विश्‍व बैंक ने 2022-23 के लिए भारत की GDP ग्रोथ रेट के अनुमान को बढ़ाकर 6.9 प्रतिशत किया


World Bank: विश्व बैंक ने चालू वित्त वर्ष 2022-23 के लिए भारत के सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी की वृद्धि दर के अनुमान को 6.5 प्रतिशत से बढ़ाकर 6.9 फीसदी कर दिया है। विश्व बैंक की ओर से 6 दिसंबर (मंगलवार) को भारत से संबंधित ‘अपडेट' जारी किया गया है। विश्व बैंक ने ‘अपडेट’ में कहा है कि अमेरिका, यूरो क्षेत्र और चीन के घटनाक्रमों का असर भारत पर भी देखने को मिल रहा है।

की-पॉइंट्स
विश्व बैंक ने भारतीय की GDP ग्रोथ का अनुमान बढ़ाया
पहले इसे 7.1 फीसदी से घटाकर 6.5 फीसदी किया गया था
चालू वित्त वर्ष 2022-23 के लिए भारत की GDP ग्रोथ 6.9 फीसदी रहेगी

विश्व बैंक ने मंगलवार को भरोसा जताया कि भारत सरकार मौजूदा वित्त वर्ष में 6.4 फीसदी के राजकोषीय घाटे के लक्ष्य को हासिल कर लेगी। विश्व बैंक का अनुमान है कि चालू वित्त वर्ष में मुद्रास्फीति 7.1 फीसदी पर रहेगी। गोरतलब है की विश्व बैंक ने पिछले साल अक्टूबर में रूस-यूक्रेन युद्ध और वैश्विक स्तर पर सख्त होती मौद्रिक नीतियों के कारण भारत की विकास दर के अनुमान को घटाकर 6.5 फीसदी किया था, जबकि इससे पहले का अनुमान 7.1 फीसदी था। अब एक बार दोबारा से विश्व बैंक ने इसमें बदलाव करते हुए इसे बढ़ा दिया है।
https://twitter.com/PBNS_India/status/1600048901360271360?s=20&t=Em_k9rvMjzjBWuF0HQ6y7w

भारत पहले से अधिक क्षमतावान

विश्व बैंक के वरिष्ठ अर्थशास्त्री ध्रुव शर्मा ने भारत से संबंधित अर्थव्यवस्था ‘अपडेट' पर कहा है कि आज का भारत 10 साल पहले के भारत से कहीं अधिक क्षमतावान है। उन्होंने कहा कि पिछले 10 साल में जो भी कदम उठाए गए वह आज विपरीत वैश्विक परिस्थितियों में भारत की मदद कर रहे हैं। वर्ल्ड बैंक के एक अन्य अर्थशास्त्री अगस्टे तानो कुआमे ने कहा, ''भारत बहुत महत्वाकांक्षी है, सरकार ने अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए कई काम किए हैं और अर्थव्यवस्था को गतिशील बनाने के लिए तेजी से प्रयास कर रही है।''

विकास दर 7 प्रतिशत रहने का अनुमान- मुख्य आर्थिक सलाहकार

भारत के मुख्य आर्थिक सलाहकार वी अनंथ नागेश्वरन ने कहा है कि भारतीय अर्थव्यवस्था मौजूदा वित्त वर्ष 2022-23 में 6.8 से 7 फीसदी आर्थिक विकास दर को जरूर हासिल करेगा। बीते बुधवार को मुंबई में आयोजित ग्लोबल फिनटेक फेस्ट को संबोधित करते हुए नागेश्वरन ने कहा कि भारत ने हाल ही में ब्रिटेन को पीछे छोड़कर दुनिया की पांचवी बड़ी आर्थिक शक्ति बना है। उन्होंने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था रिकवरी के पथ पर लगातार बना हुआ है। उन्होंने कहा कि वैश्विक संकट के बावजूद त्योहारों के सीजन में जबरदस्त सेल्स, पीएमआई, कर्ज की बढ़ती मांग, और शानदार ऑटो सेल्स का अर्थव्यवस्था को भरपूर फायदा मिला है।

केंद्रीय बैंक RBI का अनुमान

देश के केंद्रीय बैंक RBI का अनुमान है कि भारतीय जीडीपी चालू वित्त वर्ष में 7 फीसदी की रफ्तार से आगे बढ़ेगी। पहले आरबीआई का अनुमान 7.2 फीसदी था जिसे बैंक ने घटाकर कम कर दिया। इससे पहले सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय की ओर से दूसरी तिमाही के लिए जीडीपी के आंकड़े जारी किया गया है जिसके मुताबिक मौजूदा वित्त वर्ष 2022-23 की दूसरी तिमाही जुलाई से सितंबर के बीच देश की अर्थव्यवस्था ने 6.3 फीसदी के दर से विकास किया है। भारत दुनिया में सबसे तेज ग्रोथ रेट वाली अर्थव्यवस्था बना हुआ है। वहीं चीन की वृद्धि दर 2022 की जुलाई-सितंबर तिमाही में 3.9 फीसदी रही है।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post