आए सतीश गुर्जर और उनकी टीम ने 75 किलो अनाज से 'वसुधैव कुटुंबकम' का संदेश देते हुए जी-20 पर केंद्रित रंगोली बनाई , जो सभी के लिए आकर्षण का केंद्र रही। सतीश गुर्जर ने बताया कि रंगोली को 10 लोगों ने मिलकर 12 घंटे में तैयार किया , और रंगोली कि यह खासियत रही कि इसमें रंग के स्थान पर गेहूं, चना चावल, मसूर, राजमा, उड़द की दाल का उपयोग किया गया ।

प्रतिभागियों ने अनुभव साझा करते हुए कहा कि भोपाल बहुत सुंदर शहर ...

 प्रतिभागी अमरजीत कुमार ने अपने अनुभव साझा करते हुए कहा कि इन सात दिनों में हमें बहुत कुछ सीखने को मिला , हमने कभी कल्पना नहीं की थी कि हमें राष्ट्रीय स्तर के इस कार्यक्रम में आने का अवसर मिलेगा ,अमरजीत ने नेहरू युवा केंद्र एवं सीआरपीएफ के प्रति आभार व्यक्त किया । उड़ीसा की प्रतिभागी रश्मिता ने कहा कि भोपाल बहुत सुंदर और स्वच्छ शहर है। रश्मिता ने कहा कि मैं बहुत छोटे से गांव से आती हूं , कार्यक्रम के दौरान हमने अन्य राज्यों के युवाओं की भाषा, संस्कृति और खानपान की बारे में भी जाना। संचालन एवं आभार शुभम चौहान ने व्यक्त किया। 

 यह रहे विजेता-

लोकनृत्य प्रतियोगिता -
प्रथम- कंधमाल, उड़ीसा
द्वितीय - तेलंगाना 
 तृतीय - मलकानगिरी, उड़ीसा

 भाषण प्रतियोगिता -
 प्रथम- रस्मिता, उड़ीसा 
 द्वितीय - अमरजीत, बिहार
 तृतीय - रीता, झारखंड

इस अवसर पर पद्मश्री दुर्गा बाई एवं श्री संजय कुमार ने वाल्मी परिसर में पौधरोपण भी किया ।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post