संविदा स्वास्थ्य कर्मचारीयों की मांगों को लेकर सड़क पर लड़ाई लड़ेगी एनएसयूआई

संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी की हड़ताल का एनएसयूआई मेडिकल विंग ने समर्थन किया
भोपाल । मध्यप्रदेश में पिछले कई दिनों से राजधानी सहित अन्य जिलों में संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी हड़ताल पर बैठे हुए हैं एनएसयूआई मेडिकल विंग के प्रदेश संयोजक रवि परमार के नेतृत्व में भोपाल जेपी अस्पताल में चल रहे धरना स्थल पर एनएसयूआई ने पहुंच कर संविदा स्वास्थ्य कर्मचारीयों की नियमितीकरण और अन्य मांगों का समर्थन किया है

रवि परमार ने आरोप लगाते हुए कहा कि, 'मध्यप्रदेश में शिवराज सरकार संविदा स्वास्थ्य कर्मचारीयों पर दौहरा रवैया अपनाया जा रहा है कर्मचारी लगातार हड़ताल कर रहे हैं। कोरोना संकट के दौरान संविदा स्वास्थ्य कर्मियों ने मानवता की रक्षा के लिए जान की बाजी लगा दी। मृत्यु शैय्या पर पड़े स्वास्थ्य व्यवस्था में जान फूंक दी। इन्हें "फ्रंटलाइन वारियर्स" कहा गया। लेकिन आज जब वे कड़कड़ाती ठंड में धरने पर बैठे हैं तो कोई सुध लेने वाला तक नहीं है।'

रवि परमार ने आगे कहा कि, 'देश एक बार फिर कोरोना संकट के मुहाने पर आ गया है। यदि कोरोना के मामले बढ़ते हैं तो संकट के समय यही संविदा स्वास्थ्य कर्मी लोगों की जीवन बचाएंगे संविदा कर्मियों के हड़ताल के कारण राज्य के तकरीबन 30 जिलों कोरोना जांच और स्क्रीनिंग ठप है। तीस जिलों का डाटा सबमिट नहीं हो रहा है मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान में यदि जरा भी इंसानियत बाकी है तो वह संविदा स्वास्थ्य कर्मियों की मांगें पूरी करें। साथ ही उन्हें सम्मान के साथ अस्पतालों में ले जाएं

इस मौके पर राजवीर सिंह लक्की चौबे भव्य सक्सेना डॉ रामबाबू नागर मोहित पटेल जितेंद्र विश्वकर्मा सुयश और सभी संविदा स्वास्थ्य कर्मचारीयों उपस्थित थे 


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post