मथुरा जीआरपी ने जाली नोट छापने वाले गिरोह का सरगना किया गिरफ्तार, 25 हजार का इनामी है रौनक

नकली नोटों को छापने का कार्य करता था, 500 रुपये के 42 जाली नोट एवं अन्य अर्धनिर्मित जाली नोट तथा अन्य उपकरण बरामद

मथुरा, 11 दिसम्बर (हि.स.)। जीआरपी मथुरा जंक्शन द्वारा नोटों की जालसाजी करने वाले संगठित अंतरराज्यीय गिरोह का पर्दाफाश करने के बाद जीआरपी पुलिस ने वाराणसी से गिरोह के सरगना एवं 25 हजार के इनामी रौनक को गिरफ्तार कर मथुरा ले आई है। पुलिस ने उसके कब्जे से 500 के नकली नोट 42, अन्य अर्धनिर्मित जाली नोट तथा अन्य उपकरण बरामद किया है।

रविवार शाम पुलिस अधीक्षक जीआरपी मोहम्मद मुस्ताक एवं पुलिस उपाधीक्षक रेलवे ने बताया कि शुक्रवार को मथुरा रेलवे जंक्शन के प्लेटफार्म नंबर-4 जाली नोटों का अवैध कारोबार करने वाले कलीमुल्ला काजी निवासी सवाई माधोपुर, राजस्थान, मोहम्मद तकीम उर्फ तकी निवासी कोटा, राजस्थान और धर्मेन्द्र निवासी कटिहार, बिहार को पकड़ा था तथा इनके सरगना रौनक रौनक उर्फ मुकेश निवासी वाराणसी की गिरफ्तारी हेतु 25 हजार का इनाम घोषित करते हुए अन्य साथी सनाउल निवासी मालदा, पश्चिम बंगाल, मुस्तफा निवासी मालदा पश्चिम बंगाल, जियाउल निवासी मालदा पश्चिम बंगाल की गिरफ्तारी के लिए आठ टीम गठित की गई, वाराणसी पुलिस के सहयोग से जीआरपी पुलिस ने लगातार छापेमारी के चलते नोट छापने वाले 25000 के इनामी रौनक उर्फ मुकेश उर्फ दीपू पुत्र अमरनाथ निवासी चौबेपुर वाराणसी से गिरफ्तार कर लिया और उसे मथुरा ले आई।
जीआरपी पुलिस के द्वारा पकड़े गए अभियुक्त के आवास से जाली नोट छापने के भारी मात्रा में उपकरण भी बरामद किए गए हैं जिसमें सिक्योरिटी थ्रेड का रोल, एक कंप्यूटर एक यूपीएस एक प्रिंटर हाई क्लास फोर्थ स्टेट की बड़ी मशीन लेमिनेशन मशीन पंचिंग मशीन पेपर कटर फैंसी लाइटर लकड़ी के फ्रेम बोर्ड लकड़ी एवं 500 के 42 जाली नोट एवं अन्य अर्धनिर्मित जाली नोट भी बरामद किए हैं।

पुलिस अधीक्षक जीआरपी मोहम्मद मुस्ताक ने बताया है कि यह एक बड़ा गिरोह है और पकड़ा गया अभियुक्त घर में नोटों की छपाई करता और अन्य सेल्समैनों के माध्यम से कई राज्यों में सप्लाई करता था। पुलिस अधीक्षक मोहम्मद मुस्ताक ने अभी बताया है कि इसके तार अन्य जगहों पर भी जुड़े हो सकते हैं, जिसके लिए गठित टीम है कार्य कर रही है।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post