स्वास्थ्य कर्मियों का मुख्यालय पर रहना सुनिश्चित होगा

गांव में ही अधिकतम स्वास्थ्य सेवाएं देने पर फोकस

भोपाल । कमिश्नर कवीन्द्र कियावत ने सीएमएचओ को निर्देश दिए हैं कि वे ग्रामीण क्षेत्रों में स्थापित सभी तरह के स्वास्थ्य केन्द्रों पर अमले का मुख्यालय पर रहना सुनिश्चित करने के साथ ही उपलब्ध सुविधाओं को जनउपयोगी बनाना सुनिश्चित करें जिससे ग्रामीण को अधिकतम स्वास्थ्य सुविधाएं और संस्थागत प्रसव की सुविधा गांव में ही उपलब्ध हो सके । श्री कियावत और कलेक्टर अविनाश लवानिया ने खजूरी सड़क आरोग्य केन्द्र के अलावा तूमड़ा, मुगालिया छाप और रातीबड़ के उप स्वास्थ्य केन्द्रों का निरीक्षण किया । 

 श्री कियावत ने सभी केन्द्रों पर स्वास्थ्य संसाधन होने के बावजूद मरीजों को उचित परामर्श और उपचार नहीं मिल पाने को गंभीरता से लिया । स्वास्थ्य अमले के मुख्यालय पर नहीं रहने के कारण भी ग्रामीणों को उपचार के लिए शहर आना पड़ता है । श्री कियावत ने मुख्यालय पर नहीं रहने वाले डाक्टर्स और स्टाफ नर्स को चेतावनी दी है कि वे मुख्यालय पर निवास करें अन्यथा उन्हें निलंबित भी किया जा सकता है । कमिश्नर ने इस दौरान खजूरी सड़क आरोग्य केन्द्र में आवश्यक बदलाव करने के लोक निर्माण विभाग के अधिकारी को निर्देश दिए । 

 तूमड़ा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में भवन को व्यवस्थित करने के साथ ही उपलब्ध संसाधनों को आगामी 3 दिवस में उपयोगी बनाया जायेगा और डाक्टर्स भी यहां निवास करना सुनिश्चित करेंगे । कमिश्नर ने यहां ओपीडी और संस्थागत प्रसव की कम संख्या पर अप्रसन्नता व्यक्त की । उन्होंने निर्देश दिए कि स्थानीय निवासियों को अस्पताल का भ्रमण कराकर उपलब्ध स्वास्थ्य सेवाओं से अवगत कराया जाए । 

 मुगालिया छाप उप स्वास्थ्य केन्द्र भवन के उन्नयन का भी जायजा लिया गया । श्री कियावत ने भवन का सभी निर्माण आगामी 10 दिवस में पूर्ण कर केन्द्र से उपचार सेवाएं प्रारंभ करने के निर्देश दिए । उन्होंने भवन के आसपास से अतिक्रमण हटाने, बाउंड्री वाल निर्माण और पार्क विकसित करने के निर्देश भी दिए । सीएमएचओ से कहा गया है कि वे आवश्यक उपकरण और अन्य सामग्री भी उपलब्ध कराएं । ग्रामीणों से चर्चा के दौरान पेयजल आदि की आपूर्ति व्यवस्थित करने के सीईओ जनपद पंचायत को निर्देश दिए गए । 

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post