मैन्युफैक्चरिंग की दुनिया में भारत की उपलब्धि, 5 अरब डॉलर के आंकड़े को पार कर गया मोबाइल फोन निर्यात

नई दिल्ली । पीएम मोदी ने इस वित्तीय वर्ष के अप्रैल से अक्टूबर में साल दर साल दोगुने से अधिक मोबाइल फोन निर्यात होने पर प्रसन्नता व्यक्त की है। गौरतलब हो, देश में मोबाइल फोन का निर्यात महज 7 महीनों के भीतर 5 बिलियन डॉलर के आंकड़े को पार कर गया है, जो कि पिछले साल की इसी अवधि में भारत के 2.2 बिलियन डॉलर के दोगुने से भी अधिक है।

भारत निर्माण की दुनिया में निरंतर कर रहा प्रगति

बता दें इस वित्त वर्ष में अप्रैल से अक्टूबर के बीच मोबाइल फोन का निर्यात दोगुना से अधिक होकर पांच अरब डॉलर के आंकड़े को पार कर गया है। पिछले वर्ष की इसी अवधि में यह 2 अरब 20 करोड़ डॉलर था।

PM मोदी ने प्रसन्नता की व्यक्त

पीएम मोदी ने देश के मोबाइल फोन निर्यात में बढ़ोतरी को लेकर प्रसन्नता व्यक्त की है। बता दें इस वित्त वर्ष में अप्रैल से अक्टूबर के बीच मोबाइल फोन का निर्यात दोगुना से अधिक होकर पांच अरब डॉलर के आंकड़े को पार कर गया है जबकि पिछले वर्ष की इसी अवधि में यह 2 अरब 20 करोड़ डॉलर था। इस संबंध में इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री राजीव चंद्रशेखर के एक ट्वीट के जवाब में पीएम मोदी ने कहा कि ''भारत विनिर्माण के क्षेत्र में निरंतर प्रगति कर रहा है।''

मौजूदा गति से किस मुकाम पर पहुंचेगा देश ?

यह उम्मीद की जा रही है कि मौजूदा गति से, भारत से निर्यात पूरे वित्त वर्ष 2022 के आंकड़े को दिसंबर की शुरुआत में ही पार कर लिया जाएगा और वित्तीय वर्ष 2023 को यह 8.5-9 बिलियन डॉलर की सीमा को भी पार कर लेगा। वहीं भारत ने वित्त वर्ष 2022 में 5.8 बिलियन डॉलर के मोबाइल फोन का निर्यात किया। यानि इस वित्त वर्ष में अप्रैल से अक्टूबर के बीच मोबाइल फोन का निर्यात दोगुना से अधिक होकर पांच अरब डॉलर के आंकड़े को पार कर गया जबकि पिछले वर्ष की इसी अवधि में ये 2 अरब 20 करोड़ डॉलर था।

भारत के 90% मोबाइल फोन निर्यात में इन बड़ी कंपनियों का योगदान

उत्पादन से जुड़ी प्रोत्साहन योजना यानि PLI द्वारा समर्थित, एप्पल और सैमसंग भारत के मोबाइल फोन निर्यात में 90% से अधिक का योगदान करती हैं। उद्योग निकाय इंडिया सेल्युलर एंड इलेक्ट्रॉनिक्स एसोसिएशन के मुताबिक, जैसे-जैसे निर्यात बढ़ रहा है, भारत ने वित्त वर्ष 2022 में मोबाइल आयात पर निर्भरता को भी लगभग 5 प्रतिशत तक कम कर दिया है, जो 2014-15 में 78% के उच्च स्तर पर था। वहीं अब भारत का लक्ष्य 2025-26 तक 60 बिलियन डॉलर के सेल फोन का निर्यात करना है।

फोन का निर्यात साल दर साल दोगुने से भी ज्यादा

स्पष्ट है कि केंद्र सरकार के प्रयासों से शुरू की गई दूरदर्शी पीएलआई योजना बहुत कारगर साबित हो रही है। इसी से आज देश का मोबाइल फोन निर्यात, 7 महीनों के भीतर $5 बिलियन के आंकड़े को पार कर गया है यह बीते वर्ष इसी अवधि में भारत के $2.2 बिलियन के मोबाइल निर्यात से लगभग दोगुना है।

दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल फोन कंपनियों को किया आकर्षित

उल्लेखनीय है कि भारत सरकार द्वारा शुरू की गई PLI योजना ने पूरी दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल फोन कंपनियों को आकर्षित किया है। इनमें एप्पल जैसी बड़ी कंपनी भी अपने परिचालन का विस्तार करने और भारत में नए आधार स्थापित करने के लिए तैयार नजर आ रही हैं।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post