चीन पर निगरानी, पूर्वी लद्दाख और सिक्किम क्षेत्र में तैनात होगी नई ड्रोन यूनिट


नई दिल्ली । चीन के साथ चल रहे सैन्य गतिरोध के बीच भारत वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर अपनी निगरानी बढ़ा रहा है। पूर्वी लद्दाख सेक्टर और सिक्किम के साथ-साथ आसपास के क्षेत्रों में चीनी सैन्य गतिविधियों पर नजर रखने के लिए उन्नत निगरानी क्षमताओं और लंबे समय तक टिके रहने वाले नए ड्रोन तैनात किए जा रहे हैं। यह ड्रोन लगातार 48 घंटे तक उड़कर मिशन को अंजाम देने में सक्षम हैं।

रक्षा सूत्रों के हवाले से पता चला है कि पूर्वी लद्दाख सेक्टर और सिक्किम के साथ-साथ इसके आसपास के क्षेत्रों में चीनी सैन्य गतिविधियों पर नजर रखने के लिए उन्नत निगरानी क्षमताओं और लंबे समय तक टिके रहने वाले नए ड्रोन तैनात किए जा रहे हैं। ड्रोन की एक स्क्वाड्रन पूर्वी लद्दाख सेक्टर के करीब और दूसरी पूर्व में चिकन नेक सेक्टर के करीब तैनात किये जाने की योजना है। भारतीय सेना ने इन ड्रोन को उपग्रह संचार के साथ लिंक किया है और इनके सेंसर कहीं अधिक उन्नत हैं।
भारतीय सेना पूर्वी लद्दाख से लेकर अरुणाचल प्रदेश क्षेत्र तक एलएसी के पार चीनी सैन्य गतिविधियों पर कड़ी नजर रख रही है। 2020 में गलवान घाटी के हिंसक संघर्ष के बाद भारत ने पूर्वी लद्दाख में चीनियों के मुकाबले लगातार अपनी क्षमताओं को कई गुना बढ़ा लिया है। नए ड्रोन यूनिट की तैनाती इसी रणनीति का एक हिस्सा हैं। यह ड्रोन मारक क्षमताओं से लैस नहीं हैं, लेकिन उनके पास उन मानकों पर अपग्रेड किए जाने का विकल्प है।

इसके अलावा भारत महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट चीता पर भी काम कर रहा है, जिसके तहत सुरक्षा बल इजरायली मूल के हेरोन के अपने मौजूदा बेड़े को बेहतर संचार सुविधाओं और मिसाइलों के साथ अपग्रेड करना चाहते हैं। यह इजरायली ड्रोन लंबी दूरी से दुश्मन के ठिकानों को निशाना बना सकते हैं। इस परियोजना को इजरायली कंपनियों के सहयोग से भारतीय फर्मों के साथ मुख्य भूमिका में पूरा किया जाना था। वायु सेना इस परियोजना में नेतृत्व की भूमिका में है, जिसके तहत नौसेना और सेना में इजरायली ड्रोन को भी स्ट्राइक क्षमताओं और बेहतर निगरानी और टोही पॉड्स के साथ अपग्रेड करने की योजना है।

पूर्वी लद्दाख से लेकर सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश क्षेत्र तक तैनात की गई नई ड्रोन यूनिट को स्नूपिंग क्षमताओं के साथ अपग्रेड किया गया है। इसलिए जमीनी बल भी उन क्षेत्रों में छिपे हुए ठिकानों के बारे में सटीक खुफिया जानकारी हासिल करने में सक्षम होंगे, जहां ऑपरेशन किया जाना है। अपग्रेडेड ग्राउंड स्टेशन इन ड्रोन्स को दूर से संचालित करने और उपग्रह संचार प्रणाली के माध्यम से नियंत्रित करने में भी सक्षम होंगे।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post