उन्नत खेती, समृद्ध किसान, आत्मनिर्भर भारत की पहचान


युवा संसद में प्रतिभागियों ने व्यक्त किए विचार

वर्चुअल हुई जिला युवा संसद में 6 जिलों के प्रतिभागियों ने चयनित विषयों पर रखी बात
भोपाल । राष्ट्र निर्माण एवं नीति निर्धारण में युवाओं की भूमिका सुनिश्चित करने के उद्देश्य से युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा नेहरू युवा केंद्र एवं राष्ट्रीय सेवा योजना के माध्यम से जिला, राज्य एवं राष्ट्रीय स्तर पर नेशनल यूथ पार्लियामेंट फेस्टिवल 2020 का आयोजन किया जा रहा है, इस कड़ी में भोपाल में जिला स्तरीय युवा संसद प्रतियोगिता का आयोजन नेहरू युवा केंद्र कार्यालय, भोपाल में वर्चुअल माध्यम में किया गया। प्रतियोगिता का उद्घाटन करते हुए अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक मनीष शंकर शर्मा ने सभी प्रतिभागियों को शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि राष्ट्र निर्माण में युवाओं की भूमिका महत्वपूर्ण है, इस हेतु सभी युवाओं को प्रयासरत रहना चाहिए। युवा संसद के माध्यम से युवा लोकतांत्रिक प्रक्रिया को समझ पाएंगे।  

निर्णायक के रूप में साहित्यकार एवं प्राध्यापक डॉ सुधीर शर्मा,  वक्ता शुभम चौहान, स्टेट अवार्डी हर्षा हासवानी, अंतर्राष्ट्रीय कलाकार नीता दीप बाजपेयी एवं युवा पत्रकार एवं सामाजिक कार्यकर्ता सुनील कुमार साहू उपस्थित रहे। स्वागत उद्बोधन एवं रुपरेखा जिला युवा अधिकारी डॉ सुरेंद्र शुक्ला एवं अध्यक्षीय उद्बोधन राज्य निदेशक आरएन त्यागी ने दिया।

राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर बात रखते हुए प्रतिभागी आशुतोष मालवीय ने कहा कि यह नीति भारत के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगी इससे भारत दुनिया में ज्ञान के एक महान केंद्र और शिक्षा गंतव्य के रूप में उतरेगा इसमें पढ़ने के बजाय सीखने पर जोर दिया गया यह देश को आत्मनिर्भर बनाने में मददगार होगी।


उन्नत भारत अभियान पर बात रखते हुए सोनाली चौहान ने कहा कि इस अभियान के माध्यम से गांव में रहने वाले लोगों को शिक्षा प्रदान की जाएगी देश के उच्च शिक्षण संस्थान के लोग जब गांव में जाएंगे तो निश्चित ही म नई तकनीक से गांव के लोग और कुशल बनेंगे। 
उन्नत भारत के समग्र विकास में यह अभियान मददगार साबित होगा।


नई परिदृश्य में ग्रामीण अर्थव्यवस्था विषय पर बात रखते हुए अभिलाष ठाकुर ने कहा कि भारत के समग्र विकास में शुरू से ही ग्रामीण अर्थव्यवस्था का महत्वपूर्ण योगदान रहा है यदि कृषि उत्पादों की बाजार तक पहुंच पर्याप्त ऋण व्यवस्था वेयरहाउस कोल्ड स्टोरेज उपलब्धता जैसे सुधारों पर ध्यान दिया जाए तो इससे ग्रामीण अर्थव्यवस्था में और सुधार आएगा।

प्राकृतिक खेती किसानों के लिए एक वरदान विषय पर बात रखते हुए अर्पिता रघुवंशी ने कहा कि जैविक खेती के माध्यम से हम ना केवल कृषि उत्पादकता को बढ़ाने में मददगार होंगे बल्कि पर्यावरण सुधार और ग्रामीण अर्थव्यवस्था को भी मजबूत बना सकते हैं।

*भोपाल में शामिल हुए 06 जिलों के युवा*

जिला युवा अधिकारी डॉ.सुरेंद्र शुक्ला ने बताया कि भोपाल में आयोजित हुई युवा संसद में विदिशा, सीहोर, रायसेन, राजगढ़, अशोकनगर एवं भोपाल के 18 से 25 वर्ष के युवाओं ने भारत सरकार द्वारा निर्धारित विषय- 
1.राष्ट्रीय शिक्षा नीति: 2020 भारत की शिक्षा में परिवर्तन लाएगी। 
2.उन्नत भारत अभियान: समुदाय की शक्तियों को बढ़ावा देना और उनके उत्थान के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग करना।
3.नये परिदृश्य में ग्रामीण अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाना।
4.शून्य बजट वाली प्राकृतिक खेती किसानों के लिए वरदान। पर बात रखी।

इस प्रतियोगिता में 6 जिलों के सर्वश्रेष्ठ दो-दो वक्ताओं का चयन किया गया, जिनमें से प्रथम, द्वितीय प्रतिभागी राज्य स्तरीय युवा संसद व राज्य स्तर पर प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त प्रतिभागी नई दिल्ली में आयोजित होने वाली राष्ट्रीय युवा संसद में सहभागिता करेंगे।

 2 लाख प्रथम पुरस्कार

राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित होने वाली प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पुरस्कार 02 लाख, द्वितीय पुरस्कार 1.5 लाख एवं तृतीय 01 लाख रुपए है।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post