करोड़ों रुपए की शासकीय भूमि पर काटे जा रहे हैं प्लाट, प्रशासन क्यूं है मौन

भोपाल। बागसेवनिया क्षेत्र में बिल्डर द्वारा शासकीय भूमि पर प्लाट काटकर बेचने कार्य किय जा रहा है। इसमें राजस्व निरीक्षक व पटवारी के द्वारा सांठ गांठ कर करोड़ों रुपए की भूमि पर कब्जा करवाया जा रहा है जिसकी जानकारी तहसील करीले से छुपाई जा रही है। कोलार तहसील में भ्रटाचार चरण सीमा पर पहुंच रहा है। अभी कुछ दिन पहले एसडीएम के द्वारा बिना कोई दस्तावेज व सुनवाई के एक आवेदन पर ही मकान खाली करने का आदेश कर दिया गया । जिससे उनका स्थानांतरण कर दिया गया। वहीं अब नए मामले सामने आने शुरू हो गए हैं। इस तहसील में शासकीय भूमि को बेचने का काम खूब फलफूल रहा है। सूत्रों से प्राप्त जानकारी अनुसार कोलार तहसील की बाग सेवनिया क्षेत्र में करोड़ों रुपए की शासकीय भूमि पर धड़ल्ले से प्लाटिंग की जा रही है जिसे मन माफिक कीमत पर बेचा जा रहा है यह सब वहीं के भूमाफिया व बिल्डर द्वारा किया जा रहा है । जब सकी भनक तहसील कार्यालय में पदस्थ अधिकारियों को भी नहीं लगी है। इसका प्रमुख कारण उक्त क्षेत्र के राजस्व निरीक्षकों द्वारा बिल्डर से सांठ गांठ होना बताया जा रहा। है। इस जमीन पर सौम्या होम्स द्वारा मार्वेल होम्स के नाम से एम्स जाने वाले मार्ग पर कॉलोनी काटी जा रही है। .जिन्हे बिना किसी प्रशासन के डर बेचा जा रहा है और संजय सिन्हा बिल्डर द्वारा भेल द्वारा शासन को प्रदान कि गई जमीन पर प्लाट काटकर बेचना शुरू कर दिया है। उक्त भूमि के पास हाउसिंग सोसाइटी की जमीन लगी हुई है जिस पर 2 महिने पहले फ़सल खड़ी हुई थी। किन्तु आज बेरियर लगा दिया गया है वहीं पक्की सड़क बना दी गई है। साथ ही उक्त भूमि पर कॉलोनी का नाम भी लिख दिया गया है।. कॉलोनी का गेट व दीवार शासकीय भूमि पर बनाई गई है। इस मामले में तहसील में पदस्थ राजस्व निरीक्षकों की सांठ गांठ है। इस तरह से सिर्फ निजी लाभ के चलते यह राजस्व निरीक्षक व पटवारी करोड़ों रुपए की शासकीय भूमि का बंदरबांट करवा रहे हैं। जब राजधानी में यह हाल है तो फिर अन्य जिलों में शासकीय भूमि का क्या हाल होगा।
00000p

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post