पशुधन बीमा योजना के क्रियान्वयन के दिशा निर्देश जारी

भोपाल । मध्यप्रदेश राज्य पशुधन एवं कुक्कुट विकास निगम के अंतर्गत राष्ट्रीय पशुधन मिशन में रिक्स मैनेजमेंट एंड लाइवस्टॉक इश्योरेंस (पशुधन बीमा) योजना के वर्ष 2022-23 में जिले में क्रियान्वयन के दिशा निर्देश जारी किए गए है।

 उप संचालक पशुधन एवं डेयरी ने पशुधन बीमा योजना के जिले में क्रियान्वयन के निर्देश जारी किए है जिसमें योजना के अंतर्गत सभी पशुधन, देशी एवं सकरदुधारू पशु, भारवाही पशु जैसे घोड़ा, गधा, खच्चर, ऊट, ट्टटू, सांड, भैंस पड़ा एवं अन्य पशु भेड़, बकरी, सूकर, खरगोश आदि सम्मिलित किए गए हैं। योजना के अंतर्गत प्रति परिवार एक हितग्राही के पांच पशुओं का बीमा प्रीमियम अनुदान पर बीमा किया जा सकता है लेकिन इसमें भेड़, बकरी, सूकर, खरगोश के लिए दस पशुओं की संख्या को एक केटल इकाई माना गया है। भेड़, बकरी, सूकर, खरगोर का बीमा प्रीमियम अनुदान पर प्रति परिवार एक हितग्राही के अधिकतम 5 केटल यूनिट तक बीमा किया जाना है। परिवार की परिभाषा मनरेगा गारंटी अधिनियम 2005 के अनुसासर रहेगी। 

 उप संचालक ने बताया कि पशुओं का बीमा एक वर्ष, दो वर्ष एवं तीन वर्ष के लिए किया जाएगा। एक वर्ष के लिए बीमा प्रीमियम की दर 3.5 प्रतिशत, 2 वर्ष की अवधि के लिए 6.5 प्रतिशत और 3 वर्ष की अवधि के लिए 9 प्रतिशत दर निर्धारित की गई है। बीमा प्रीमियम पर हितग्राही से सेवा शुल्क नहीं लिया जाएगा। बीमा प्रीमियम पर अनुदान एवं हितग्राही को अंशदान दिया जाएगा। 

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post