टेस्टबुक.कॉम पर 9 महीनों में नाम दर्ज करने वालों की संख्या 8 गुना बढ़ी और आय में हुई 4 गुना वृद्धि


यह स्टार्ट-अप अनेक भाषाओं अपनी सुविधाएं मुहैया कर रहा है, हर दिन शामिल हो रहे 20,000 से ज्यादा छात्रों की मांगें पूरी करने के लिए टीम में 275 अधिक सदस्यों को किया भर्ती
मुंबई। टेस्टबुक.कॉम, यह शिक्षा प्रौद्योगिकी प्लेटफॉर्म, भारत में सार्वजनिक क्षेत्र की नौकरियों के लिए परीक्षाओं की तैयारी को प्रौद्योगिकी से प्रभावित, स्वचालित प्रणाली में परिवर्तित करने के उद्देश्य से शुरू किया गया है, जहाँ छात्र अपनी गति से सीख सकते हैं। वैश्विक महामारी के बाद, अप्रैल 2020 से दिसंबर 2020 तक टेस्टबुक.कॉम पर लाइव कोर्स में नाम दर्ज करवाने वालों की संख्या में 8 गुना वृद्धि हुई है। जिन्होंने शुल्क का भुगतान किया है ऐसे सक्रिय सब्सक्राइबर्स की संख्या ऊँची छलांग लगाते हुए  4.9 लाख से बढ़कर 8 लाख हो गई।  इस स्टार्टअप के मासिक राजस्व में 4 गुना वृद्धि दर्ज की गई है और 50 करोड़ रुपये की वार्षिक राजस्व दर के साथ पिछले चार महीनों के दौरान 3.8 लाख से अधिक लेनदेन हुए हैं।
टेस्टबुक.कॉम पर सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों में 250 से अधिक नौकरियों की तैयारी के लिए 250 से अधिक ऑनलाइन पाठ्यक्रम और 13,000 से अधिक मॉक टेस्ट्स चलाए जाते हैं। देश भर से 20,000 से अधिक नए शिक्षार्थी टेस्टबुक.कॉम से जुड़ रहे हैं. यहाँ हर दिन लाइव-कोचिंग के साथ संपूर्ण शिक्षा और मूल्यांकन की सुविधा प्रदान की जाती है। टेस्टबुक.कॉम ने अपने यूज़र्स की बढ़ती हुई मांगों को पूरा करने के लिए अप्रैल से दिसंबर 2020 के दौरान अपनी टीम में 275 और सदस्यों को भर्ती किया है।
इस स्टार्ट-अप ने अपना कन्टेन्ट अनेक भाषाओं में प्रदान करना शुरू किया है और मांग बढ़ने के कारण महामारी के दौरान अपनी टीम को दोगुना कर दिया है। टेस्टबुक.कॉम ने मात्र 1/10 डेटा का इस्तेमाल करते हुए लाइव वीडियो लेक्चर्स की स्ट्रीमिंग बिना किसी रूकावट के हो इसलिए अपनी प्रौद्योगिकी बनायीं है। नतीजतन, टेस्टबुक.कॉम वीडियो देखे जाने की अवधि 65% से बढ़ गई है और वर्तमान में  यह अवधि एक महीने में करीबन 10 करोड़ मिनटों तक पहुँच चुकी है। टेस्टबुक.कॉम पर सशुल्क सब्स्क्रिप्शन्स दिए जाते हैं, जिससे छात्रों को अपनी नियमित पढ़ाई के साथ-साथ नौकरी के लिए एक ही जगह पर पूरी पढ़ाई की सुविधा मिलती है।
टेस्टबुक.कॉम के संस्थापक और सीईओ श्री आशुतोष कुमार ने कहा, “जब लॉकडाउन की घोषणा की गई और सभी सरकारी परीक्षाओं को रद्द कर दिया गया उस समय सरकारी नौकरी की तैयारी में बड़ी गिरावट आई। हमारे राजस्व में भी गिरावट आई थी, लेकिन हमने छात्रों को वन-स्टॉप प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराया, जहाँ लाइव कोचिंग, ऑनलाइन पाठ्यक्रम, मॉक टेस्ट्स और शंकाओं, सवालों के निवारण में समर्थन के साथ छात्रों को संपूर्ण, व्यापक पढ़ाई की सुविधा मिलती है और इससे हम फिर एक बार लक्षणीय वृद्धि हासिल कर पाए। टेस्टबुक ऐप की गूगल प्ले रेटिंग 4.6 है जो मौजूदा एडटेक ऐप्स में सबसे अधिक है, हर महीने 10 लाख लोग यह ऍप इंस्टॉल करते हैं और अब तक कुल 1.8 करोड़ इंस्टॉलेशन्स किए गए हैं।
टेस्टबुक.कॉम पर छात्रों को 8000 से अधिक वीडियो व्याख्यान, 50,000 प्रश्न, और 500 मॉक टेस्ट्स तक मुफ्त और असीमित पहुँच मिलती है, जिससे वे  किसी भी समय सीख और अभ्यास कर सकते हैं। छोटे शहरों के छात्रों की सुविधा के लिए टेस्टबुक.कॉम ने 'टेस्टबुक पास' बनाया है, यह एक विशेष कोड पर आधारित ऑफलाइन वाउचर है। यह एक प्रकार का सब्सक्रिप्शन है, जिसके जरिए छोटे शहरों में रहने वाले छात्र 250 से ज्यादा ऑनलाइन पाठ्यक्रम और 13,000 से ज्यादा मॉक टेस्ट्स का लाभ बहुत ही किफायती कीमत पर उठा सकते हैं। 60 से अधिक शहरों में फैले हुए 250 से अधिक चैनल भागीदारों के वितरण नेटवर्क के माध्यम से यह ऑफ़लाइन वाउचर्स छात्रों तक पहुँचाये जाते हैं। 
छात्रों के लिए शिक्षा को और भी प्रभावी बनाने के लिए पाठ्यक्रमों के साथ पढ़ने का काम, अभ्यास प्रश्न और समय-समय पर होने वाली परीक्षाओं को भी इसमें शामिल किया गया है। तुलनात्मक प्रदर्शन विश्लेषण छात्रों में पढ़ाई के प्रति अनुकूलन और प्रोत्साहन प्रदान करता है।
टेस्टबुक.कॉम को जनवरी 2020 में मैट्रिक्स पार्टनर्स, आयरन पिलर, एंजेलिस्ट इंडिया और बेटर कैपिटल से $ 8.3 मिलियन की सीरीज़ बी फंडिंग मिली है। एस चंद पब्लिशर्स और एंजेलिस्ट के उत्सव सोमानी ने इस स्टार्टअप में उसके शुरूआती वर्षों में निवेश किया था।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post