शिवपुरी : डेढ़ करोड़ की गौशाला बनी, 1000 पशुओं को मिलेगी जगह


अब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह और केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य को बुलाने की योजना

कोलारस विधानसभा के धर्मपुरा में बनी जिले की सबसे बड़ी गौशाला

आवारा घूमने वाले मवेशियों को मिला स्थान

शिवपुरी। जिले के कोलारस विधानसभा क्षेत्र में आने वाले धर्मपुरा परोड़ा के पास डेढ़ करोड़ रुपए की लागत से नई गौशाला बनाई गई है करीब 100 बीघा में बनाई गई इससे गौशाला में 1000 पशुधन को रखने की व्यवस्था होगी। कोलारस विधानसभा क्षेत्र में बनाई गई इस गौशाला के निर्माण में स्थानीय विधायक वीरेंद्र रघुवंशी के साथ और भी कई जनप्रतिनिधि व समाजसेवी आगे आकर इस गौशाला निर्माण में अपनी भूमिका निभाई है। जिला प्रशासन की ओर से मनरेगा और पंचायत के बजट से इस गौशाला का निर्माण किया गया है। चारा आदि के लिए स्थानीय लोग व समाजसेवी भी आगे आए हैं। धर्मपुरा में गौशाला बनकर तैयार हो गई है और इसमें वर्तमान में 1000 से ज्यादा गौवंश रखा गया है।

आवारा घूमने वाले मवेशियों को मिला स्थान-

कोलारस विधानसभा क्षेत्र के धर्मपुरा में बनाई गई इस गौशाला में आवारा घूमने वाले पशुओं को गोशाला में स्थान दिया गया है। पिछले दिनों कोलारस, लुकवासा, बदरवास और आसपास के इलाकों से इस गौशाला में आवारा पशुओं को जांच शिफ्ट किया गया है। वर्तमान में यहां 1000 से ज्यादा पशुधन है जिनकी देखभाल का काम गौशाला प्रबंधन समिति द्वारा किया जा रहा है। प्रबंधन समिति द्वारा यहां पशुओं को चारा उपलब्ध कराने एवं अन्य सुविधाओं के लिए व्यवस्था की गई है। गौसेवा का भाव रखने वाले स्थानीय लोग भी यहां पर सेवा करने के लिए व पशुओं को चारा देने के लिए आ रहे हैं। एक स्थानीय नागरिक एसकेएस चौहान ने बताया कि पूरे जिले में इतनी बड़ी गौशाला नहीं है। यहां पर अच्छी तरह से गौधन की सेवा की जा रही है। हमारी मांग है कि जिले में और भी स्थानों पर इस तरह की गौशालाओं का निर्माण होना चाहिए।

सबसे बड़ी गौशाला अब सीएम शिवराज और केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य बुलाने की योजना-
  
धर्मपुरा में जिले की सबसे बड़ी गौशाला बनाई गई है जिसमें 1000 पशुधन वर्तमान में मौजूद है। गौशाला के संचालन की समिति बनाई गई है जिसमें स्थानीय जनप्रतिनिधियों के अलावा समाजसेवी संस्थाओं के पदाधिकारियों को रखा गया है इसके अलावा पशुपालन विभाग के अधिकारी भी इसमें शामिल हैं। संचालन समिति से जुड़े कोषाध्यक्ष यशपाल रावत ने बताया कि जिले की सबसे बड़ी गौशाला के निरीक्षण और संचालन की देखरेख को लेकर हम यहां मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को गौशाला का निरीक्षण कराने की योजना है। उन्होंने बताया कि यहां पर जो जमीन है वहीं पर चारा उत्पादन का लक्ष्य भी रखा गया है। संचालन समिति के राजू रघुंवशी का कहना है कि यह गौशाला जिले की सबसे बड़ी गौशाला है। यहां पर चारे के अलावा पानी सहित अन्य टीन शेड व व्यवस्थाएं की गई हैं।




0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post