सफलता का आधारभूत सामान्य गुण समय-प्रबंधन है: सीता पाणीग्राही

टाइम मैनेजमेंट विषय पर कार्यशाला आयोजित 
ग्वालियर । शासकीय महारानी लक्ष्मीबाई कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मुरार  पर *टाइम मैनेजमेंट विषय* पर *कार्यशाला* का आयोजन हुआ।कार्यशाला का उद्घाटन एनसीसी अधिकारी दामिनी देवलिया द्वारा प्रस्तुत औपचारिक स्वागत भाषण से हुआ।
कार्यशाला की *मुख्य अतिथि एवं मुख्य वक्ता* *मोटिवेशनल* *स्पीकर सीता पाणीग्राही* रहीं। उन्होंने छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि कुछ भी करने के लिए समय एक सामान्य आवश्यकता है। आप कितने भी समृद्ध, कुशल, महान या प्रसिद्ध हो जायें, समय का कोष सीमित ही रहता है। आपके दिन में 24 घंटे ही रहने वाले हैं। जो कुछ करना है इन्हीं के कुशल प्रबंधन और सदुपयोग से करना पड़ेगा। समय प्रबंधन सफलता का एक आधारभूत सामान्य गुण है।
धन की बात चलने पर दो मुख्य घटक सामने आते हैं, एक आय बढ़ाने का, दूसरा व्यय घटाने का समय के मामले में इसे बढ़ाना कठिन लगता है लेकिन अपनी कौशल और क्षमता बढ़ाने से यदि आप सामने पड़े कामों को कम समय में कर पाए तो उसका प्रभाव भी एक प्रकार से समय बढ़ाने जैसा ही होगा ।लेकिन व्यय घटाने वाला पक्ष एकदम स्पष्ट और सरल है। उन व्यवधानों का निराकरण कीजिए जो आपके समय को चोरी कर रहे हैं। चोरी से मेरा आशय उन कामों से है जिसमें समय तो बीतता है लेकिन लाभ कुछ भी नहीं होता।उन्होंने छात्राओं को समय प्रबंधन के 6 सूत्र दिए जिनका अनुसरण कर तय लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है।
 पहला - स्कैन योर टाइम
दूसरा -टू डू लिस्ट बनाएं।
तीसरा -रिप्लेस टाइम विद स्पेसिफिक गोल।
 चौथा -परेटो का 80/20 सिद्धांत 
पांचवा -अवॉइड डिस्ट्रक्शन
 छठवा-ड्रॉ कंक्लुजन
 कार्यशाला की अध्यक्षता प्राचार्य विजय कुमार पिपरोलिया द्वारा किया गया। संचालन एनएसएस अधिकारी स्मृति शर्मा एवं आभार कीर्ति पंत ने व्यक्त किया।कार्यशाला में समस्त विद्यार्थी एवं स्टाफ उपस्थित रहे।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post