स्टेट हैण्डलूम एक्सपों में उड़िया नृत्य की प्रस्तुति हुई

भोपाल । वैदेही एवं कल्याणी द्वारा बिन्दु जुनेजा के निर्देशन में उड़िसी नृत्य प्रस्तुति पहली प्रस्तुति मंगलाचरण कवि चम्पती राय द्वारा लिखित उहिया स्तुति- हरिहर - शिवा और विष्णु के संयुक्त रूप पर आधारित दूसरी प्रस्तुति पारंपरिक उड़िसा रचना-संगिनी रे चाह- इसमें दो सखियों का वर्णन है जो कृष्ण की प्रेम भक्ति में लीन परस्पर अठखेलियों कर रही है। तीसरी रचना है मोह ओडिसी के पारंपरिक रिपेस्टोर की यह अंतिम रचना है। समय से 8 बजे तक होगा।

सन्त रविदास म०प्र० हस्तशिल्प एंव हाथकरघा विकास निगम लि0 भोपाल के द्वारा स्टेट हैण्डलूम एक्सपों का आयोजन विकास आयुक्त हथकरघा वस्त्र मंत्रालय भारत सरकार नई दिल्ली के सहयोग से भोपाल हाट अरेरा हिल्स में किया जा रहा है। 13 दिसम्बर को शाम 6 बजे से देवेंद्र एस मंगला मुखी भारत की पहली कथक नृत्यांगना के द्वारा शास्त्रीय नृत्य शामे कत्थक की प्रस्तुति दी इस एक्सपों में देशभर के विभिन्न राज्यों के 100 से अधिक बुनकरों भाग लिया जा रहा है। 14 राज्यों से जैसे उत्तरप्रदेश, बिहार, राजस्थान पश्चिम बंगाल हिमाचल प्रदेश कर्नाटक उड़ीसा जम्मू एण् काश्मीर तथा छत्तीसगढ़ हरियाणा मणिपुर उत्तराखण्ड दिल्ली मध्यप्रदेश के बुनकरों के गुणवत्तायुक्त और विविध हैण्डलूम उत्पाद एक साथ एक ही कैम्पस में उपलब्ध रहेंगे। विगत वर्षों में आयोजित स्पेशल हैण्डलूम एक्सपी भोपाल में हुये भारी विक्रय के चलते प्रदेश व अन्य राज्यों के बुनकर संघ बुनकरों की समितियों में उत्साह हैं और व भोपाल एस में प्रतिभागिता कराना चाहते हैं।

100 से अधिक अस्थाई दुकानों निर्माण करवाया जा रहा है। इस प्रकार 100 दुकानों में विभिन्न राज्यों के बुनकर हैण्डलूम वस्त्र लेकर उपलब्ध होगे। लगभग 100 बुनकर समितियों की पृविष्टियों अब तक निगम को प्राप्त हो चुकी हैं।
 अनुभा श्रीवास्तव आयुक्त सह प्रबंध संचालक मप्र: हस्तशिल्प एंव हाथकरघा विकास निगम भोपाल द्वारा बताया गया है कि विगत आयोजन में अच्छी सफलता प्राप्त होने पर बुनकरों एंव राज्यों की बढी हुई हैं। अतः आयोजन को अच्छा प्रचार प्रसार मिले जिससे कि अन्य राज्यों में आये बुनकरों का अच्छा व्यापार हो सकें। तथा भोपाल वासियों को कई राज्यों की विभिन्न सामग्री खरीदने का अवसर प्राप्त हो सकें।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post